किसानों के लिए सिर्फ बातें नहीं, बल्कि काम करके दिखाया : राजे

Dinesh Kumar Dangi Published Date 2017/11/07 06:40

उदयपुर। किसानों का महाकुंभ ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट 'ग्राम' का भव्य शुभारम्भ आज झीलों की नगर उदयपुर में किया गया। तीन दिन चलने वाले 'ग्राम' का उद्घाटन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेन्द्र सिंह ने किया। इस मौके पर सीएम राजे ने कहा कि सरकार अन्नदाताओं की तरक्की के लिए प्रयासरत है। इसके लिए नवाचारों और उनकी उपज का उचित मूल्य देने के लिए संकल्पबद्ध है।

राजे ने कहा कि किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कीन्वा, जैतून और ड्रेगन फ्रूट की खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। राजे ने कहा कि हमने कांग्रेस की तुलना में किसानों के लिए सिर्फ बातें नहीं की, बल्कि काम करके दिखाया है। हमने साढ़े तीन साल में ही किसानों को 55 हजार ब्याज मुक्त लोन दे दिया है, जबकी कांग्रेस ने पांच साल में महज पच्चीस हजार करोड़ लोन दिया था। राजे ने कहा कि मेवाड़ में जैविक खेती और लघुवन उपज को बढ़ावा देने के लिए सरकार पूरे प्रयास करेगी।

वहीं केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेन्द्र सिंह ने कहा कि किसानों को अब ज्यादा कीमतों वाली फसलें पैदा करनी होगी। सिंह ने कहा कि राजस्थान में किसान कभी आत्महत्या नहीं कर सकता। सिंह ने कहा कि राजस्थान से होने के नाते वो बतौर कृषि मंत्री बहुत कुछ करके दिखाएंगे। वहीं कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि 'ग्राम' जैसे आयोजनों से किसानों को काफी फायदा मिलेगा। इसके जरिये किसान खेती की नई तकनीक से रुबरु होते हैं।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

रामपाल की सजा का ऐलान, मरते दम तक रहना होगा जेल में

रामपाल को हत्या और बंधक बनाने के मामले में आजीवन कारावास की सजा
अब इस नाम से जाना जायेगा इलाहाबाद, कैबिनेट में मिली मंजूरी
जानिए कैसे माँ की कृपा से रखे अपने आप को रोग मुक्त | Good Luck Tips
कोटा की रहने वाली मॉडल मानसी दिक्षित की मुंबई में हत्या
पूर्व राष्ट्रपति मिसाइल मैन एपीजे अब्दुल कलाम का आज ही के दिन हुआ था जन्म
ये सेल्फी बड़ी खतरनाक है !
एमजे अकबर ने अपनाया कानूनी रास्ता