IPL 11: पुणे होगा अब CSK का नया घरेलू मैदान

Published Date 2018/04/12 11:32, Written by- FirstIndia Correspondent

चेन्नई। कावेरी जल विवाद को लेकर तमिलनाडु में तनाव का माहौल है जिस कारण अब चेन्नई से आईपीएल के सभी मैच दूसरे वेन्यू पर शिफ्ट कर दिए गए हैं बीसीसीआई और चेन्नई सुपर किंग्स ने तय किया है कि उसके बाकी घरेलू मैच अब चेन्नई की जगह पुणे में आयोजित होंगे। आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा, ‘मैचों को चेन्नई से हटाना पड़ा क्योंकि पुलिस ने कहा कि वे मौजूदा हालात को देखते हुए सुरक्षा मुहैया नहीं करा सकते"


रिपोर्ट्स के मुताबिक पुणे में ही प्लेऑफ के दो मैच आयोजित हो रहे हैं और इस कारण इस स्टेडियम को वरीयता दी गई क्योंकि यहां पहले से ही मैचों को लेकर तैयारियां चल रही थीं पुणे में 23 मई को एलिमिनेटर और 25 मई को क्वालीफायर-2 आयोजित होना है

बता दें कि कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन को लेकर तमिलनाडु में राजनीतिक दलों का विरोध प्रदर्शन जारी है जिसके बाद चेन्नई पुलिस ने आईपीएल को सुरक्षा मुहैया कराने से इंकार कर दिया। पहले ही कई समूह ऐसे समय में शहर में मैचों का आयोजन ना करने का आह्वान कर चुके हैं, जब राज्य इस तरह की गंभीर स्थिति का सामना कर रहा है

कल सीएसके और कोलकाता नाइट राइडर्स के बीच मैच से पहले व्यापक विरोध प्रदर्शन किए गए और एक प्रदर्शनकारी ने सीएसके के रवींद्र जडेजा पर मैच के दौरान जूता फेंका था। यह मामला कोलकाता की पारी के आठवें ओवर में हुआ। क्रिक इन्फो की रिपोर्ट के मुताबिक यह जूते सीमा रेखा के पास तैनात चेन्नई के फील्डर रवींद्र जडेजा को निशाना बनाकर फेंके गए। इसके बाद एक-दो जूते और फेंके गए जिसमें से एक जूता साउथ अफ्रीकी कप्तान फाफ डु प्लेसी को जाकर लगा जिससे वह काफी नाराज भी दिखे इसके बाद डु प्लेसी जूता उठाकर वापस फेंक रहे थे। बता दें कि डु प्लेसी इस मैच में नहीं खेल रहे थे

इसके बाद पुलिस हरकत में आई और दर्शकों में से 2 लोगों को गिरफ्तार किया पुलिसकर्मी और चेन्नई सुपरकिंग्स के अधिकारी स्टेडियम के पास पहुंचे और उन्होंने सीमारेखा के पास से लोगों को हटाया

क्या है कावेरी जल विवाद


आपको बता दें कि कावेरी नदी जिसका उद्गम स्थल कर्नाटक राज्य का कोडागु जिला है और यह लगभग साढ़े साथ सौ किलोमीटर लंबी है लेकिन अभी विवाद यह है कि कम बारिश के कारण यहां इस नदी में पानी की मात्रा कम है इस कारण कर्नाटक ने तमिलनाडु को पानी देने से मना कर दिया है, जिसके कारण यह पिछले काफी सालों से विवाद चल रहा है साथ ही इसके लिए तमिलनाडु ने सुप्रीम कोर्ट तक भी गए है इस प्रकार इन दिनों जिस तरह से तमिलनाडु में कावेरी विवाद चल रहा है वह वहां के लोगों के लिए बहुत गलत है

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

21160