Live News »

अयोध्या पर आखिरी सुनवाई से पहले इकबाल अंसारी के वकील का दावा- मध्यस्थता की बात गलत, नहीं छोड़ेंगे जमीन

अयोध्या पर आखिरी सुनवाई से पहले इकबाल अंसारी के वकील का दावा- मध्यस्थता की बात गलत, नहीं छोड़ेंगे जमीन

नई दिल्ली अंतिम सुनवाई से ठीक पहले इस केस के मुख्य मुस्लिम पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड के जमीन पर अपना दावा छोड़ने की खबर ने बुधवार सुबह हलचल मचा दी.सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या के रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर आखिरी सुनवाई से पहले मुस्लिम पक्ष की ओर से इस मामले में मध्यस्थता की खबरों का खंडन किया गया है. मुस्लिम पक्ष की ओर से पक्षकार इकबाल अंसारी के वकील एम.आर. शमशाद ने एक बयान जारी कर कहा है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड ने जमीन पर दावा छोड़ने की बात नहीं की है, ये सभी अफवाहें हैं.सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने भी इन अटकलों को सिरे से खारिज किया है

रिपोर्ट्स में कहा जा रहा था कि यूपी सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने मध्यस्थता पैनल के जरिए सुप्रीम कोर्ट में केस वापस लेने का हलफनामा दाखिल कर दिया है.गुरुवार को जब सुप्रीम कोर्ट में इस मामले पर आखिरी दलील शुरू हो रही है, उससे पहले मुस्लिम पक्ष के वकील की ओर से बयान जारी किया गया है. एम. आर. शमशाद ने अपने बयान में लिखा है, ‘मैं इस मामले में पिछले काफी समय से हाशिम अंसारी, अब इकबाल अंसारी की ओर से दलीलें रख रहा हूं. सुन्नी वक्फ बोर्ड को लेकर मध्यस्थता की बातें जो चल रही हैं उस बारे में मैं साफ करना चाहता हूं कि ऐसी कोई अपील नहीं की गई है.’बयान में वकील ने कहा है कि मुस्लिम पक्ष की ओर से कुल 6 पार्टियां ये केस लड़ रही हैं, इनमें से सुन्नी वक्फ बोर्ड एक पार्टी है. 

अंसारी ने कहा कि कोर्ट सबूतों के आधार पर फैसला करता है, इसलिए अटकलें लगाने से कुछ नहीं होगाखुद इस मामले में पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट इस केस में जो भी फैसला करेगा, वो मानेंगे. उन्होंने अपील करते हुए कहा कि फैसला जिसके भी पक्ष में आए, उसे मानना चाहिए. लोग शांति से सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करें. हम हमेशा से ही देश की तरक्की चाहते हैं. इकबाल अंसारी अयोध्या केस के एक प्रमुख पक्षकार रहे हाशिम अंसारी के पुत्र हैं.हाशिम अंसारी का निधन हो चुका है

और पढ़ें

Most Related Stories

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने की राष्ट्रपति कोविंद से मुलाकात, बताई जल शक्ति मंत्रालय की उपलब्धियां

केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने की राष्ट्रपति कोविंद से मुलाकात, बताई जल शक्ति मंत्रालय की उपलब्धियां

नई दिल्ली: केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से मुलाकात की. जल शक्ति मंत्रालय के पहले वर्ष में प्राप्त उपलब्धियों का विवरण पुस्तिका की पहली प्रति राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेंट की.उसके बाद उपराष्ट्रपति को भेंट की गई. राष्ट्रपति निवास में केंद्रीय मंत्री ने राष्ट्रपति को देशभर में चल रही जल प्रबंधन से जुड़ी विविध प्रगतियों से अवगत कराया.

आयकर रिटर्न पर कोरोना ग्रहण! पिछले साल की तुलना में 66 फीसदी की कमी

हर घर में नल से जल पहुंचाने का संकल्प:
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में स्वच्छता क्रांति की अलख जगाने के बाद देश के हर घर में नल से जल पहुंचाने का संकल्प लिया है. इस संकल्प को सिद्ध करने के लिए जल पर कार्य कर रहे सभी विभागों को एकीकृत कर जल शक्ति मंत्रालय निर्मित हुआ. मंत्रालय ने अपने पहले वर्ष में जल शक्ति अभियान, जल जीवन मिशन, अटल भूजल योजना जैसी कारगर योजनाओं के माध्यम से किसानों और ग्रामीणों के जीवन में जो परिवर्तन किए हैं.

जल प्रबंधन से जुड़ी विविध प्रगतियों की दी जानकारी:
जल जीवन मिशन के तहत अब तक 84.83 लाख से ज्यादा ग्रामीण आवासों में नल कनेक्शन लगाए जा चुके हैं. 3.60 लाख करोड़ रुपए की इस परियोजना में पांच वर्षों में देशभर के 15.81 करोड़ ग्रामीण आवासों में नल कनेक्शन लगाए जाने हैं. 6000 करोड़ रुपए की अटल भूजल योजना में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा, राजस्थान और महाराष्ट्र के 8350 गांवों में भूजल स्तर सुधारने के लिए कार्य किया जा रहा है.

VIDEO: जैसलमेर शहर के भ्रमण पर निकले मंत्री और विधायक, पटवा हवेली और जैन मंदिर का किया भ्रमण

सुषमा स्वराज की पहली पुण्यतिथि आज, बीजेपी नेताओं ने किया याद

सुषमा स्वराज की पहली पुण्यतिथि आज, बीजेपी नेताओं ने किया याद

नई दिल्ली: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पहली पुण्यतिथि पर गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और कई केंद्रीय मंत्रियों ने उन्हें याद किया और अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की. 

सुषमा स्वराज की पुण्यतिथि पर किया नमन: 
बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री, सरलता और सौम्यता की प्रतिमूर्ति, मृदुभाषी एवं प्रखर वक्ता, पद्म विभूषण श्रीमती सुषमा स्वराज जी की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन। सुषमा स्वराज को जन-जन की नेता बताते हुए नड्डा ने कहा कि उन्होंने सदैव जनसेवा को ही प्राथमिकता दी. राष्ट्र निर्माण में उनके द्बारा किए गए कार्य और संघर्ष अविस्मरणीय रहेंगे. 

मुंबई में आफत की बारिश, जन जीवन बेहाल, ठाणे और पालघर में रेड अलर्ट जारी

प्रकाश जावड़ेकर ने दी भावभीनी श्रद्धांजलि:
सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट करते हुए देश की पूर्व विदेश मंत्री और  एक ओजस्वी वक्ता आदरणीया सुषमा स्वराज जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि.केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने उन्हें सबसे ऊंचे कद की भारतीय महिला नेताओं में से एक बताया और कहा कि देश के लिए उनका योगदान हमेशा याद किया जाएगा. उन्होंने कहा ​कि वे लोगों के बीच घुल मिल जाती थीं। उन्होंने अपना पूरा जीवन जन सेवा में खपा दिया. 

Rajasthan Political Crisis: राजस्थान हाईकोर्ट के 11 अगस्त के फैसले से तय होगा सरकार का भविष्य 

मुंबई में आफत की बारिश, जन जीवन बेहाल, ठाणे और पालघर में रेड अलर्ट जारी

 मुंबई में आफत की बारिश, जन जीवन बेहाल, ठाणे और पालघर में रेड अलर्ट जारी

नई दिल्ली: मुंबई में तीसरे दिन गुरुवार को भी बारिश का दौर जारी है. यहां पर बारिश की वजह से सडकों पर पानी भर गया है. बारिश की वजह से मुंबई, ठाणे और पालघर में रेड अलर्ट जारी किया गया है. 

लोगों से घरों में रहने की अपील:
महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने लोगों से घर में ही रहने की अपील की है. सीएम ठाकरे ने इस संबंध में एक बैठक की और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की 16 दलों को बचाव कार्य में लगाया है. इनमें से 5 दल मुंबई में तैनात हैं और इसके अलावा 4 टीमें कोल्हापुर, 2 टीमें सांगली और एक-एक टीम सतारा, ठाणे, पालघर, नागपुर और रायगढ़ में तैनात की गई हैं.

टीवी अभिनेता समीर शर्मा ने की आत्महत्या, पंखे से लटका मिला शव, जांच में जुटी मुंबई पुलिस

समुन्द्र में ज्वार आने का अनुमान:
मौसम विभाग के मुताबिक समुद्र में ज्वार आने का भी अनुमान लगाया गया है. इस दौरान ऊंची लहरें उठने की संभावना जताई गई हैं. बारिश को देखते हुए मुंबई, ठाणे और पालघर में बारिश की वजह से रेड अलर्ट जारी किया गया है. मुंबई में कल लगभग 100 किमी प्रति घंटे की तेज गति की हवा के साथ बारिश हुई, जिससे कई निचले इलाके में पानी भर गया और कई पेड़ उखड़ गये. भारी बारिश की वजह से रेल और सडक़ यातायात बाधित हो गया. 

हरियाणा में बनेंगे परिवार पहचानपत्र, मिलेगा सरकारी योजनाओं का लाभ

देश की अर्थव्यवस्था अब सुधर रही, रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं

देश की अर्थव्यवस्था अब सुधर रही, रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के निर्णयों का ऐलान कर दिया गया है. RBI ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है. रेपो रेट 4% और रिवर्स रेपो रेट 3.35% पर बरकरार है. ऐसे में साफ है कि आपको ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर नई राहत नहीं मिलेगी.

गुजरात: अहमदाबाद के कोरोना अस्पताल में आग लगने से 8 मरीजों की मौत, PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा 

कोरोना की मार के बाद देश की अर्थव्यवस्था अब सुधर रही:
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि ग्लोबल इकनॉमी कमजोर है. लेकिन कोरोना की मार के बाद देश की अर्थव्यवस्था अब सुधर रही है. विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ा है. खुदरा महंगाई दर नियंत्रण में है. उन्होंने कहा कि वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी ग्रोथ रेट निगेटिव रहेगी. जून में लगातार चौथे महीने भारत के व्यापार निर्यात में कमी आई. घरेलू मांग में कमी और अंतर्राष्ट्रीय क्रूड तेल के दामों में कमी की वजह से जून महीने में आयात में काफी कमी आई.

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार 

कोरोना काल में आरबीआई के मौद्रिक नीति समीक्षा की तीसरी बैठक:  
कोरोना काल में आरबीआई के मौद्रिक नीति समीक्षा की तीसरी बैठक थी. बता दें कि कोरोना संकट की वजह से दो बार समय से पहले बैठक हो चुकी है. पहली बैठक मार्च में और उसके बाद मई, 2020 में दूसरी बैठक हुई. इन दोनों बैठकों में रिजर्व बैंक की रेपो रेट में कुल मिला कर 1.15 फीसदी की कटौती की. बीते साल यानी फरवरी, 2019 के बाद रेपो रेट में 2.50 फीसदी की कटौती हो चुकी है.


 

गुजरात: अहमदाबाद के कोरोना अस्पताल में आग लगने से 8 मरीजों की मौत, PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा

गुजरात: अहमदाबाद के कोरोना अस्पताल में आग लगने से 8 मरीजों की मौत, PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा

अहमदाबाद: गुजरात में अहमदाबाद के एक कोविड-19 अस्पताल में आज भीषण आग लगने से बड़ा हादसा हो गया. आग की घटना में अस्पताल में इलाज करा रहे  8 मरीजों की मौत हो गई. इन आठ मरीजों में तीन महिलाएं हैं. आग की घटना के बाद करीब 40 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में शिफ्ट किया गया है. ये हादसा नवरंगपुरा के श्रेय अस्पताल में विस्फोट से हुआ है. 

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार 

पीएम मोदी ने हादसे पर दुख जताया:
पीएम मोदी ने हादसे पर दुख जताया है और शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए घायलों के जल्द ठीक होने की कामना की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि अहमदाबाद के अस्पताल में आग लगने से दुखी हूं. शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना है. घायल लोगों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं. इस घटना को लेकर गुजरात के सीएम विजय रूपाणी और अहमदाबाद के मेयर से बात की है. प्रशासन प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहा है.

PM मोदी ने की मुआवजे की घोषणा:
पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय राहत कोष (PMNRF) से प्रत्येक मृतक के परिजनों को 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है. आग लगने से जो लोग घायल हुए हैं उन लोगों को 50,000 रुपये दिया जाएगा.

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार 

मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश: 
सीएम विजय रुपाणी ने अहमदाबाद के श्रेय अस्पताल में आग लगने की घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं. अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह विभाग) संगीता सिंह जांच का नेतृत्व करेंगी. सीएम ने तीन दिन में रिपोर्ट देने का आदेश दिया है. यह जानकारी मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा दी गई है. 

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार

Coronavirus in India: 24 घंटे में मिले कोरोना के 56 हजार से ज्यादा नए मरीज, मृतकों का आंकड़ा 40 हजार के पार

नई दिल्ली: भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या में तेजी से इजाफा होता जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 56,283 नए मामले सामने आए हैं और 904 लोगों की मौत हुई है. ऐसे में अब देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 19,64,537 हो गई है. जिनमें से 5,95,501 सक्रिय मामले हैं, 13,28,337 लोग ठीक हो चुके हैं और अब तक 40,699 लोगों की मौत हो चुकी है. 

कोटा ACB की रामगंजमंडी में बड़ी कार्रवाई, नगरपालिका ईओ पंकज मंगल एक लाख की घूस लेते ट्रैप 

महाराष्ट्र में इस वक्त सबसे ज्यादा एक्टिव केस:  
देश में इस वक्त सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं. अब तक राज्य में 4.57 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं. इनमें 10 हजार से ज्यादा पुलिसकर्मी भी शामिल हैं. इसके बाद दूसरे नंबर पर तमिलनाडु, तीसरे नंबर पर कर्नाटक, चौथे नंबर पर आंध्र प्रदेश और पांचवे नंबर पर दिल्ली है. इन पांच राज्यों में सबसे ज्यादा एक्टिव केस हैं.  

दुनियाभर में मरने वालों की संख्या सात लाख 11 हजार से ज्यादा: 
दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है. वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, इस वायरस से मरने वालों की संख्या सात लाख 11 हजार से ज्यादा हो गई है और संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ 89 लाख 74 हजार को पार कर गया है. जबकि एक करोड़ 21 लाख 62 हजार से ज्यादा लोगों ने कोरोना को मात दी है. 

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार 

भारत दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश: 
भारत कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से दुनिया का तीसरा सबसे प्रभावित देश है. अमेरिका, ब्राजील के बाद कोरोना महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित भारत है. लेकिन अगर प्रति 10 लाख आबादी पर संक्रमित मामलों और मृत्युदर की बात करें तो अन्य देशों की तुलना में भारत की स्थिति बहुत बेहतर है. देश में कोरोना मामले बढ़ने की रफ्तार भी दुनिया में तीसरे नंबर पर बनी हुई है.


 

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार

जम्मू-कश्मीर: मनोज सिन्हा होंगे नए उपराज्यपाल, जीसी मुर्मू का इस्तीफा स्वीकार

नई दिल्ली: पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता मनोज सिन्हा को जम्मू-कश्मीर का नया उपराज्यपाल नियुक्त किया गया है. इससे पहले बुधवार शाम को गिरीश चंद्र मुर्मू ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. जीसी मुर्मू ने ऐसे समय में इस्तीफा दिया, जब बुधवार को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का एक साल पूरा हुआ है. जम्मू-कश्मीर पूर्ण राज्य था तब मुर्मू से पहले सत्यपाल मलिक यहां के राज्यपाल थे, लेकिन जब केंद्र शासित प्रदेश बना तो अधिकारी जीसी मुर्मू को वहां भेजा गया.

6 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, आज के दिन जन्मे जातक होते हैं बुद्धिवान और भाग्यवान 

31 अक्टूबर को मुर्मू को उपराज्यपाल नियुक्त किया गया था: 
पिछले साल पांच अगस्त को मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान समाप्त कर दिये थे और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बांट दिया था. इसके बाद 31 अक्टूबर को मुर्मू को उपराज्यपाल नियुक्त किया गया था. 1985 बैच के आईएएस अधिकारी मुर्मू के इस्तीफे के कारणों पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है. 

सिन्हा 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे: 
मनोज सिन्हा पूर्व में गाजीपुर से सांसद रहे हैं और पूर्वी यूपी में बीजेपी के बड़े चेहरे हैं. हालांकि सिन्हा 2019 का लोकसभा चुनाव हार गए थे. मनोज सिन्हा मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में मंत्री रह चुके हैं और उनके पास रेलवे के राज्यमंत्री और संचार राज्यमंत्री का कार्यभार था.

Horoscope Today, 6 August 2020: गुरुवार को चमकेंगे इन पांच राशि वालों के सितारे, करें ये उपाय  

मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे थे:
बता  दें कि बीजेपी को यूपी के 2017 के विधानसभा चुनाव में बड़ी जीत मिलने पर मनोज सिन्हा मुख्यमंत्री पद की रेस में सबसे आगे थे. इस दौरान वो दिल्ली से वाराणसी पूजा करने गए थे और इस उम्मीद में थे कि सीएम पद की शपथ लेंगे. लेकिन पार्टी ने योगी आदित्यनाथ को आगे किया. उसके बाद प्रधानमंत्री के भरोसेमंद होने के चलते उन्हें अब यह बड़ी जिम्मेदारी दी गई है. 


 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

Ram Mandir Bhoomi Pujan: राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा- पीएम मोदी

अयोध्या: अयोध्या में राम मंदिर का भूमि पूजन पूरा हो गया है और पीएम मोदी ने राम मंदिर की आधारशिला रख दी है. उसके बाद प्रधानमंत्री ने राम मंदिर के शिलापट जारी किया, इसके साथ ही डाकटिकट भी जारी किया. पीएम मोदी को यहां भगवान राम की मूर्ति भेंट की गई. उन्होंने कहा कि मेरा सौभाग्य है मुझे ट्रस्ट ने ऐतिहासिक पल के लिए आमंत्रित किया. 

Ram Mandir Bhoomi Pujan: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी राम मंदिर की आधारशिला, अयोध्या में रचा गया इतिहास

आज पूरा भारत राममय हो गया: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि करोड़ों लोगों को इस बात का विश्वास ही नहीं हो रहा होगा कि वो अपने जीते-जी इस कार्य को शुरु होते हुए देख रहे हैं. राम जन्मभूमि आज मुक्त हुई है और आज पूरा भारत राममय हो गया है. रामलला बरसों तक टेंट में रहे थे, लेकिन अब भव्य मंदिर बनेगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि गुलामी के कालखंड में आजादी के लिए आंदोलन चला है, 15 अगस्त का दिन उस आंदोलन का और शहीदों की भावनाओं का प्रतीक है. ठीक उसी तरह राम मंदिर के लिए कई-कई सदियों तक पीढ़ियों ने प्रयास किया है, आज का ये दिन उसी तप-संकल्प का प्रतीक है. राम मंदिर के चले आंदोलन में अर्पण-तर्पण-संघर्ष-संकल्प था. 

मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा:
उन्होंने कहा कि राम मंदिर आने वाली पीढ़ियों को संकल्प की प्रेरणा देता रहेगा. पूरी दुनिया से लोग यहां आएंगे, यहां के लोगों के लिए अवसर बनेगा. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के चलते भूमि पूजन कार्यक्रम अनेक मर्यादाओं के बीच चल रहा है. उन्होंने कहा कि इस मंदिर के साथ इतिहास खुद को दोहरा रहा है, जिस तरह गिलहरी से लेकर वानर, केवट से लेकर वनवासी बंधुओं को राम की सेवा करने का सौभाग्य मिला.

राम मंदिर नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक: 
प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया के लोग इस भव्य राम मंदिर के बनने के बाद यहां प्रभु राम और माता जानकी के दर्शन के लिए आएंगे. ये राम मंदिर वर्तमान को अतीत से जोड़ने का प्रतीक होने के साथ साथ नर से नारायण को जोड़ने का प्रतीक है. आज पूरा भारत राममय, हर मन रोमांचित और हर घर दीपमय है. उन्होंने कहा कि श्रीराम का मंदिर हमारी संस्कृति का आधुनिक प्रतीक बनेगा. हमारी शाश्वत आस्था का प्रतीक बनेगा, राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा और ये मंदिर करोड़ों-करोड़ों लोगों की सामूहिक शक्ति का भी प्रतीक बनेगा.

बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय का मामला, हाई कोर्ट विधानसभा अध्यक्ष को नोटिस जारी कर कल सुबह 10.30 बजे तक मांगा जवाब 

भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय:
प्रधानमंत्री ने कहा कि लोगों के सहयोग से राम मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हुआ है, जैसे पत्थर पर श्रीराम लिखकर रामसेतु बना, वैसे ही घर-घर से आई शिलाएं श्रद्धा का स्त्रोत बन गई हैं. ये न भूतो-न भविष्यति है. उन्होंने कहा कि भारत की ये शक्ति पूरी दुनिया के लिए अध्ययन का विषय है. राम हर जगह हैं, भारत के दर्शन-आस्था-आदर्श-दिव्यता में राम ही हैं. तुलसी के राम सगुण राम हैं, नानक-तुलसी के राम निगुण राम हैं. भगवान बुद्ध-जैन धर्म भी राम से जुड़े हैं. तमिल में कंभ रामायण है, तेलुगु, कन्नड़, कश्मीर समेत हर अलग-अलग हिस्से में राम को समझने के अलग-अलग रुप हैं. उन्होंने कहा कि राम सब जगह हैं, राम सभी में हैं. विश्व की सबसे अधिक मुस्लिम जनसंख्या इंडोनेशिया में है, वहां पर भी रामायण का पाठ होता है. दुनिया के न जाने कितने छोर हैं जहां की आस्था में और न जाने कितने रूपों में राम को लोग आराध्य मानते हैं. ऐसे सभी देशों में राम मंदिर के निर्माण के शुरू होने से उत्साह है. अयोध्या में बनने वाला राम मंदिर सिर्फ हमारे लिए नहीं , पूरी मानवता को प्रेरणा देता रहेगा. क्योंकि राम तो सबके हैं, राम तो सबमें हैं.


 

Open Covid-19