जयपुर  चिरंजीवी योजना को लेकर Government ने दिए दिशा निर्देश, अब हर Hospital को मानने होंगे नए नियम

 चिरंजीवी योजना को लेकर Government ने दिए दिशा निर्देश, अब हर Hospital को मानने होंगे नए नियम

 चिरंजीवी योजना को लेकर Government ने दिए दिशा निर्देश, अब हर Hospital को मानने होंगे नए नियम

जयपुर: राजस्थान सरकार (Rajasthan Government ) ने रविवार को ​जयपुर जिला स्तरीय बैठक (District Level Meeting) ली. बैठक में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने सभी अस्पतालों को चिरंजीवी योजना को लेकर आमजन को जागरूक करने के लिए अस्पताल परिसर में बड़े आकार के बोर्ड लगाने के निर्देश दिए है.

बोर्ड पर योजना के तहत होने वाले इलाज के बारे में भी लिखा जाए:
बैठक में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया (Agriculture Minister Lalchand Kataria) ने समीक्षा बैठक में निर्देश दिए कि चिरंजीवी योजना (Chiranjeevi Scheme) में शामिल सभी अस्पतालों पर बडे़ आकार का बोर्ड लगाकर अस्पताल में इसके अन्तर्गत होने वाले इलाज की जानकारी दी जाए. साथ ही अस्पताल भर्ती के समय ही मरीज को पूरी बात समझाकर भर्ती करें, यदि वे किसी कारण योजना का लाभ देने में सक्षम नहीं हैं तो उसे सही अस्पताल में रैफर करें. उन्होंने CMHO एवं जिला प्रशासन को इसे सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया.

ग्रामीण इलाकों में नाइट ड्यूटी को लेकर रोस्टर बनाए:
कटारिया ने CMHO को विशेष रूप से ग्रामीण CHC PHC पर चिकित्सकों की रोस्टर बनाकर रात्रिकालीन पारी में भी ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए. उन्होंने महंगी मोबाइल एम्बुलेंस (Mobile Ambulance) खरीद के बजाय अधिक संख्या में सस्ती मोबाइल वैन खरीदने के निर्देश दिए जिससे अधिक बडे़ क्षेत्र में लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं (Health Services) प्रदान की जा सकें. कटारिया ने कहा कि कई सरकारी कर्मचारियों की भी मृत्यु कोरोना से हुई है. राजकीय अधिकारी उनके घर जाएं, संवेदना प्रकट करने के साथ ही भविष्य में उनके पात्र वारिस को अनुकम्पा नियुक्ति में सहायता करें.

अस्पताल में अटेण्डेंट को परिजनों से नहीं मिलने देने पर होगी कार्रवाई:
परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास (Transport Minister Pratap Singh Khachariyawas) ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान वे स्वयं 28 बार विभिन्न निजी और राजकीय अस्पतालों और ICU में कोरोना मरीजों के बीच गए. कई जगह अटेण्डेंट को परिजन से मिलने तक नहीं गया. उन्होंने निर्देश दिए कि अगर किसी निजी अस्पताल में अटेण्डेंट को उसके परिजन से मिलने नहीं दिया गया तो कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने भी कहा कि चिंरजीवी योजना में शामिल हुए अस्पताल के लिए इसकी शर्ते मानना बाध्यकारी है.

और पढ़ें