राजधानी में जलदाय विभाग की बड़ी लापरवाही, चार दिन से व्यर्थ बह रहा है लाखों लीटर पानी

Naresh Sharma Published Date 2019/05/14 07:51

जयपुर: प्रदेश में जलसंकट को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गंभीर हैं, लेकिन जलदाय विभाग के अधिकारी पूरी तरह लापरवाह नजर आ रहे हैं. राजधानी के सबसे व्यस्ततम इलाकों में से एक किशनपोल में लगातार चार दिन से पाइप लाइन टूटी पड़ी है. लाखों लीटर पानी बह चुका हैं, लेकिन अधिकारियों ने शायद आंख व कान बंद कर रखे हैं।

गड्डढे खोदने के बाद ठेकेदार ने बंद किया काम:
किशनपोल में अजायबघर के रास्ते में पुरानी लाइन की जगह नई लाइन डाली जा रही है, लेकिन इसी दौरान पानी की लाइन को तोड़ दिया गया. ऐसे में लगातार पानी बहता रहा. सिलसिला उसी दिन नहीं थमा, बल्कि चौथे दिन भी वहां पर लगातार पानी बहकर नालों में जा रहा है. जयपुर में एक तरफ लोग बूंद बूंद पानी को तरस रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ ठेकेदार व अफसरों की लापरवाही से यह अमृत व्यर्थ बह रहा है. स्थानीय लोगों ने अफसरों को कई बार शिकायत की, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. अब ठेकेदार ने भी यहां पर काम बंद कर दिया है. ऐसे में इस इलाके में जगह जगह गड्ढे पड़े हैं. पाइप लाइनें खुले में पड़ी हैं.

जलदाय विभाग के अफसरों पर असर नहीं:
खास बात यह है कि जो लाइने डाली गई है, उसमें सीधा भ्रष्टाचार नजर आ रहा है. नियमों के खिलाफ एक से डेढ फीट पर ही पानी की लाइन डाली गई है, ऐसे में थोड़े से दबाव से ये लाइनें टूट जाती है. सिर्फ किशनपोल में ही ऐसी स्थिति नहीं है, बल्कि जयपुर के कई ऐसे इलाके हैं, जहां पर काम करते वक्त पानी की लाइन टूट जाती है और फिर पानी व्यर्थ बहता रहता है. लाइनें डालने के दौरान ही अवैध कनेक्शन भी कर दिए जाते हैं. यह सब ठेकेदार व अधिकारियों की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in