लखनऊ उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, योगी सरकार कर रही पीड़ितों के समुचित इलाज की व्यवस्था

उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, योगी सरकार कर रही पीड़ितों के समुचित इलाज की व्यवस्था

उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस महामारी घोषित, योगी सरकार कर रही पीड़ितों के समुचित इलाज की व्यवस्था

लखनऊ: कोरोना वायरस (Covid Virus) से उबरने वालों कुछ लोगों के ब्लैक फंगस (Black Fungus) की चपेट में आने के मामलों को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार बेहद गंभीर हो गई है. टीम-9 के साथ शुक्रवार को समीक्षा बैठक में CM योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Aditya Nath) ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री के इस निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग (Health Department) इस प्रक्रिया की कार्रवाई में जुट गया है.

स्वास्थ्य विभाग जुटा प्रक्रिया में:
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने का निर्देश दिया है. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद स्वास्थ्य विभाग प्रक्रिया में लग गया है. उत्तर प्रदेश में पोस्ट कोविड (Post Covid) अवस्था में ब्लैक फंगस के संक्रमण की समस्या काफी बढ़ रही है. प्रदेश सरकार स्वास्थ्य विशेषज्ञों (State Government Health Specialists) के परामर्श के अनुरूप प्रदेश इससे संक्रमित सभी के लिए समुचित चिकित्सकीय उपचार (Proper Medical Treatment) की व्यवस्था कर रही है.

केंद्र सरकार के निर्देशों के आधार पर किया महामारी घोषित: 
CM योगी आदित्यनाथ ने कहा कि केंद्र सरकार (Central Government) के निर्देशों के क्रम में कोविड की तर्ज पर ब्लैक फंगस को भी अधिसूचित बीमारी (महामारी) घोषित किया जाए. इस संबंध में आदेश आज ही जारी कर प्रभावी करा दिया जाए. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया कि कोरोना वायरस संक्रमण की तरह अधिसूचित बीमारी घोषित (Notified Disease Declared) करने के बाद अब ब्लैक फंगस के साथ कोरोना वायरस संक्रमण की तीसरी लहर (Third Wave) से निपटने की तैयारी, टीकाकरण और चिकित्सा तंत्र (Vaccination and Medical System) पर फोकस करें.

कोरोना मुक्त गांव को बनाएं लक्ष्य: 
मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को अपने सरकारी आवास (Government House) पर कोविड-19 प्रबंधन के लिए गठित टीम-09 के साथ समीक्षा बैठक की. उन्होंने कहा कि गांवों को कोरोना से सुरक्षित रखने के उद्देश्य से संचालित वृहद टेस्टिंग अभियान (Mass Testing Campaign) के अच्छे परिणाम मिल रहे हैं. निगरानी समितियों और आरआरटी टीमें (Monitoring Committees and RRT Teams) बहुत सराहनीय कार्य कर रही हैं. आज जबकि प्रदेश में संक्रमण दर लगातार कम होता जा रहा है, ऐसे में इस प्रक्रिया को मिशन रूप में लिए जाने की जरूरत है. सभी गांवों में जागरूकता बढ़ाई जाए. ऐसे प्रयास हों जिससे कोरोना मुक्त गांव के संदेश को हर ग्रामवासी अपना लक्ष्य बनाए.

पुलिस विभाग भी बेहद सक्रिय: 
उन्होंने का कि मेरा गांव- कोरोना मुक्त गांव (My Village Corona Free Village) के संदेश के अनुरूप पुलिस विभाग (Police Department) ने मेरी लाइन-कोरोना मुक्त लाइन (My Line Corona Free Line) का संकल्प लिया है. यह प्रयास प्रेरणास्पद है. सभी के सहयोग से ही प्रदेश में कोरोना की स्थिति पर प्रभावी नियंत्रण संभव हुआ है. कोरोना पर विजय प्राप्त करने में चिकित्साकर्मियों पुलिसकर्मियों, सभी स्वच्छताकर्मियों, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों आशा बहनों सहित प्रदेश के प्रत्येक नागरिक की भूमिका महत्वपूर्ण है.

जल जमाव से भी बढ़ेगी बीमारी: 
मुख्यमंत्री ने कहा कि बरसात का मौसम (Rainy Season) शीघ्र प्रारंभ होने वाला है. बीते दो-तीन दिनों में प्रदेश के कई जिलों में बारिश हुई है. किसी भी क्षेत्र में जलजमाव (Water Logging) न हो, इसके बेहतर प्रबन्ध किये जायें. जलजमाव और गंदगी तमाम बीमारियों के प्रसार का कारक होती है. ऐसे में घनी आबादी वाले क्षेत्रों और स्वास्थ्य केंद्रों के आस-पास विशेष स्वच्छता (Special Hygiene Nearby) और सैनीटाइजेशन का अभियान (Sanitation Campaign) चलाया जाना आवश्यक है. नगर विकास व ग्राम्य विकास विभाग (Urban Development and Rural Development Department) इस संबंध में कार्रवाई सुनिश्चित करें. राजस्थान, हरियाणा, तेलंगाना और तमिलनाडु इस ब्लैक फंगस को पहले ही महामारी घोषित कर चुके हैं. दिल्ली में भी इसके मरीजों के इलाज के लिए अलग से सेंटर्स बनाए जा रहे हैं.

और पढ़ें