दिमाग को करना है तेज तो करें शारीरिक व्यायाम 

Published Date 2018/06/08 05:16, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली। आज के भाग दौड भरी जिन्दगी में हमें हर बात याद नहीं रहती। दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए दिमागी कसरत और व्यायाम का होना बहुत जरूरी होता है। साथ ही स्वस्थ मस्तिष्क व मांसपेशियों के लिए पैरों की कसरत करना ज्यादा जरूरी है। एक नए शोध में पता चला है कि मांसपेशियों से जुड़ा स्वास्थ्य पैरों द्वारा दिमाग को भेजे जाने वाले संकेतों पर निर्भर करता है।

शोध के परिणामों में पता का चला है कि मोटर न्यूरॉन बीमारी, मल्टीपल स्क्लेरोसिस, स्पाइनल मस्कुलर एट्रोफी व तंत्रिका तंत्र से जुड़ी बीमारियों में मरीजों के स्वास्थ्य में तेजी से गिरावट क्यों नजर आती है। बिना कसरत के इन बीमारियों के मरीजों में चलने की गतिविधि सीमित हो जाती है। शारीरिक व्यायाम कम होने से शरीर को नई मांसपेशियों और कोशिकाओं के उत्पादन में दिक्कत होती है। यह तंत्रिका कोशिकाएं व्यक्ति को तनाव व जीवन की चुनौतियों से मुकाबले में मदद करती हैं।

इटली के मिलान विश्वविद्यालय की शोधकर्ता के अनुसार  "जो लोग वजन उठाने वाले व्यायाम करने में असमर्थ हैं, या बिस्तर पर पड़े मरीज अथवा लंबी यात्रा के अंतरिक्ष यात्री उनमें न सिर्फ मांस पेशियों का भार घटता है, बल्कि कोशिकीय स्तर पर उनके शरीर की केमिस्ट्री में बदलाव हो जाता है। यहां तक कि उनके तंत्रिका तंत्र पर विपरीत प्रभाव पड़ता है।" इस लिए तनाव दूर रखने के लिए और दिमाग को तेज करने के लिए व्यायाम करना चाहिए।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------