राजसमंद में एक होटल पर छापेमारी, ढाई दर्जन नाबालिग बच्चियों को किया डिटेन

Published Date 2018/07/04 08:51,Updated 2018/07/04 09:11, Written by- FirstIndia Correspondent

राजसमंद। राजसमंद पुलिस ने बाल कल्याण समिती की शिकायत पर कार्यवाही करते हुए जिला मुख्यालय की एक निजी होटल मे संदिग्ध रुप से लाकर रखी गई 76 नाबालिग को डिटेन किया है। इनके साथ 10 बड़ी महिलाएं इनमें शामिल हैं, जिन्हें यहां पर रखी गई बालिकाओं के साथ डिटेन कराया गया। बाल कल्याण समिति के मुताबिक मुखबिर के जरिये सूचना मिलने के बाद इस कार्यवाही को अन्जाम दिया गया।

जानकारी के मुताबिक, बाल कल्याण समिति को मुखबिर के जरिये सूचना मिली थी कि राजनगर रोड स्थित राजमहल होटल में पिछले करीब बीस दिनों से 100 नाबालिग बच्चियां ठहरी हुई हैं। इस दौरान होटल मालिक ने छत और बालकॉनी मे टीन शेड़ लगवाये, ताकि आमजन की नजर इन बच्चियों पर नहीं पड़े। सूचना की पुष्टि होने पर बाल कल्याण समिती और चाईल्ड लाईन ने पुलिस के सहयोग से छापेमारी की कार्यवाही की।

रेड के दौरान होटल मालिक ने करीब एक घण्टे तक दरवाजा नहीं खोला और पुलिस को भी अन्दर नहीं जाने दिया। इसके बाद पुलिस और समिति के सदस्य होटल मे पंहुचे और बच्चियों से पूछताछ की, जिसमें सभी बच्चियां नाबालिग पाई गई। साथ ही ये ​बच्चियों के नेपाल, छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश सहित अन्य राज्यों की होने की जानकारी भी सामने आई।

समिती सदस्यों ने बच्चियों से उनके परिवार के बारे में भी पूछा, लेकिन वे कोई संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाई। इस पर समिति ने जेजे एक्ट 2015 के तहत इतनी बड़ी संख्या में नाबालिग बच्चियों को रखने के आरोप में मामला बनाया और पुलिस ने सभी बच्चियों को सुरक्षित निकालकर समिति के सुपुर्द किया।

इस मौके पर समिति अध्यक्ष भावना पालीवाल, सदस्य गजेन्द्र सिंह, डिप्टी राजेन्द्र सिंह राव, राजनगर और कांकरोली थानाधिकारियों सहित अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया। वहीं कार्यवाही के बारे में भनक लगने पर सैंकड़ों लोग मौके पर पंहुचे गए। ऐसे में बच्चियों के नाबालिग होने के चलते पुलिस को भीड़ के बीच उन्हें बिना पहचान जाहिर किए निकालने मे काफी मशक्कत करनी पड़ी। फिलहाल समिति के सदस्य बच्चियों और उनके संस्थान के बारे मे पूछताछ मे जुटे हैं, जबकि प्रारंभिक पूछताछ मे उन्होंने किसी आध्यात्मिक संस्थान की छात्राएं होने की बात कही है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

25862