मृतक बजरंग सिंह नरूका रेलवे से रिटायर्ड से थे और रेलवे में चर्चित कर्मचारी नेता भी रहे थे। बजरंग सिंह नरूका और उनकी पत्नी की गला रैत कर नृशंस हत्या कर दी गई। इसके बाद पुलिस हर एंगल से जांच मे जुट गई। पुलिस को यह भी पता चला है कि बजरंग सिंह ब्याज पर पैसा भी दिया करते थे। जिन—जिन लोगों ने उनसे ब्याज पर उधारी ली थी, उनसे भी पुलिस पूछताछ कर चुकी है, लेकिन पुलिस हत्यारें का सुराग नहीं लगा सकी है और न ही यह पता लगा सकी है कि आखिर की वजह क्या रही।

इस दोहरे हत्याकांड की सनसनीखेज गुत्थी को सुलझाने में शहर के 10 थानों से ज्यादा की पुलिस लगी हुई थी, लेकिन नतीजा हाथ नहीं लगा। इस साल कोटा पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठा, लेकिन अब कोटा पुलिस से उम्मीद की जानी चाहिए कि नरूका दंपति हत्याकांड को जल्द पुलिस खोले और कातिल सलाखों के पीछे हो।

", "sameAs": "http://www.firstindianews.com/news/kota-double-murder-case-is-still-unsolved-mystery-for-police-747068924", "about": [ "Works", "Catalog" ], "pageEnd": "368", "pageStart": "360", "name": "कोटा : 2017 में साल का सबसे बड़ा हत्याकांड पुलिस के लिए रहा अनसुलझी गुत्थी", "author": "FirstIndia Correspondent" } ] }

कोटा : 2017 में साल का सबसे बड़ा हत्याकांड पुलिस के लिए रहा अनसुलझी गुत्थी

Published Date 2017/12/28 03:49, Written by- FirstIndia Correspondent

कोटा। साल 2017 का कलेंडर अब बस कुछ ही दिनों के बाद खत्म होने वाला है, जिसके साथ ही नए साल 2018 की नई सुबह शुरू हो जाएगी। इस साल में राजस्थान के कोटा में भी कई घटनाएं सामने आई, जिनमें कई घटनाओं ने सुर्खियों में जगह हासिल की। इन्हीं में से एक घटना जो कोटा में इस साल की सबसे घटना बनी, लेकिन यह घटना पुलिस के लिए अभी तक एक अनसुलझी गुत्थी बनी है।

कोटा में इस साल जुलाई महीने में हुए दंपति हत्याकांड की गुत्थी पुलिस के लिये अनसुलझी ही साबित हुई। कोटा के सबसे बड़े और ब्लाइंड मर्डर को लेकर पुलिस ने हर तरह से तफ्तीश की, लेकिन इस साल पुलिस हत्याकांड की परतें खोलने में नाकामयाब रही। पुलिस ने एक या दो नहीं, बल्कि सैंकड़ों संदिग्धों से पूछताछ की, लेकिन इसके बाद भी हत्यारे पुलिस की पकड़ से दूर हैं। पुलिस के हाथ ऐसा कोई सबूत भी नहीं लगा, जिससे पुलिस आरोपी तक पहुंच सके, और न ही पुलिस यह पता लगा सकी है कि आखिर हत्या की वजह क्या रही होगी।

दरअसल, कोटा के स्टेशन इलाके में 15 जुलाई की रात करीब डेढ़ बजे हुए एक दंपति के दोहरे हत्याकांड ने इलाके में सनसनी फैला दी थी। हत्या के चंद पलों बाद ही इलाके के लोगों और पुलिस को हत्याकांड के बारे में पता चल गया था। देर रात को हुए इस हत्याकांड के बाद पुलिस ने मकान और इलाके के चप्पे—चप्पे छान मारा। वहीं तब से लेकर अब तक इन चार महिनों मे पुलिस 300 से ज्यादा लोगों से पूछताछ कर चुकी है। 

मृतक बजरंग सिंह नरूका रेलवे से रिटायर्ड से थे और रेलवे में चर्चित कर्मचारी नेता भी रहे थे। बजरंग सिंह नरूका और उनकी पत्नी की गला रैत कर नृशंस हत्या कर दी गई। इसके बाद पुलिस हर एंगल से जांच मे जुट गई। पुलिस को यह भी पता चला है कि बजरंग सिंह ब्याज पर पैसा भी दिया करते थे। जिन—जिन लोगों ने उनसे ब्याज पर उधारी ली थी, उनसे भी पुलिस पूछताछ कर चुकी है, लेकिन पुलिस हत्यारें का सुराग नहीं लगा सकी है और न ही यह पता लगा सकी है कि आखिर की वजह क्या रही।

इस दोहरे हत्याकांड की सनसनीखेज गुत्थी को सुलझाने में शहर के 10 थानों से ज्यादा की पुलिस लगी हुई थी, लेकिन नतीजा हाथ नहीं लगा। इस साल कोटा पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठा, लेकिन अब कोटा पुलिस से उम्मीद की जानी चाहिए कि नरूका दंपति हत्याकांड को जल्द पुलिस खोले और कातिल सलाखों के पीछे हो।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------