बिल्डर के दिवालिया घोषित होने बाद भी नहीं डूबेगी खरीदारों की रकम

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/08/10 10:45

नई दिल्ली: देशभर में कई रियल एस्टेट कंपनियां ऐसी हैं जिन्होंने लोगों को मकान देने का वादा तो किया, लेकिन बीच राह में हाथ खड़े कर दिए. ऐसी कंपनियां खुद को नुकसान में बताकर दिवालिया घोषित हो गईं ऐसी स्थिति में कंपनियों और उनके मालिकों की संपत्तियां जब्त की जाती हैं। पहले जब्त की गई संपत्ति का पूरा पैसा बैंकों को मिलता था, लेकिन अब घर खरीदने वाले लोगों को भी इसमें से हिस्सा दिया जाएगा. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने रियल एस्टेट कंपनी आम्रपाली के ग्राहकों को बड़ी राहत दी थी. कोर्ट ने आम्रपाली मामले में फैसला सुनाया है कि अब एनबीसीसी घर बनाकर देगी 
किस कानून में किया गया संशोधन :
कोर्ट ने इन्सॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड (आइबीसी) में संशोधन वाले कानून को सही ठहराते हुए घर खरीदारों को वित्तीय कर्जदाता का मिला दर्जा बरकरार रखा है इसका मतलब यह है कि अगर कोई रियल एस्टेट कंपनी खुद को दिवालिया घोषित करती या होती है, तो उसकी संपत्ति की नीलामी से हासिल रकम में घर खरीददारों को भी हिस्सा मिलेगा.
आइबीसी में संशोधन कायम रहने से मकान ग्राहकों को भी कंपनी के फाइनेंशियल क्रेडिटर्स यानी वित्तीय कर्जदाता के बराबर का दर्जा बरकरार रहेगा यानी घर खरीदने वालों की अहमियत बिल्डर को लोन देने वाले बैंकों के बराबर होगी.इस कानून के खिलाफ 180 से ज्यादा रियल एस्टेट कंपनियों ने कोर्ट में याचिका दायर की थी  सुप्रीम कोर्ट ने याचिका शुक्रवार को खारिज कर दी स्पष्ट किया है कि जहां कहीं भी रियल एस्टेट रेगुलेटरी एक्ट यानी रेरा और आइबीसी की किन्हीं धाराओं में आपसी विवाद की स्थिति पैदा होगी, वहां आइबीसी के नियम मान्य होंगे
इस संशोधन से किस तरह फायदा मिलेगा 
अब मकान खरीदारों को प्रोजेक्ट पूरा न होने की स्थिति में राहत मिलेगी। ऐसे मामलों में उन्हें दिए गए बैंकों के बराबर अधिकार बरकरार रखा गया है। कोर्ट के फैसले के बाद घर खरीदार भी किसी बिल्डर के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया की मांग कर सकते हैं। न्यायमूर्ति आरएफ नरीमन ने कहा कि इस संशोधन से मकान ग्राहकों को एक और प्लेटफॉर्म मिला है, जहां वे रियल एस्टेट कंपनियों के खिलाफ अपनी मुश्किलें रख सकते हैं। हालांकि बेंच ने कहा कि केवल वास्तविक खरीदार ही बिल्डर के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया की मांग कर सकता है

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in