दिल्ली हाईकोर्ट में हुई राम जेठमलानी और अरुण जेटली के बीच दिलचस्प बहस

Published Date 2017/03/07 12:40, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली। वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी और देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली के बीच कल दिल्ली हाई कोर्ट में बेहद दिलचस्प बहस देखने को मिली। भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली और भाजपा से निष्कासित नेता राम जेठमलानी के बीच हुई इस बहस में जेठमलानी ने अपने अंदाज़ में जेटली से कई तीखे सवाल पूछे और उनकी 'महानता' पर सवाल खड़े किए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ़ मानहानि मुकदमे के मामले में जेठमलानी ने जेटली से तल्ख सवाल किए, जिस पर अरुण जेटली अपना पक्ष रखा।


केजरीवाल की पैरवी कर रहे जेठमलानी ने राम जेठमलानी ने कोर्ट में जेटली के लिए 52 सवाल रखे। इनमें से 30 केस से जुड़े सवाल लगे, जबकि 8-9 सवालों को कोर्ट की तरफ़ से खारिज कर दिया गया। करीब दो घंटे तक चली इस बहस में जेटली को यह समझाने के लिए कहा गया कि वह किस तरह से कह रहे हैं कि उनकी प्रतिष्ठा को जो ठेस पहुंची 'उसकी भरपाई नहीं हो सकती? कहीं यह मामला 'खुद को महान समझने' का तो नहीं है?


दिल्ली हाइकोर्ट में वित्त मंत्री अरुण जेटली अपना पक्ष रखते हुए कई बार भावुक हुए। जेटली ने कहा कि मैंने अपने पूरे राजनीतिक जीवन में कभी भी राजनीतिक आलोचना को लेकर कुछ भी नहीं कहा। लेकिन, इस बार मुझे अदालत में आकर मानहानि का मुकदमा करना पड़ा, क्योंकि इस बार मेरी निष्ठा और सच्चाई पर सवाल खड़े किये गये।


इस दौरान एक समय ऐसा भी आया, जब जेठमलानी ने कोर्ट में डिक्शनरी निकाल ली और जेटली से पूछा कि 'गुडविल' और 'रेप्युटेशन' में क्या फर्क होता है? हालांकि कोर्ट ने जेठमलानी को इसके आगे कुछ भी पूछने से रोक दिया। जेठमलानी ने जेटली से कहा, 'आप बताएं कि कैसे आपके सम्मान को पहुंची चोट की भरपाई नहीं हो सकती और यह नुकसान मापे जाने योग्य नहीं है।' 


जेठमलानी ने आगे कहा, 'क्या आपके सम्मान को पहुंची चोट का मामला, महानता के आपके निजी एहसास से तो नहीं जुड़ा है?' जवाब में जेटली ने कहा, 'मेरी नज़र में मेरी प्रतिष्ठा मेरे दोस्तों, शुभचिंतकों और अन्य लोगों से जुड़ी हुई है। उन्होंने इस बारे में निजी तौर पर भी और मीडिया में भी अपनी राय ज़ाहिर की है।'


जेठमलानी ने वित्त मंत्री और सीनियर एडवोकेट अरुण जेटली के अंग्रेजी और सिविल लॉ के ज्ञान पर भी अंगुली उठा दी। हालांकि अदालत ने जेठमलानी के सवाल को अस्वीकार कर दिया था। गौरतलब है कि जेटली ने केजरीवाल तथा आम आदमी पार्टी के पांच अन्य नेताओं पर मानहानि का मुकदमा दायर करके 10 करोड़ रुपये हर्जाने की मांग की है।

 

New Delhi, Delhi High Court, Ram Jethmalani, Arun Jaitley, Arvind Kejriwal, Manish Sisodia

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------