पुष्कर में विकास कार्यो में जमकर धांधली, कलेक्टर आरती डोगरा ने लिया जायजा 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/07/11 09:14

पुष्कर। धार्मिक नगरी पुष्कर में केंद्र और राज्य सरकार की और से हृदय योजना और प्रसाद योजना के तहत बीते 2, 3 सालों से सैंकड़ो करोड़ रुपयों के विकास कार्य करवाये जा रहे है। परंतु इन विकास कार्यो में जमकर धांधली और घटिया निर्माण सामग्री इस्तेमाल की जा रही है। इसका नजारा आज खुद कलेक्टर आरती डोगरा ने अपनी आंखों से भी देख लिया। 

स्थिति यह है कि इन कामो के ठेकेदार ना तो आम जनता की आवाज सुनना चाहते है और ना ही यहां के तीर्थ पुरोहितों की। कोई बेचारा यदि गलती से भी यहां के लिए अच्छा सुझाव देना चाहे तो भी उसकी भी आवाज अनसुनी कर दी जाती है । यहां केवल उन्हीं कामों को विकास के नाम पर तवज्जो दी जा रही है, जिनमे जमकर भ्रष्टाचार किया जा सके। 

पुष्कर में चल रहे इसी गोरखधंधे की जानकारी मिलने के बाद आज जिला कलेक्टर आरती डोगरा पुष्कर पहुंची और यहां के जयपुर घाट, सरोवर की पुलिया , वराह घाट पर चल रहे निर्माण कार्यो सहित  पुराने रंग जी मंदिर , पुरणखण्ड , मुख्य बाजार , सहित बारिश के पानी के साथ सरोवर में जाने वाले गंदे पानी के स्थानों का भी निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान जिला कलेक्टर के सामने ग्वालियर घाट के फर्श पर लगे पत्थर हाथों से उठाने पर ही उखड़ गए। यह देखते ही वह नाराज हो गई और घटिया निर्माण कार्य करने के लिए संबंधित ठेकेदार और इसकी देखरेख करने वाले सरकारी अधिकारियों को जमकर फटकार लगाई। कलेक्टर ने कहा कि सरकार और आम जनता के करोड़ो रूपये वह इस तरह बर्बाद नही होने देंगी।  

दरअसल पुष्कर में चल रहे विकास कार्यो की जमीनी हकीकत कुछ और ही है। यहां ना तो जिम्मेदार अधिकारी मौके पर जाकर इन कामो की मॉनिटरिंग कर रहे है और ना ही स्थानीय जनप्रतिनिधि। आलम यह है कि घाटों पर हो रहे कार्यो में भी तीर्थ पुरोहितों के वाजिब सुझाव तक नही माने जा रहे। कुछ कमियां स्थानीय नागरिकों की भी है। उनकी उदासीनता या जान बूझकर चुप्पी साधे रहने से भी इन ठेकेदारों के हौसले बुलंद हो रहे है। 

कलेक्टर के दौरे के बाद इनके रवैये में बदलाव आता है या नही यह तो समय ही बताएगा। परंतु इतना तय है कि जिस सोच के साथ केंद्र और राज्य सरकारों ने इतनी बड़ी बड़ी योजनाएं बनाई थी उस सोच और गुणवत्ता का आधा काम भी आज जमीन पर नजर नही आ रहा है। जिला कलेक्टर ने तहसील कार्यालय में सभी विभागों के अधिकारियों की एक बैठक ली। बैठक में निगम आयुक्त हिमांशु गुप्ता , एडीए सचिव हेमंत माथुर , तहसीलदार विमलेंद्र राणावत , ई ओ विकास कुमावत , पालिकाध्यक्ष कमल पाठक सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे। बैठक के बाद कलेक्टर डोगरा ने मीडिया को बताया कि सरोवर को स्वच्छ बनाने के लिए वे हर संभव प्रयास करेगी और चल रहे विकास कार्यो में किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नही की जाएगी।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

Private video

Rajasthan Gaurav Yatra | झुंझुनू, बुहाना में CM Vasundhara Raje का संबोधन
रावणा राजपूत समाज के मान-सम्मान की करेंगे रक्षा : सचिन पायलट
मूलांकअनुसार क्या कहता है राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री और संगठन महासचिव अशोक गहलोत का भविष्य
जीका वायरस की दस्तक पर चिकित्सा विभाग अलर्ट, जाने क्या है ज़ीका वायरस
खंडेला विधानसभा का क्या है सियासी मिजाज ? | चुनावी यात्रा
CM राजे की बानसूर सभा में हंगामा, सिक्योरिटी ने संभाले हालात