राहुल-प्रियंका-गहलोत मीटिंग की एक बहुप्रतीक्षित जिज्ञासा ! क्या खुद पायलट के "रोल" को लेकर भी हुई कोई चर्चा ?

राहुल-प्रियंका-गहलोत मीटिंग की एक बहुप्रतीक्षित जिज्ञासा ! क्या खुद पायलट के "रोल" को लेकर भी हुई कोई चर्चा ?

जयपुर: राजस्थान में मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion in Rajasthan) की अटकलों के बीच शनिवार को राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी के साथ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) की बैठक की एक बहुप्रतीक्षित जिज्ञासा सभी के मन में है. मंत्रिमंडल विस्तार और राजनीतिक नियुक्तियों के साथ साथ क्या खुद पायलट के "रोल" को लेकर भी हुई कोई चर्चा ? क्या करें, इस बारे में बैठक में मौजूद सभी लोगों ने मौन साध रखा है. लेकिन खबरें भी हवा और पानी की तरह नहीं रूकती.  

अब पायलट कैंप से जुड़े सूत्रों ने संकेत देते हुए कहा कि पायलट को फिर से डिप्टी सीएम और पीसीसी चीफ बनाने पर विचार हो रहा है. लेकिन गहलोत कैंप इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं है. आखिर गहलोत कैसे मनाएंगे 102 वफादार विधायकों को ?  इसलिए इस बारे में बैठक में कोई अंतिम फैसला नहीं हो सका. अब गहलोत कुछ दिन बाद फिर दिल्ली जा सकते हैं और उस दिन मंत्रिमंडल फेरबदल और पायलट के बारे में सोनिया से चर्चा कर अंतिम फैसला हो सकता है. 

गहलोत कैंप के अनुसार पायलट का AICC जाना तय:
गहलोत कैंप के अनुसार पायलट का AICC जाना तय है. लेकिन अब इस नये  'डवलपमेंट' से कई नये सवाल उठ खड़े हुए है? क्या सचमुच आलाकमान ने राजस्थान में ही बने रहने की मान ली है पायलट की मांग? इसके अलावा अब पायलट कैंप ने एक राज्यसभा सीट पर भी अपनी दावेदारी पेश की है. मार्च-अप्रैल में राज्यसभा में 4 सीटें खाली हो रही है. 

उधर गहलोत कैंप से जुड़े सूत्रों ने दिए संकेत:
उधर गहलोत कैंप से जुड़े सूत्रों ने मंत्रिमंडल विस्तार या फेरबदल गहलोत सरकार की तीसरी वर्षगांठ पूरी होने के बाद ही होने के संकेत दिए हैं. 17 दिसंबर को गहलोत सरकार अपना 3 वर्ष का कार्यकाल पूरा करेगी. हालांकि पहले दिवाली के आसपास फेरबदल होने की बात थी. लेकिन अब सब कुछ उलटा-पुलटा हो गया और अब गहलोत खुद शपथ ग्रहण समारोह की तारीख और समय का फैसला करेंगे.   

और पढ़ें