UP के 5 शहरों में टोटल लॉकडाउन का मामला: सरकार के पक्ष में आया सुप्रीम कोर्ट फैसला, हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोक 

UP के 5 शहरों में टोटल लॉकडाउन का मामला: सरकार के पक्ष में आया सुप्रीम कोर्ट फैसला, हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोक 

UP के 5 शहरों में टोटल लॉकडाउन का मामला: सरकार के पक्ष में आया सुप्रीम कोर्ट फैसला, हाईकोर्ट के आदेश पर लगाई रोक 

लखनऊ: हाल ही में यूपी हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को प्रदेश के पांच शहरों में टोटल लॉकडाउन (Total Lockdown) के आदेशों में सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सरकार के पक्ष में फैसला देते हुए हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगा दी है.  

नही लगेगा पांच शहरों में टोटल लॉकडाउन:
उच्चतम न्यायालय का फैसला आने के बाद अब लखनऊ समेत उत्तर प्रदेश के 5 शहरों में लॉकडाउन नहीं लगेगा. सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के आदेश पर रोक लगा दी है. सोमवार को ही हाईकोर्ट ने लखनऊ, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज और गोरखपुर में 26 अप्रैल तक कम्प्लीट लॉकडाउन लगाने का आदेश दिया था. इसके खिलाफ योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी.

पर पूरे राज्य में रहेगा वीकेंड लॉकडाउन:
इस बीच, एक बार फिर से योगी सरकार ने पूरे राज्य में वीकली लॉकडाउन (Weekly lockdown) लगाने का फैसला लिया है. अब हर शनिवार और रविवार को प्रदेश में सबकुछ बंद रहेगा. केवल इमरजेंसी सुविधाएं (Emergency Facilities) जारी रहेंगी. अब तक केवल संडे लॉकडाउन था. जिन जिलों में 500 से अधिक एक्टिव केस हैं, वहां हर दिन रात 8 बजे से अगले दिन सुबह 7 बजे तक आवश्यक सेवाओं को छोड़कर बाकी सारी एक्टिविटीज बंद रहेंगी.

UP सरकार ने कहा- हमें जीवन ही नही जीविका को भी बचाना है:
UP सरकार की तरफ से सॉलिसिटर जनरल (Solicitor General) तुषार मेहता ने कहा कि राज्य सरकार ने कई कदम उठाए हैं. हमें कुछ निर्देश मिले हैं और हमें इस पर आपत्ति भी नहीं है, लेकिन किसी ज्यूडिशियल ऑर्डर (Judicial order) के जरिए 5 शहरों में लॉकडाउन लगा देना सही नहीं होगा. उन्होने कहा कि सरकार को जीवन ही नही जीविका को भी बचाना है. इस तथ्य पर सुप्रीम कोर्ट ने सहमति जताई.

टोटल लॉकडाउन प्रशासनिक दिक्कतें पैदा करते है:
इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि हाईकोर्ट ने भी कम्प्लीट लॉकडाउन के बारे में नहीं कहा है. इस तरह के लॉकडाउन से प्रशासनिक दिक्कतें (Administrative Problems) पैदा हो सकती हैं. ऐसे हालात में हाईकोर्ट के फैसले पर अंतरिम रोक रहेगी. हालांकि, UP सरकार को एक हफ्ते के अंदर हाईकोर्ट को यह बताना चाहिए कि वह क्या कदम उठा रही है.

सोमवार को 28 हजार से ज्यादा मरीज मिले:
प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर बेकाबू होती जा रही है. हर दिन नए संक्रमितों के साथ मौत का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है. सोमवार को प्रदेश में 28,211 नए संक्रमितों की पहचान हुई और 167 लोगों की मौत हुई.

कोऑपरेटिव यूनियन के अध्यक्ष का हुआ कोरोना से निधन:
मंगलवार सुबह उत्तर प्रदेश कोऑपरेटिव यूनियन (Cooperative Union) के अध्यक्ष हनुमान मिश्र (राज्यमंत्री दर्जा प्राप्त) का लखनऊ के PGI में निधन हो गया. वे कोरोना पॉजिटिव थे. बताया जा रहा है कि इलाज के दौरान उनकी किडनी फेल हो गई थी. PGI ने अभी अधिकारिक बयान जारी नहीं किया है. हनुमान मिश्र कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के महामंत्री, विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री रह चुके हैं.

घर से काम कर सकेंगे शिक्षक:
प्रदेश में बेसिक शिक्षा परिषद ने शिक्षकों, अनुदेशकों और शिक्षामित्रों को स्कूल आने से छूट दी है. बेसिक शिक्षा मंत्री (Minister of Basic Education) डॉ. सतीश द्विवेदी ने कहा कि शिक्षक, अनुदेशक और शिक्षा मित्र घर से काम कर सकेंगे. इस फैसले से करीब 1.52 लाख से अधिक शिक्षामित्रों और 5 लाख से ज्यादा शिक्षकों को बड़ी राहत मिली है.

और पढ़ें