आज रिटायर हो रहा 'विराट', चार महीने में नहीं मिला खरीदार तो कबाड़ में होगा तब्दील

Published Date 2017/03/06 13:29, Written by- FirstIndia Correspondent

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना की 30 साल तक सेवा और समुद्र पर राज करने वाले INS विराट को आज अंतिम विदाई दी जाएगी। देश का गौरव बनकर रक्षा करने वाला युद्धपोत INS विराट आज रिटायर होने जा रहा है, जिसके साथ ही INS विराट का समंदर में 57 साल के सफर का अंत हो जाएगा। मुंबई में होने वाले एक समारोह में INS विराट औपचारिक रूप से भारतीय सेना से अलग हो जाएगा। बताया जा रहा है कि रिटायरमेंट के बाद 'आईएनएस विराट' को बिक्री के लिए खोल दिया जाएगा।


बताया जा रहा है कि अगर अगले 4 माह में आईएनएस विराट को कोई खरीदार नहीं मिला तो विराट को तोड़ने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी और इस तोड़ दिया जाएगा। गौरतलब है कि भारत से पहले यह युद्धपोत ब्रिटेन के रॉयल नेवी में 27 सालों तक सेवा दे चुका है। एचएमएस हर्मीस के नाम से पहचाने जाने वाला यह पोत 1959 से रॉयल नेवी की सेवा में था। इसका ध्येय वाक्य 'जलमेव यस्य, बलमेव तस्य' था। इसका मतलब होता है, जिसका समंदर पर कब्जा है, वही सबसे बलवान है।


नेवी चीफ एडमिरल सुनील लांबा ने बताया कि अगर अगले चार माह के अंदर विराट को कोई खरीदार नहीं मिला तो उसे कबाड़ में बदल दिया जाएगा। भारतीय नौसेना की फ्लैगशिप वॉरशिप रही आईएनएस विराट डी-कमीशनिंग के बाद इसे तोड़ा जाएगा और इसे कबाड़ में बदल दिया जाएगा। INS विराट का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल र्है ये दुनिया का एकलौता ऐसा जहाज है, जो इतने लंबे समय तक सीमा की सुरक्षा में डंटा रहा। इसे 'ग्रेट ओल्ड लेडी' के नाम से भी जाना जाता है।


उल्लेखनीय है  कि नौसेना में विराट को 12 मई 1987 को शामिल किया गया था। इससे पहले विराट ब्रिट्रेन की रॉयल नेवी में एचएमएस हर्मिस के नाम से था, जहां इसने अर्जेंटीना के खिलाफ फॉकलैंड युद्ध में हिस्सा लिया था। भारत लाए जाने से पहले इस जहाज ने पहले 30 साल तक ब्रिटिश नौसेना की सेवा की थी। विराट को मूल रूप से ब्रिटिश रॉयल नेवी द्वारा 18 नवंबर, 1959 को एचएमएस हरमेस के तौर पर सेवा में शामिल किया गया था। इसे 1987 में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया।


करीब 1,200 अधिकारी और नौसैनिक विराट पर हमेशा तैनात रहते हैं। जब ये अपने अंतिम ऑपरेशनल सफऱ में निकला, तब भी इस पर 6 सी हैरियर लड़ाकू विमान, चार चेतक और छह सी किंग हेलीकॉप्टर तैनात थे। हाल के दिनों में पुराने और स्पेयर पार्ट्स के अभाव में कई सी हैरियर हादसे का शिकार हुए, लेकिन इसकी क्षमता पर कभी सवाल नहीं उठा। ये दुनिया में अपनी तरह इकलौता लड़ाकू विमान है, जो विमान वाहक पोत वर्टिकल लैडिंग करता है और मात्र 100 मीटर से कम रनवे पर टेक ऑफ भी कर जाता है।

 

New Delhi, Mumbai, INS Virat, Warship, Indian Navy, Great Old Lady, Ocean Liner

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

Stories You May be Interested in


Most Related Stories


-------Advertisement--------



-------Advertisement--------