श्रीनगर शिक्षिका की हत्या पर जम्मू कश्मीर के LG मनोज सिन्हा ने कहा- हत्या में शामिल आतंकियों को कभी न भूलने वाला सबक सिखाएंगे

शिक्षिका की हत्या पर जम्मू कश्मीर के LG मनोज सिन्हा ने कहा- हत्या में शामिल आतंकियों को कभी न भूलने वाला सबक सिखाएंगे

शिक्षिका की हत्या पर जम्मू कश्मीर के LG मनोज सिन्हा ने कहा- हत्या में शामिल आतंकियों को कभी न भूलने वाला सबक सिखाएंगे

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कुलगाम में एक सरकारी स्कूल में घुसकर हिंदू शिक्षिका की आतंकवादियों द्वारा हत्या करने की मंगलवार को निंदा करते हुए कहा कि हमलावरों को ऐसा सबक सिखाया जाएगा जो वे कभी नहीं भूल पाएंगे.

रजनी बाला (36) सांबा जिले से ताल्लुक रखती थीं और कुलगाम के गोपालपोरा में तैनात थी. आतंकवादियों ने उनकी गोली मारकर हत्या कर दी. मई के महीने में दूसरी बार गैर मुस्लिम सरकारी कर्मचारी का कत्ल किया गया है जबकि इस महीने कश्मीर में यह सातवीं लक्षित हत्या है. सिन्हा ने ट्विटर पर कहा, “स्कूल शिक्षिका रजनी बाला पर आतंकी हमला सबसे निंदनीय कृत्य है. शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदना है.”

एक हफ्ते में कश्मीर में दो महिलाओं, अमरीन भट और रजनी बाला की लक्षित हत्या की:

उन्होंने कहा कि इस हमले के लिए आतंकवादियों और उनके मददगारों को ऐसा सबक सिखाया जाएगा जो वे कभी नहीं भूल पाएंगे. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने भी हमले की निंदा की. आज़ाद ने ट्वीट किया कि एक हफ्ते में कश्मीर में दो महिलाओं, अमरीन भट और रजनी बाला की लक्षित हत्या की दिल दहला देने वाली घटनाओं के बारे में जानकर मुझे दुख हुआ है. मैं रजनी बाल की हत्या की कड़ी निंदा करता हूं.

ऐसा लगता है कि खूनखराबे का कोई अंत नहीं है: 

उन्होंने कहा कि मैं प्रशासन से बेगुनाह नागरिकों की जिदंगी की हिफाज़त के लिए कड़े कदम उठाने की गुजारिश करता हूं. मैं शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं.

माकपा नेता एम वाई तारिगामी ने शिक्षिका की हत्या को "दुखद" और "दुर्भाग्यपूर्ण" करार दिया. उन्होंने कहा कि आम नागरिकों की हत्याओं की लंबी सूची में एक और मामला जुड़ गया है. ऐसा लगता है कि खूनखराबे का कोई अंत नहीं है. प्रशासन को इन कर्मचारियों को सुरक्षित स्थानों पर तैनात करना चाहिए और उन्हें सुरक्षित आवास मुहैया कराने चाहिए. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें