जयपुर कोरोना वायरस के चलते हाईकोर्ट ने नगर निगम चुनाव को 6 सप्ताह के लिए किया स्थगित, चुनाव आयोग को दिए निर्देश

कोरोना वायरस के चलते हाईकोर्ट ने नगर निगम चुनाव को 6 सप्ताह के लिए किया स्थगित, चुनाव आयोग को दिए निर्देश

जयपुर: कोरोना वायरस महामारी के चलते राज्य में 5 अप्रैल को होने वाले निगम चुनावों को 6 सप्ताह के लिए स्थगित कर दिया गया है. हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को चुनाव स्थगित करने के निर्देश दिए है. नगर निगम चुनाव स्थिगत होने पर जस्टिस संगीत लोढा ने कहा कि कोरोना महामारी घोषित की जा चुकी है. इसके लिए केंद्र सरकार भी महामारी को लेकर गाइडलाइन जारी कर चुकी है. इसी के चलते राज्य में जयपुर, जोधपुर और कोटा में 5 अप्रैल को होने वाले चुनावों को स्थिगत किया गया है. 

VIDEO: अजमेर में बजरी से भरे डंपर व कार में भीषण भिड़ंत, कार सवार 5 लोगों की मौत 

राज्य सरकार ने हाईकोर्ट का रूख किया था:
इससे पहले कोरोना वायरस महामारी के चलते राज्य में 5 अप्रैल को होने वाले निगम चुनावों को टालने के लिए राज्य सरकार ने हाईकोर्ट का रूख किया था. राज्य सरकार की ओर से महाधिवक्ता एम एस सिंघवी ने प्रार्थना पत्र पेश कर चुनावों को 6 सप्ताह के लिए टालने की गुहार लगायी थी. सरकार ने ये प्रार्थना पत्र सतीश कुमार शर्मा बनाम राज्य सरकार केस में पेश किया. सरकार की ओर से केस की अर्जेट सुनवाई के लिए मेंशन किया गया है. इस पर बुधवार को हाईकोर्ट में सरकार के प्रार्थना पत्र के साथ साथ इसी केस से जुड़ी अन्य जनहित याचिकाओं पर सुनवाई हुई. 

6 सप्ताह के लिए टालने की गुहार लगायी थी:
राज्य में जयपुर, जोधपुर और कोटा में 5 अप्रैल को नगर निगम के चुनाव होने थे. इन चुनाव को टालने के लिए अब राज्य सरकार के साथ साथ कई निजी पक्षकारों ने भी राजस्थान हाईकोर्ट का रूख किया. सरकार ने जहां प्रार्थना पत्र पेश कर कोरोना वायरस के चलते इन चुनावों को 6 सप्ताह के लिए टालने की गुहार लगायी वहीं एडवोकेट पूनमचंद भण्डारी, विजय पाठक, मनोज सहित अन्य पक्षकारो ने भी जनहित याचिकाए दायर कर जनहित में कोरोना के चलते चुनाव टालने की गुहार लगायी थी. 

राज्य में निगम चुनाव 15 अप्रैल तक कराने के निर्देश दिये थे:
राज्य सरकार की ओर से पेश किये गये प्रार्थना पत्र के साथ ही 5—6 जनहित याचिकाए भी दायर कि गयी थी. राज्य सरकार ने सतीशकुमार शर्मा बनाम राज्य सरकार के तहत प्रार्थना पत्र दायर कर चुनावों को 6 सप्ताह के लिए आगे खिसकाने की गुहार लगायी थी. गौरतलब है कि हाईकोर्ट ने सतीशकुमार शर्मा बनाम राज्य सरकार के मुख्य केस में ही राज्य में निगम चुनाव 15 अप्रैल तक कराने के निर्देश दिये थे. इसी के चलते सरकार ने इस केस में प्रार्थना पत्र पेश कर कोरोना वायरस के चलते चुनाव टालने की गुहार लगायी. इसके साथ ही हाईकोर्ट में पूनमचंद भण्डारी, विजय पाठक, मनोज शर्मा,सुरेन्द्र पारीक, राष्ट्र नवनिर्माण सेना सहित कई अन्य की ओर से भी जनहित याचिकाए दायर कि गयी. 

VIDEO- Corona Impact: सभी स्मारक, नेशनल पार्क, सफारी, मेले बंद, 10 लाख से ज्यादा लोग हुए बेरोजगार 

31 मार्च तक सिर्फ अर्जेट केसेज की सुनवाई:
हाईकोर्ट में कोरोना वायरस के चलते 31 मार्च तक सिर्फ अर्जेट केसेज की सुनवाई होगी. ऐसे में सरकार ने इस केस की शीघ्र सुनवाई के लिए मंगलवार शाम को अर्जेंट मेशनिंग की है. जिसके बाद सरकार के प्रार्थना पत्र के साथ साथ अन्य जनहित याचिकाओं पर बुधवार को ही सुनवाई हुई. इस दौरान ही चुनाव को स्थगित करने का फैसला लिया गया है. 

और पढ़ें