13 लाख क्रेडिट-डेबिट कार्ड का डेटा हैक, Group-IB ने बताया कार्ड्स की डीटेल बेचीं जा रही है 100 डॉलर में

13 लाख क्रेडिट-डेबिट कार्ड का डेटा हैक, Group-IB ने बताया कार्ड्स की डीटेल बेचीं जा रही है 100 डॉलर में

13 लाख क्रेडिट-डेबिट कार्ड का डेटा हैक,  Group-IB ने बताया कार्ड्स की डीटेल बेचीं जा रही है 100 डॉलर में

नई दिल्ली: भारत के लगभग 13 लाख डेबिट और क्रेडिट कार्ड की डीटेल्स बिक्री के लिए उपलब्ध हैं. और इसका पता लगाया है सिंगापुर स्थित एक ग्रुप आईबी सुरक्षा अनुसंधान की टीम ने.डार्क वेब पर यह अब तक का शायद सबसे बड़ा डेबिट क्रेडिट कार्ड कैशे है और इसमें से 98% भारतीय बैंकों के कार्डस् हैं. सर्वाधिक महत्वपूर्ण ट्रैक-2 डेटा चोरी हुआ है जो कार्ड के पीछे मैग्नेटिक स्ट्रिप में होता है इसमें ग्राहक की प्रोफाइल और लेन-देन की सारी जानकारी होती है.

Group-IB साइबर सिक्योरिटी फर्म के मुताबिक 13 लाख कार्ड डीटेल्स एक वेबसाइट पर मौजूद हैं. ZDNet की एक रिपोर्ट के मुताबिक Group-IB ने कहा है कि इन कार्ड्स की डीटेल 100 डॉलर में बेची जा रही है..हैकर्स आम तौर पर बल्क में कार्ड डीटेल्स खरीदते हैं और फिर इन्हें एक एक करके यूज करते हैं और सफल होने पर उन कार्ड्स में कुछ के अकाउंट्स खाली कर देते हैं. हालांकि कार्ड का सोर्स पता नहीं चल पाया है कि इसे कहां से लाया गया है. ट्रैक-2 डेटा चोरी हुआ है इसमें ग्राहक की प्रोफाइल और लेन-देन की सारी जानकारी होती है.

कुल खातों में से 98 प्रतिशत भारतीय बैंकों का है और बाकी कोलंबियाई वित्तीय संस्थानों के हैंबताया जा रहा है कि शुरुआती एनालिसिस ये बात सामने आ रही है ATM और PoS सिस्टम में इंस्टॉल किए स्किमिंग डिवाइस से कलेक्ट किए गए हैं. स्किमिंग के बारे में बात करें तो ये एक तरीका है जिससे फ्रॉड कार्डहोल्डर की डीटेल्स कलेक्ट करते हैं. इस मेथड के तहत एक छोटा डिवाइस ATM या PoS मशीन में लगाया जाता है. ग्रुप आईबी द्वारा साझा किए गए स्क्रीन-शॉट के अनुसार, प्रत्येक कार्ड 100 डॉलर (लगभग 7,092 रुपये) में बेचा जा रहा है और कुल मिलाकर, इसकी कीमत 130 मिलियन डॉलर (लगभग 921.99 करोड़ रुपये) से अधिक है

12 लाख डेबिट क्रेडिट कार्ड की जो जानकारियां वेबसाइट पर अपलोड की गई हैं इनमें वो डेटा है जो पेमेंट कार्ड के मैग्नेटिक स्ट्रिप पर होता है. इस तरह का डेटा भी स्किमिंग मेथड के तहत कलेक्ट किया जा सकता है.  ग्रुप-आईबी की रिसर्च टीम के अनुसार, जोकर्स स्टैश नामक एक डार्क वेब साइट ने भारत से 13 लाख से अधिक क्रेडिट और डेबिट कार्ड का डेटा डंप किया है.

यह सबसे बड़ा है और डार्क वेब पर अबतक किए गए सबसे मूल्यवान डेटाबेस अपलोड में से एक है.रिपोर्ट के मुताबिक ये सभी भारतीय कार्ड डीटेल्स को  जोकर स्टैश पर अपलोड किया गया है जो पेमेंट कार्ड डेटा के लिए पॉपुलर डार्क वेब डेस्टिनेशन है. यहां से फ्रॉड्स कार्ड्स की डीटेल्स खरीदते हैं और इसे ATM से पैसे निकालने के लिए कार्ड क्लोनिंग करते हैं., शोधकर्ताओं को इसका पता 28 अक्टूबर को चला था.

और पढ़ें