Jaipur: गांधीवादी विचारक डॉ. एसएन सुब्बाराव का निधन, SMS अस्पताल में 6 दिन से चल रहा था इलाज; CM गहलोत सुब्बाराव की सेहत के प्रति थे बेहद चिंतित

Jaipur: गांधीवादी विचारक डॉ. एसएन सुब्बाराव का निधन, SMS अस्पताल में 6 दिन से चल रहा था इलाज; CM गहलोत सुब्बाराव की सेहत के प्रति थे बेहद चिंतित

जयपुर: एसएमएस अस्पताल में भर्ती गांधीवादी विचारक डॉ. एसएन सुब्बाराव का आज सुबह निधन हो गया है. उनका पिछले 6 दिन से SMS अस्पताल में इलाज चल रहा था. कल शाम हार्ट अटैक आने के बाद उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सुब्बाराव की सेहत के प्रति बेहद चिंतित थे. सीएम गहलोत ने 6 दिन में 3 बार अस्पताल पहुंचकर उनकी कुशलक्षेम जानी थी. मुख्यमंत्री गहलोत ने एक बार प्राकृतिक चिकित्सालय और 2 बार SMS पहुंचकर सुब्बाराव के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी. 

दरअसल, डॉ. एसएन सुब्बाराव और सीएम गहलोत का नाता बेहद ख़ास और बहुत पुराना है. गहलोत उन्हें 'भाईजी' कहकर पुकारते हैं. मुख्यमंत्री जब महज़ 12 साल के थे तब से ही वे सुब्बाराव के शिविर में भाग लेने जाया करते थे. यही वजह है कि सत्ता में आने के बाद भी गहलोत ने सुब्बाराव से जयपुर में ही रहकर प्रदेश के युवाओं को जागरूक करने की मुहिम चलाने का आग्रह किया था.

9 अगस्त 1942 को मात्र 13 साल की उम्र में जुड़ गए आजादी आंदोलन से:
गांधीवादी विचारक डॉ. एसएन सुब्बाराव का कर्नाटक के बेंगलुरु में 7 फरवरी 1929 को जन्म हुआ था. सुब्बाराव स्कूल में पढ़ते समय महात्मा गांधी की शिक्षा से प्रेरित थे. वह 9 अगस्त 1942 को मात्र 13 साल की उम्र में आजादी आंदोलन से जुड़ गए थे. ब्रिटिश पुलिस द्वारा गिरफ्तार करने पर उन्होंने दीवार पर  'QUIT INDIA' लिखा था. तभी से सुब्बा राव स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय हो गए थे. उन्होंने छात्र जीवन के दौरान स्टूडेंट कांग्रेस और राष्ट्र सेवा दल के कार्यक्रमों में भाग लिया था. सुब्बाराव पद्मश्री अवार्ड से सम्मानित थे. 

और पढ़ें