इसरो ने शेयर की, चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर से भेजी चांद की तस्वीर

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/10/05 11:10

नई दिल्ली: ऑर्बिटर के हाई रेजॉलूशन कैमरे से खींची इन तस्वीरों में चांद की अलग ही झलक देखने को मिल रही है चंद्रयान-2 मिशन भले ही पूरी तरह कामयाब न हो पाया हो.इसरो ने चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर के कैमरे से चांद की खींची तस्वीरें आज जारी की है लेकिन चंद्रमा की सतह के बारे में ऑर्बिटर सटीक जानकारियां दे रहा है.इस तस्वीर में चंद्रमा के सतह पर बड़े और छोटे गड्ढे नजर आ रहे हैं.ऑर्बिटर हाई रिजोल्यूशन कैमरे (OHRC) चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 की हाई रिजोल्यूशन तस्वीरें मुहैया कराता है. यह पैंक्रोमैटिक बैंड (450-800 nm) पर संचालित होता है

विक्रम लैंडर अगर चंद्रमा की सतह पर उतरने में कामयाब हुआ होता तो कहानी कुछ और होती. लेकिन भले ही विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह पर उतर पाने में कामयाब हुआ हो चांद की सतह से 100 किमी ऊपर चक्कर लगा रहा ऑर्बिटर बेहद हाई रिजोल्यूशन वाली तस्वीरें इसरो सेंटर को भेज रहा है इसरो ने इन तस्वीरों को शुक्रवार को देश और दुनिया से साझा किया.ऑर्बिटर ने 100 किमी की ऊंचाई से बोगुस्लावस्की ई क्रेटर के कुछ हिस्सों की तस्वीरों को भेजा है जो चांद के दक्षिण ध्रुव वाले हिस्से में है.इसके साथ ही दूसरी तस्वीरों में चंद्रमा की सतह पर बोल्डर्स को देखा जा सकता है.

इसके साथ ही कुछ ऐसे भी क्रेटर्स हैं जिनका व्यास 5 किमी से कम है.चांद की सतह से जिन बोल्डर्स की तस्वीरें आई हैं उनमें बोल्डर्स की ऊंचाई 1 से 2 मीटर के बीच है। इसरो सेंटर से जुड़े शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे चांद की सतह की बनावट को समझने में मदद मिलेगी.

ओएचआरसी इमेज, शुक्रवार यानि 5 सितंबर को प्रार्त की गई. ऑर्बिटर ने 14 किमी व्यास और 3 किमी गहराई वाले बोगुस्लावस्की ई क्रेटर की तस्वीर को भेजा है. बता दें कि जर्मन एस्ट्रोनॉमर लुडविग वॉन बोगुस्लावस्की के नाम पर इस क्रेटर का नामकरण किया था.ओएचआरसी की खासियत ये है कि इसके जरिए चांद की सतह का क्षैतिज और लंबवत दोनों तरह से तस्वीरें ली जा सकती हैं. यह कैमरा पैनक्रोमेटिक बैंड यानि की 450- 800 एनएम में काम करता है.यह लंबवत और क्षैतिज दोनों दिशा में 100 किमी की कक्षा से तीन किमी लंबाई और चौड़ाई में बेहतर तस्वीरें ले सकता है. अभी चांद की कक्षा में चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर मौजूद है जो 7.5 साल तक अपना काम करता रहेगा. इसी ऑर्बिटर के कैमरे से ही चांद की नई तस्वीरें साझा की गई हैं.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in