जयपुर नेशनल हेराल्ड केस पर आया मुख्यमंत्री गहलोत का बयान, कहा-AICC और 10 जनपथ को छावनी में तब्दील करना एक अघोषित आपातकाल 

नेशनल हेराल्ड केस पर आया मुख्यमंत्री गहलोत का बयान, कहा-AICC और 10 जनपथ को छावनी में तब्दील करना एक अघोषित आपातकाल 

जयपुर: नेशनल हेराल्ड केस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बयान देते हुए कहा कि AICC और 10 जनपथ को छावनी में तब्दील करना एक अघोषित आपातकाल हैं.
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आज की कार्रवाई अघोषित आपातकाल है. नेशनल हेराल्ड (यंग इंडिया) के दफ्तर को जबरन सील कर दिया. NDA की इस तानाशाही सरकार के खिलाफ यदि कांग्रेसजनों के साथ आम जनता खड़ी नहीं हुई तो इसका खामियाजा पूरे देश को भुगतना पड़ेगा. 

{embed}

इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)ने बुधवार को दिल्ली में कांग्रेस के स्वामित्व वाले नेशनल हेराल्ड कार्यालय में मौजूद यंग इंडियन के कार्यालय को अस्थायी रूप से सील कर दिया. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि यह कार्रवाई ईडी द्वारा धनशोधन मामले की जांच के सिलसिले में की गई है. उन्होंने बताया कि कि सबूतों को सुरक्षित रखने के लिए अस्थायी तौर पर कार्यालय को सील किया गया है, जिन्हें मंगलवार की छापेमारी के दौरान अधिकृत प्रतिनिधियों के अनुपस्थित होने की वजह से एकत्र नहीं किया जा सका था.

सूत्रों ने बताया कि नेशनल हेराल्ड का बाकी कार्यालय इस्तेमाल के लिए खुला है. उन्होंने बताया कि ईडी ने यंग इंडियन के कार्यालय के बाहर एक नोटिस चस्पा किया है जिस पर जांच अधिकारी के हस्ताक्षर हैं. नोटिस में लिखा गया है कि इस कार्यालय को एजेंसी की अनुमति के बिना खोला नहीं जा सकता. अधिकारियों ने बताया कि ईडी की टीम ने छापेमारी के वास्ते परिसर खोलने के लिए कार्यालय के प्रधान अधिकारी/प्रभारी को ई-मेल भेजा था, लेकिन जवाब का अब भी इंतजार है.

ईडी ने नेशनल हेराल्ड- एजेएल-यंग इंडियन करार से जुड़े कथित धन शोधन के मामले की जांच के तहत मंगलवार को दिल्ली के आईटीओ के नजदीक बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित हेराल्ड हाउस में नेशनल हेराल्ड के कार्यालय सहित कई ठिकानों पर छापा मारा था. नेशनल हेराल्ड अखबार का प्रकाशन एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड (एजेएल) करती है और इस कंपनी की हिस्सेदारी यंग इंडियन के पास है. नेशनल हेराल्ड एजेएल के नाम से पंजीकृत है.

और पढ़ें