पीएम मोदी के दौरे से जायेगा सियासी संदेश, सूबे में भाजपा को मजबूती की उम्मीद

Published Date 2018/07/05 08:33, Written by- FirstIndia Correspondent

जयपुर (योगेश शर्मा)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 7 जुलाई को जयपुर आ रहे हैं और उनके जयपुर दौरे को सरकारी दौरा कहा जा रहा है। लेकिन साल चुनावी है, लिहाजा संदेश भी सियासी जाएगा। मोदी के जयपुर दौरे को लेकर राज्य बीजेपी की कोशिश है कि संदेश प्रदेशव्यापी जाये। साथ ही ढूंढाड़ पर विशेष असर हो। जयपुर और उसके आस-पास के क्षेत्र को ढूंढाड़ कहा जाता है। जयपुर शहर और देहात के विधानसभा सीटों की संख्या 19 हैं। इनमें से 16 विधायक बीजेपी के हैं। हालांकि घनश्याम तिवाड़ी के पार्टी छोड़ने से संख्या बल 15 ही रह गया है। दो लोकसभा सीटें भी बीजेपी के पास है। इनमें से ज्यादातर बीजेपी के दबदबे वाले क्षेत्र है। मोदी के दौरे से बीजेपी को इन विधानसभा क्षेत्रों में सियासी लाभ की उम्मीद है।

बीते कई सालों से राजस्थान का राजधानी क्षेत्र यां कहे ढूंढाड बीजेपी के अभेद्य दुर्गों में शुमार रहा है। बीच-बीच में कांग्रेस को सफलताएं मिली है, लेकिन वे स्थाई नहीं कही जा सकती है। पिछले 10 सालों के चुनावी इतिहास पर गौर करें तो कमल का फूल यहां कांग्रेस के हाथ पर भारी दिखाई देता है। मुगल-ब्रिटिश राज में ढूंढाड़ पर कच्छवाहा वंश का दबदबा रहा, मत्सय क्षेत्र भी इसे कहा गया। क्योंकि मीना राजाओं का भी ढूंढाड़ पर शासन रहा। रामराज्य पार्टी, स्वतंत्र पार्टी और जनसंघ ने यहां 1952 के बाद से ही जड़ें जमा ली थी और 1980 के बाद से कमल यहां सिरमौर बन गया।

कमल के फूल की ताकत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि गिरधारी लाल भार्गव जयपुर से लगातार 6 बार विधायक रहे। उन्होंने महाराजा भवानी सिंह तक को चुनाव हरा दिया था। ढूंढाड़ के चुनावी क्षेत्रों में 19 विधानसभा क्षेत्र आते हैं, आज इनमें से 15 विधायक बीजेपी के हैं और 1 कांग्रेस का, 1 राजपा और 1 निर्दलीय विधायक है। बीजेपी की सफलता का प्रतिशत भविष्य में भी यहां बरकरार है। लिहाजा, कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है। पीएम मोदी की जयपुर रैली को भव्य बनाने में शहर और देहात बीजेपी ने पलक पांवड़े बिछा रखे हैं।

जयपुर का सांगानेर विधानसभा क्षेत्र भी बीजेपी का गढ़ कहा जाता है, लेकिन यहां से रिकार्ड वोटों से चुनाव जीतने वाले घनश्याम तिवाड़ी अभी बीजेपी से अलग होकर भारत वाहिनी पार्टी बना चुके हैं। लिहाजा, यहां बीजेपी को नुकसान उठाना पड़ा है। परिसीमन के बाद से ही मालवीय नगर, किशनपोल, झोटवाड़ा, विद्याधरनगर, आदर्शनगर, सांगानेर जैसी सीटें बीजेपी के दबदबे वाली सीटें रही है। रिजर्व सीटों पर जरुर बीजेपी को पिछले विधानसभा चुनावों में घाटा उठाना पड़ा था।

बीजेपी का दबदबा लोकसभा क्षेत्रों में और भी व्यापक कहा जा सकता है। जयपुर शहर से चुनाव जीतने वाले रामचरण बोहरा ने देशभर मे सर्वाधिक वोटों से चुनाव जीतने का रिकार्ड बनाया था। जयपुर ग्रामीण के सांसद राज्यवर्धन राठौड़ ने भी रिकार्ड वोटों से चुनावों में जीत दर्ज की। इतिहास भी गवाह है कि जयपुर का परकोटे और इसके आस पास के ग्रामीण इलाकों में बीजेपी ने उपजाऊ जमीन तैयार कर रखी है। भैरोंसिंह शेखावत, सतीश अग्रवाल, भंवर लाल शर्मा, रामदास अग्रवाल, गिरधारी लाल भार्गव, उजला अऱोड़ा, विधा पाठक जैसे नामचीन भाजपाइयों ने ढूंढाड़ को बीजेपी के लिये ताकतवर बनाने में पसीना बहाया था। बीजेपी का आलाकमान भी जयपुर की सियासी तासीर को जानता है। लिहाजा, पीएम नरेन्द्र मोदी की जयपुर की सभा से कमल का संदेश दूर तक जाना तय है।

ढूंढाड़ पर बीजेपी का दबदबा :
— जयपुर में दो लोकसभा क्षेत्र आते है शहर और देहात
— विधानसभा सीटों की संख्या है 19
— भाजपा के 19 में से है 15 विधायक 
— कोटपूतली, बस्सी और आमेर में है गैर भाजपाई विधायक
— जयपुर शहर लोकसभा क्षेत्र -सांसद रामचरण बोहरा (भाजपा)
— जयपुर जिले के 16 विधानसभा सीटों के बीजेपी विधायक
— मालवीय नगर-कालीचरण सराफ
— चाकसू-लक्ष्मीनारायण बैरवा
— बगरु-कैलाश वर्मा
— विद्याधरनगर-नरपत सिंह राजवी
— सिविल लाइंस-अरुण चतुर्वेदी
— आदर्शनगर-अशोक परनामी
— फुलेरा-निर्मल कुमावत
— दूदू-प्रेम बैरवा
— जमवारामगढ़-जगदीश मीणा
— विराटनगर-फूलचंद भिंडा
— शाहपुरा-राव राजेन्द्र सिंह 
— हवामहल-सुरेन्द्र पारीक
— किशनपोल -मोहन लाल गुप्ता
— चौमूं-रामलाल शर्मा
— झोटवाड़ा-राजपाल सिंह शेखावत

जयपुर की बीजेपी का राज में दबदबा :
— मोदी सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री है कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड
— राव राजेन्द्र सिंह है विधानसभा में उपाध्यक्ष
— कालीचरण सराफ है राजे सरकार में चिकित्सा व स्वास्थय मंत्री
— अरुण चतुर्वेदी है राजे सरकार में सामाजिक न्याय व आधिकारिता मंत्री
— राजपाल सिंह शेखावत है राजे सरकार में उधोग मंत्री
— खास बात इन सभी को दर्जा प्राप्त है काबिना मंत्री का
— कैलाश वर्मा है संसदीय सचिव
— वहीं अशोक परनामी रह चुके है बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

26000