VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दी चिकित्सा जगत को बड़ी सौगात, 108 भवनों का किया शिलान्यास

जयपुर: डॉक्टर्स डे के अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज प्रदेश में 108 चिकित्सा संस्थानों के भवनों का शिलान्यास किया. लोकार्पण कार्यक्रम वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए किया गया. इस दौरान सीएम गहलोत ने कहा कि कोरोना के कारण 108 भवनों का शिलान्यास वीसी के माध्यम से करना पड़ा है. कोरोना के कारण जीवन जीने की आदतें भी बदली है. सीएम ने कहा कि लॉकडाउन खोलने के बावजूद रेस्टोरेंट और होटल खाली पड़े हैं. 

कोरोनिल विवाद पर बाबा रामदेव की सफाई, कहा- हमने क्लीनिकल ट्रायल नियमों का पालन किया 

कोरोना के दौर में लोगों की सोच बदल गई: 
सीएम गहलोत ने चिकित्सा जगत को बड़ी सौगात देते हुए कहा कि प्लेग से लाखों लोग मार गए. कोरोना के दौर में लोगों की सोच बदल गई. आजीविका के बगैर जीवन नहीं बचा सकते. ऐसे में रोजाना कमाने वाले मजदूरों पर संकट है. मुख्यमंत्री ने एक बार फिर भीलवड़ा मॉडल के बारे में बात करते हुए कहा कि इसकी देश-दुनिया में तारीफ हो रही है. कई राज्य नाम बदलकर हमारा मॉडल अपना रहे है. लेकिन हमें आगे भी कोरोना की गाइडलाइन का पालन करना होगा. चिकित्सा संस्थानों के भवनों के लोकार्पण-शिलान्यास कार्यक्रम में चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा, चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग, CS डीबी गुप्ता और ACS मेडिकल रोहित कुमार सिंह भी मौजूद रहे.  

यहां-यहां हुआ चिकित्सा संस्थानों के भवनों का लोकार्पण-शिलान्यास कार्यक्रम: 

- सर्वाधिक 20 भवनों का शिलान्यास किया जाएगा जोधपुर जिले में
- इसके अलावा अजमेर में तीन भवनों का लोकार्पण, एक शिलान्यास
- भीलवाड़ा में 9 लोकार्पण, एक भवन का किया जाएगा शिलान्यास
- अलवर में 2 भवनों का लोकार्पण, एक शिलान्यास, दौसा में 3 लोकार्पण
- चित्तौड़गढ़ में 5भवनों का लोकार्पण, जयपुर प्रथम में 1 लोकार्पण-2 शिलान्यास
- जालोर में 2, बाड़मेर में 6 भवनों का लोकार्पण, पाली में 7 भवनों का लोकार्पण
- जैसलमेर में एक, जयपुर द्वितीय में 5, नागौर में 9, बूंदी में 2, सवाईमाधोपुर में 2
- सीकर में 5, झुंझुनूं में 4, कोटा में 3, झालावाड़ में एक भवन का लोकार्पण
- इसके अलावा बीकानेर में 1 लोकार्पण, 2 शिलान्यास, टोंक में 2 भवनों का शिलान्यास
- श्रीगंगानगर में एक,भरतपुर में दो, डूंगरपुर में दो भवनों का किया जाएगा शिलान्यास

Doctor's Day Special: वॉरियर की भूमिका में धरती के भगवान ! 

और पढ़ें