एसआइटी के सामने पेश 84 दंगे का गवाह, MP सीएम कमलनाथ मुश्किल में

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/24 11:11

नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के लिए संकट बढ़ गया है.1984 सिख विरोधी दंगों में कांग्रेस के कई नेताओं का नाम आता है, जिसमें सबसे बड़ा नाम मध्य प्रदेश के मौजूदा मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) का है. खबर है कि मालमे में गवाह मुख्तयार सिंह अपना बयान दर्ज कराने के लिए सोमवार को विशेष जांच टीम (SIT) के सामने पेश हुए. पिछले दिनों शिरोमणि अकाली दल (SAD) नेता मनिंदर सिरसा ने इसका खुलासा किया था.  शिरोमणि अकाली दल (शिअद) नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर गवाहों की सुरक्षा की मांग की.
मुलाकात के बाद शिअद नेता ने कहा कि मामले में गवाहों की सुरक्षा को खतरा है. वहीं अब इस मामले से दिल्‍ली में आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की मुश्‍किलें बढ़ सकती है.

मुख्तयार सिंह ने बड़ा कदम उठाते हुए सोमवार को दक्षिणी दिल्ली के खान मार्केट इलाके में बने SIT के कार्यालय जाकर घटना का ब्योरा दिया. यह पहला मौका है जब मुख्तयार सिंह 3 सदस्यीय SIT टीम के सामने पेश हुए हैं. SIT में बयान दर्ज कराने के बाद उन्होंने मीडिया से बात करने से इन्कार कर दिया. सिर्फ इतना कहा कि वे SIT के समक्ष दिए बयान के बारे में नहीं बताएंगे.एसआइटी में बयान दर्ज कराने के बाद उन्होंने कहा कि वह जो कुछ कहा है उसके बारे में कोई जानकारी सार्वजनिक नहीं करेंगे

सूत्रों के मुताबिक मुख्तयार सिंह ने SIT सदस्यों को पूरी घटना के बारे में बता दिया है.इस टीम में एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी, एक पुलिस उपायुक्त और एक रिटायर जिला एवं सत्र न्यायाधीश शामिल हैं 9 सिंतबर को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मामला फिर से खोलने की मंजूरी दी थी.मोदी सरकार ने 2015 में सिख विरोधी दंगों की जांच के लिए SIT गठित कर दी थी

31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिख विरोधी दंगे शुरू हो गए थे.शुरू में कमलनाथ मामले में आरोपित थे लेकिन कोर्ट ने उनके खिलाफ कोई सुबूत नहीं पाया था.72 वर्षीय कांग्रेस नेता और नेहरू-गांधी परिवार के भरोसेमंद माने जाने वाले कमलनाथ संकट का सामना कर रहे हैं क्योंकि लंदन में रहने वाले पत्रकार संजय सूरी ने भी मामले में गवाही देने की इच्छा जताई है.
सूरी ने 15 सितंबर को एसआइटी को पत्र भेजकर पेश होने के लिए उपयुक्त समय और तारीख तय करने को कहा हैसूरी का पत्र शिअद नेता मनिंदर सिरसा ने ट्विटर पर साझा किया है

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in