मॉडर्न लुक के लिए खर्च किए 1.5 करोड़ रुपए, अभी भी मुंह चिढ़ा रहा राजकीय संग्रहालय

Published Date 2018/03/10 03:03, Written by- FirstIndia Correspondent

जैसलमेर। पर्यटन नगरी जैसलमेर में जहां सीजन के दौरान हर पर्यटन स्थल पर भीड़ रहती है, वहीं राजकीय संग्रहालय सैलानियों को तरसता नजर आ रहा है। जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते संग्रहालय की तरफ सैलानी आकर्षित नहीं हो रही है। कई सालों से उपेक्षा झेल रहे संग्रहालय को नया व मॉर्डन लुक देने के लिए गत साल सरकार ने डेढ़ करोड़ रुपए भी खर्च किए गए, लेकिन हालात जस के तस है और संग्रहालय में सैलानी नजर ही नहीं आ रहे हैं।

जानकारी के अनुसार, एक साल तक संग्रहालय को बंद रखा गया और इसका रिनोवेशन करवाया गया। अगस्त माह में इसे फिर से सैलानियों के लिए खोल दिया गया। सात माह हो गए और इस दौरान जैसलमेर में करीब 5 लाख सैलानी आए, मगर संग्रहालय देखने केवल 1605 सैलानी ही पहुंचे। इतना ही नहीं, रिनोवेशन पर डेढ़ करोड़ रुपए खर्च किए और सात माह में कमाई 31 हजार रुपए। यह तो यहां तैनात एक कर्मचारी की महीने की तनख्वाह से भी कम है।

राजकीय संग्रहालय की दुर्दशा का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जैसलमेर में सालाना 4 से 5 लाख सैलानी आते हैं और इनमें से औसतन केवल 2 हजार सैलानी ही वर्षभर में राजकीय संग्रहालय को देखने जाते थे। वर्तमान में भी हालात यही है। इतना कुछ करने के बाद भी यहां सैलानियों की आवक में इजाफा नहीं हुआ है।

अधिकारियों के अनुसार, वे समय समय पर प्रयास करते हैं कि सैलानी अधिक आए, लेकिन स्वर्णनगरी के गाइड व संग्रहालय मंग सैलानियों को भेजने के लिए सपोर्ट नहीं करते। उन्हें अन्य निजी संग्रहालयों में कमीशन मिलता है, जिसके चलते वे सैलानियों को वहीं ले जाते हैं।

हालांकि अधिकारियों का ये भी कहना है कि गत वर्षों की तुलना में थोड़े बहुत सैलानी जरूर बढ़े हैं। हमारा प्रयास है कि पर्यटन व्यवसायियों से इस संबंध में समय समय पर चर्चा की जाकर अधिक से अधिक सैलानियों को संग्रहालय तक लाया जाए। पहले से काफी बेहतर संग्रहालय बन चुका है। जो सैलानी आ रहे हैं, उनको पसंद भी आ रहा है। धीरे धीरे इसका प्रचार होगा और फिर सैलानियों की आवक बढ़ेगी।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in


loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------