माहे-रमजान : इबादतों का दौर शुरू, तेज गर्मी के बीच रोजेदार यूं करें 'इम्तेहान पास'

Published Date 2018/05/18 05:21, Written by- FirstIndia Correspondent

जयपुर। इस्लाम का सबसे पाक महिना माहे रमजान शुरू हो चुका है और इसके साथ ही रोजेदारों के रोजे भी शुरू हो चुके हैं। खास बात ये है कि इस बार 33 साल बाद रमजान के रोजे मई—जून के माह में आये हैं। इस बार पहला रोजा सबसे छोटा 15 घण्टे 11 मिनट का है, वही आखिरी रोजा करीब 15 घण्टे 34 मिनट का रहेगा। प्रदेश में इस बार 45 डिग्री तापमान के बीच तेज गर्मी को देखते हुए रोजेदारों को अपने खान—पान में खास सावधानी बरतने की जरूरत है।

रोजेदारों को अपने खाने में ऐसी चीजों का प्रयोग करना चाहिए, जिन्हे खाकर ज्यादा पानी पीने की जरूरत ना हो। प्रोटीन युक्त चीजे जैसे दाल, सोयाबीन, तली भुनी चीजे, चने खाने से परहेज करना चाहिए। क्योकि इनको खाने से बार—बार पानी पीने की ख्वाहिश होती है। इनकी जगह ऐसे प्रोटीन फूड प्रयोग करें, जिनके सेवन के बाद पानी पीने की जरूरत न हो। सहरी में खासतौर से ताजे फल, डाय फ्रुट और खजूर का जरूर सहरी में शामिल करें। क्योकि ये शरीर को भरपूर मात्रा में पोषण तो देते ही हैं, जिससे काफी वक्त तक कमजोरी महसूस नहीं होती।

गर्मी के मौसम में शरीर में ठण्डक बनाए रखना जरूरी है। ऐसे में दही सबसे बेहतर विकल्प है। लस्सी, छाछ, रायता को अपनी डायट में जरूर शामिल करें। इसके साथ ही सहरी में कम से कम एक चपाती जरूर शामिल करें। डायबिटीज के मरीजों को मल्टीग्रेन चपाती या पराठा खाना चाहिए। सुबह सहरी के वक्त दही या खीर में इलायची जरूर मिलाएं। इससे शरीर में बड़ी ठण्डक रहती है। ये बीपी कन्टोल करने में भी मदद करती है।

सहरी में भूलकर भी कॉफी, सोडा ड्रिंक या ​फिर कोल्ड ड्रिंक्स को कतई शामिल न करें। इनसे शरीर डिहाईडेट होता है। इसके साथ ही ​खाली पेट ज्यादा पानी भी नहीं​ पिये। क्योंकि पानी से पेट जल्दी भर जाता है और फिर भूख लगने लगती है। बहरहाल मई जून के रोजे जहां रोजेदारों के लिए इम्तेहान हैं, वहीं बच्चों और बुजुर्गों के लिए इम्तेहान से बढ़कर हैं। लेकिन कुछ बातों का ख्याल रखकर हर रोजेदार पूरे ​महिने के रोजे आराम से रख सकता है।

रोजे में बरतें ये सावधानियां :
— सहरी और इफ्तार दोनों में करें खजूर का प्रयोग।
— प्रोटीन में दाल, चने, सोयाबीन और तली भुनी चीजे ना खायें।
— ऐसे प्रोटीन का करें प्रयोग ​जिनके बाद न हो पानी की जरूरत।
— अण्डे से बनी भूजी और आमलेट का करें प्रयोग।
— खासतौर से सहरी में करें ताजे फलों का प्रयोग।
— फलों से शरीर को मिलते हैं मिनरल्स और विटामिन्स।
— सहरी में ड्राई फ्रुट्स भी हैं बेहतर विकल्प।
— शरीर को देते हैं पोषण और पचते हैं देर से।
— ऐसे में रोजेदारों को नहीं होने देते कमजोरी महसूस।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

loading...

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------

22042