Live News »

पाक प्रधानमंत्री इमरान खान का इस्लामिक कार्ड फेल, पाकिस्तान के लिए करारा झटका, सऊदी का कश्मीर पर भारत को समर्थन

पाक प्रधानमंत्री इमरान खान का इस्लामिक कार्ड फेल, पाकिस्तान के लिए करारा झटका, सऊदी का कश्मीर पर भारत को समर्थन

नई दिल्ली:जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को मोदी सरकार ने खत्म कर दिया है. जिसके बाद देश-विदेश में भी इस फैसले का समर्थन किया जा रहा है. जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने और राज्य के पुनर्गठन को लेकर सऊदी अरब ने भारत का समर्थन किया है. कश्मीर को लेकर बौखलाहट में इस्लामिक कार्ड खेलने वाले पाकिस्तान के लिए यह करारा झटका है. 

दुनिया भर में प्रमुख इस्लामिक ताकत माने जाने वाले सऊदी अरब का समर्थन हासिल करना भारत के लिए बड़ी कूटनीतिक जीत है.सूत्रों के मुताबिक बुधवार को भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के बीच रियाद में हुई दो घंटे की मीटिंग में सऊदी अरब ने अपनी यह राय दी इस मीटिंग के दौरान दोनों देशों के बीच कई अहम द्विपक्षीय मसलों पर बातचीत हुई.उन्होंने कहा, 'इस बातचीत में जम्मू-कश्मीर का मसला भी उठा.

इस मसले पर सऊदी क्राउन प्रिंस ने कहा कि हम जम्मू-कश्मीर में भारत की ओर से उठाए गए कदमों को समझते हैं.बता दें कि भारत ने बीते 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का फैसला लिया था और सूबे को दो अलग हिस्सों में बांटने का प्रस्ताव भी पारित हुआ.पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने हाल ही में सऊदी अरब का दौरा किया था.

पाकिस्तान के दौरे के बावजूद भी सऊदी अरब की ओर से भारत का समर्थन किया जाना, उसके लिए बड़ा झटका है  बीते 5 वर्षों में पीएम नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने सऊदी अरब से संबंधों को सुधारने के लिए भरसक प्रयास किए हैं. इसके चलते सऊदी अरब सुरक्षा और इंटेलिजेंस जैसे मामलों में भी भारत के साझीदार के तौर पर सामने आया है

और पढ़ें

Most Related Stories

भारत और रूस के बीच बड़ा रक्षा सौदा, भारत को मिलेंगे 12 सुखोई और 21 मिग-29 विमान 

भारत और रूस के बीच बड़ा रक्षा सौदा, भारत को मिलेंगे 12 सुखोई और 21 मिग-29 विमान 

नई दिल्ली: सुरक्षा मामलों को देखते हुए भारत सरकार का बहुत बड़ा फैसला सामने आया है.लद्दाख में चीन के साथ बढ़ते तनाव के बीच भारत सरकार ने वायुसेना की शक्ति बढ़ाने का फैसला किया है. रक्षा मंत्रालाय ने गुरुवार को रूस से 33 नए लड़ाकू विमान प्राप्त करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है, जिसमें 12 नए सुखोई और 21 नए मिग-29 विमान शामिल हैं. यह सौदा करीब 40 हजार करोड़ का बताया जा रहा है. 

पीएम मोदी ने की पुतिन से फोन पर बात:
लद्दाख में चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत और रूस के बीच रक्षा सहयोग पर बातचीत आगे बढ़ी है. इस पर कोई ब्योरा फिलहाल न देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर बात की और उन्हें द्वितीय विश्व युद्ध में जीत की 75वीं वर्षगांठ के समारोह की सफलता और रूस में संवैधानिक संशोधनों के लिए किए गए सफल वोटों के समापन पर बधाई दी. 

म्यांमार में भारी बारिश की वजह से खदान धंसी, 100 से ज्यादा लोगों की मौत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया:
इस दौरान पीएम मोदी और पुतिन द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत हुए, जिससे इस वर्ष के अंत में भारत में होने वाले वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा सके. पीएम मोदी ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत में राष्ट्रपति पुतिन का स्वागत करने के लिए अपनी उत्सुकता व्यक्त की. वहीं रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भी फोन कॉल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया और सभी क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक साझेदारी को और मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया. 

ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने वालों के लिए अच्छी खबर, स्थायी लाइसेंस की ट्रायल के लिए मिल रहा तय समय

म्यांमार में भारी बारिश की वजह से खदान धंसी, 100 से ज्यादा लोगों की मौत

म्यांमार में भारी बारिश की वजह से खदान धंसी, 100 से ज्यादा लोगों की मौत

नई दिल्ली: म्यांमार में खदान धंसने से एक दर्दनाक हादसा हो गया. इस हादसे में कई लोगों की मौत की खबर सामने आई है. खबरों की माने तो म्यांमार में जेड माइन में  भूस्खलन की वजह से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. उत्तरी म्यांमार में भूस्खलन के बाद कम से कम 100 जेड खनिकों के शवों को गुरुवार को भूस्खलन के बाद बाहर निकाला गया. 

लद्दाख में महसूस किए गए भूकंप के झटके, 4.5 आंकी गई भूकंप की तीव्रता

बचाव कार्य में बारिश बनी बाधा:
जानकारी के मुताबिक अभी और शव कीचड़ में फंसे हुए हैं. मृतकों की संख्या बढ़ सकती है. इस इलाके में गत एक हफ्ते से तेज बारिश हो रही है जिससे बचाव कार्य में भी परेशानी आ रही है. आपको बता दें कि जेड की इन खदानों में पहले भी भूस्खलन से कई लोगों की मौत हो चुकी है. हादसे के प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उन्होंने लोगों को मलबे के एक ढेर पर देखा जो ढहने के कगार पर था. 

पहाड़ी से मलबा गिरने पर हुआ हादसा:
कुछ ही देर बाद पहाड़ी से पूरा मलबा नीचे गिर गया. जिसकी चपेट में आने से 100 से अधिक लोग मारे गए. गौरतलब है कि म्यांमार में एक वर्ष पहले भी ऐसा हादसा हो चुका है. जिसमें 59 लोगों की मौत हो गई थी. जबकि मलबे की चपेट में आने से सैकड़ों की संख्या में लोग घायल हुए थे.

केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का बयान, कहा-भारत ने चीन पर की डिजिटल स्ट्राइक 

रूस के राष्ट्रपति पुतिन से पीएम मोदी ने की बात, द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत

रूस के राष्ट्रपति पुतिन से पीएम मोदी ने की बात, द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत

नई दिल्ली: लद्दाख में चीन के साथ सीमा विवाद के बीच भारत और रूस के बीच रक्षा सहयोग पर बातचीत आगे बढ़ी है. इस पर कोई ब्योरा फिलहाल न देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर बात की और उन्हें द्वितीय विश्व युद्ध में जीत की 75वीं वर्षगांठ के समारोह की सफलता और रूस में संवैधानिक संशोधनों के लिए किए गए सफल वोटों के समापन पर बधाई दी. 

मध्य प्रदेश में हुआ शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार, सिंधिया समर्थकों को मिला मौका 

द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत हुए:
इस दौरान पीएम मोदी और पुतिन द्विपक्षीय संपर्क और परामर्श की गति बनाए रखने के लिए सहमत हुए, जिससे इस वर्ष के अंत में भारत में होने वाले वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा सके. पीएम मोदी ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के लिए भारत में राष्ट्रपति पुतिन का स्वागत करने के लिए अपनी उत्सुकता व्यक्त की. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया:
वहीं रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भी फोन कॉल के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया और सभी क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक साझेदारी को और मजबूत करने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराया. 

Coronavirus Updates: पिछले 24 घंटे में 19148 मामले आए सामने, देश में कुल मरीजों का आंकड़ा 6 लाख के पार 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह चार दिवसीय दौरे पर गए थे रूस:
बता दें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 75वीं विक्ट्री डे परेड की बरसी पर 21 जून को रूस के चार दिवसीय दौरे पर गए थे. इस दौरे में राजनाथ सिंह की रूस के उप प्रधानमंत्री युर्य बोरिसव से बात हुई थी. दोनों देशों के बीच रक्षा सौदे में AK-203 असॉल्ट राइफल और का-226टी लाइट यूटिलिटी हेलिकॉप्टर को लेकर भी बात हुई. रिपोर्ट के अनुसार, भारत ने रूस से कहा है कि उसे रक्षा सौदों में अब देरी नहीं करनी है. इस पर रूस ने भारत को आश्वस्त किया है कि वो अगले कुछ महीनों में इसे अंजाम तक पहुंचा देगा.
 

Boycott China: चीन को एक और झटका, देश के हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियां होंगी बैन

Boycott China: चीन को एक और झटका, देश के हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियां होंगी बैन

नई दिल्ली: भारत-चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के चलते भारत लगातार आर्थिक मोर्चे पर चीन को झटके दे रहा है. चीन की 59 एप्स पर प्रतिबंध लगाने के बाद आज केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी बड़ी जानकारी देते हुए बताया कि भारत सभी हाइवे प्रोजेक्ट्स में चीनी कंपनियों को बैन करने की तैयारी कर रहा है. चीनी कंपनियों को संयुक्त उद्यम पार्टनर (JV) के रूप में भी काम नहीं करने दिया जाएगा.

ऋण पर्यवेक्षक के 300 रिक्त पदों पर शीघ्र होंगी भर्ती- सहकारिता मंत्री 

जॉइंट वेंचर के रास्ते भी रोक दिया जाएगा: 
गडकरी ने कहा कि इतना ही नहीं अगर कोई चाइनीज कंपनी जॉइंट वेंचर के रास्ते भी राजमार्ग परियोजनाओं में एंट्री की कोशिश करेगी तो उसे भी रोक दिया जाएगा. इसके अलावा उन्होंने कहा कि सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) के विभिन्न क्षेत्रों में चीनी निवेशकों से कोई रिश्ता न रखा जाए.

नियमों में ढील देने की नीति बनाई जाएगी:
उन्होंने कहा कि जल्द ही चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने और भारतीय कंपनियों को राजमार्ग परियोजनाओं में भागीदारी के लिए उनकी पात्रता मानदंड का विस्तार करने के लिए नियमों में ढील देने की नीति बनाई जाएगी. गडकरी ने कहा कि वर्तमान में कुछ परियोजनाएँ जो बहुत पहले शुरू की गई थीं उनमें कुछ चीनी साझेदार शामिल थे उन पर यह लागू नहीं होगा, नया निर्णय वर्तमान और भविष्य की निविदाओं में लागू किया जाएगा. 

अनोखी शादी में वर-वधु ने सात फेरे लेने के बाद लिया आठवां फेरा, पर्यावरण संरक्षण का दिया संदेश 

चीन से हिंसक झड़प में देश के 20 वीर जवान शहीद हो गए थे:
गौरतलब है कि भारत-चीन नियंत्रण रेखा पर हुई हिंसक झड़प में हमारे देश के 20 वीर जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद से ही देश में चीन विरोधी माहौल चरम पर है. चीनी कंपनियों और चीनी माल के बहिष्कार तक की बात होने लगी है.


 

बैन के बाद टिकटॉक ने दी सफाई- नहीं शेयर की जानकारी, चीन को भी नहीं दिया डेटा

बैन के बाद टिकटॉक ने दी सफाई- नहीं शेयर की जानकारी, चीन को भी नहीं दिया डेटा

नई दिल्ली: भारत और चीन विवाद के चलते सोमवार को मोदी सरकार ने देश में टिकटॉक समेत 59 ऐप्स पर पाबंदी लगा दी है. इस बैन के बाद वीडियो मेकिंग ऐप टिक टॉक इंडिया ने एक बयान जारी करते हुए सफाई दी है. कहा है कि किसी भी यूजर की जानकारी दूसरे देश, यहां तक कि चीन को भी नहीं दी गई है.

TikTok, UC Browser सहित 59 चीनी ऐप्स बैन, यहां देखें पूरी लिस्ट  

किसी भी भारतीय यूजर की जानकारी साझा नहीं की:  
टिकटॉक के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई ने लिखा है कि सरकार के आदेश का पालन किया जा रहा है, लेकिन उनकी तरफ से किसी भी भारतीय यूजर की जानकारी किसी भी दूसरे देश साझा नहीं की गई है, यहां तक की चीन के साथ भी नहीं. वहीं ट्विटर पर एक पोस्ट के जरिए टिक टॉक इंडिया के हैड निखिल गांधी ने कहा है कि हम भारत सरकार के आदेश को मान रहे हैं. इसके लिए हम सरकारी एजेंसियों से मुलाकात भी करेंगे और अपनी सफाई पेश करेंगे. 

टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है:
उन्होंने आगे कहा कि टिक टॉक भारत के कानून का सम्मान करता है. टिक टॉक ने भारत के लोगों का डाटा चीनी सरकार सहित किसी भी विदेशी सरकार को नहीं भेजा है. अगर हमे ऐसा करने के लिए कहा भी जाता तो भी हम ऐसा नहीं करते. इससे पहले कल ही मोदी सरकार ने टिकटॉक समेत 59 ऐप पर पाबंदी लगाई है. सरकार के इस फैसले को लद्दाख में तनाव के बीच चीन के लिए कड़े संदेश के तौर पर देखा जा रहा है.

Coronavirus Updates: देश में 24 घंटे में कोरोना के 18522 मामले आए सामने, अब तक 16,893 लोगों की मौत  

14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध टिक टॉक पर लाखों-करोड़ों यूजर्स:
वहीं टिक टॉक ने यह भी दावा किया है कि 14 भारतीय भाषाओं में उपलब्ध टिक टॉक पर लाखों-करोड़ों यूजर्स हैं, जिनमें आर्टिस्ट, स्टोरी टेलर, टीचर हैं जो अपनी रोजमर्रा की रोजी रोटी के लिए इस पर निर्भर हैं. इसके साथ ही यह भी कहा कि इनमें से बहुत सारे लोग तो ऐसे भी हैं जो पहली बार इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहे हैं. सरकार के बैन के बाद गूगल ने टिक टॉक समेत सभी बैन किए गए ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा दिया है. 


 

ईरान ने जारी किया अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की गिरफ्तारी का वारंट, इंटरपोल से मांगी मदद

ईरान ने जारी किया अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की गिरफ्तारी का वारंट, इंटरपोल से मांगी मदद

तेहरान: ईरान ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है. इसके साथ ही ट्रंप और दर्जनों लोगों को हिरासत में लेने के लिए इंटरपोल से मदद मांगी है. तेहरान के प्रोसेक्यूटर अली अलकासीमहर ने कहा कि ट्रंप अन्य 30 से अधिक लोगों के साथ 3 जनवरी के हमले में शामिल थे. हमले में ईरान के जनरल कासिम सोलेमानी की मौत हुई थी. 

महाराष्ट्र में 31 जुलाई तक बढ़ा लॉकडाउन, 'मिशन बिगेन अगेन' का दिया नाम  

ईरान राष्ट्रपति पद समाप्त होने के बाद भी अपने चार्जेस को जारी रखेगा:
वहीं ईराने के इंटरपोल से मदद मांगने पर फ्रांस के ल्योन स्थित इंटरपोल ने इस पर तुरंत कोई जवाब नहीं दिया है. अलकासीमर के मुताबिक ईरान ने इंटरपोल से ट्रंप और बाकी लोगों के लिए ‘रेड नोटिस’ का अनुरोध किया था, जोकि इंटरपोल की तरफ से जारी उच्चतम स्तर का नोटिस है. उन्होंने कहा कि ट्रंप के अलावा किसी और की पहचान नहीं की लेकिन इस बात पर जोर दिया कि ईरान, उनका राष्ट्रपति पद समाप्त होने के बाद भी अपने चार्जेस को जारी रखेगा.

अमेरिका ने सैन्य कार्रवाई को अंजाम दिया था:
बता दें कि अमेरिका और ईरान के बीच तनाव के दौरान अमेरिका ने सैन्य कार्रवाई को अंजाम दिया था. इसमें अमेरिकी स्ट्राइक में ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड (IRGC) के वरिष्ठ जनरल और क़ुद्स फोर्स कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत हो गई थी. इसके साथ ही इराक में ईरान समर्थित पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स के कमांडर अबू मेहंदी अल मुहंदीस भी मारा गया था.

राहुल गांधी ने बोला मोदी सरकार पर बड़ा हमला, कहा- मुनाफ़ाख़ोरी बंद करे, एक्साइज़ दर तुरंत घटाए 

यह होता है रेड कॉर्नर का अर्थ: 
वांछित अपराधियों की गिरफ्तारी या उनके प्रत्यर्पण को हासिल करने के लिए यह नोटिस जारी किया जाता है. इस नोटिस की मदद से गिरफ्तार किए गए अपराधी को उस देश भेज दिया जाता है जहां उसने अपराध किया था. वहीं फिर उस पर उस देश के कानून के मुताबिक ही मुकदमा चलता है और सजा दिलाई जाती है. जिस व्यक्ति के खिलाफ “इंटरपोल” ने रेड कार्नर नोटिस जारी किया है; इंटरपोल उस वांछित व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए किसी सदस्य देश को मजबूर नहीं कर सकता है.

पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज पर आतंकी हमला, चार आतंकी ढेर, पांच लोगों की भी मौत

पाकिस्तान स्टॉक एक्सचेंज पर आतंकी हमला, चार आतंकी ढेर, पांच लोगों की भी मौत

कराची: पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची में बड़ा आतंकी हमला हुआ है. आज सुबह कराची में स्टॉक एक्सेचेंज की बिल्डिंग में यह ग्रेनेड हमला किया गया है. जानकारी के मुताबिक, चारों आतंकियों को मार गिराया गया है. आतंकियों की फायरिंग में पांच लोगों के मारे जाने की खबर है. 

Coronavirus Updates: देश में लगातार दूसरे दिन 20 हजार के करीब नए मरीज, अबतक 16475 लोगों की मौत

सभी आतंकियों को मार गिराया गया: 
पाकिस्तान मीडिया के मुताबिक, चारों आतंकी मार गिराए गए हैं.  हालात नियंत्रण में है और सभी आतंकियों को मार गिराया गया है. रेंजर्स और पुलिस के जवान इमारत के अंदर घुस गए हैं और सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है.  जानकारी के अनुसार हमलावरों ने कथित तौर पर पुलिस अधिकारियों द्वारा पहने हुए कपड़े पहने हुए थे, जो वो ऑफ ड्यूटी पर पहनते हैं. आतंकवादियों ने अत्याधुनिक हथियारों के साथ हमला किया और एक बैग ले जा रहे थे, जिसमें संभवत: विस्फोटक हो सकता है.

जनरल वीके सिंह ने किया गलवान घाटी में झड़प पर बड़ा खुलासा, चीनी सेना के तंबू में आग लगने से भड़की थी हिंसा 

आस-पास के इलाके को खाली करा लिया गया: 
आतंकियों ने स्टॉक एक्सचेंज की इमारत के मेन गेट पर ग्रेनेड से हमला किया और अंधाधुंध फायरिंग करते हुए इमारत में घुस गए. आस-पास के इलाके को खाली करा लिया गया है. घायलों को नजदीकी अस्पताल में इलाज के भर्ती कराया गया है. इसके साथ ही स्टॉक एक्सचेंज में फंसे कर्मचारियों को पीछे के दरवाजे से निकाल लिया गया है.

जनरल वीके सिंह ने किया गलवान घाटी में झड़प पर बड़ा खुलासा, चीनी सेना के तंबू में आग लगने से भड़की थी हिंसा

जनरल वीके सिंह ने किया गलवान घाटी में झड़प पर बड़ा खुलासा, चीनी सेना के तंबू में आग लगने से भड़की थी हिंसा

नई दिल्ली: 15 जून की रात गलवान घाटी में भारत-तीन सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर मोदी सरकार में मंत्री और पूर्व सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने बड़ा खुलासा किया है. उन्होंने बताया कि गलवान घाटी में भारत-चीन सैनिकों के बीच एक रहस्यमय आग की वजह से हिंसक झड़प हुई. ये आग चीनी सैनिकों के टेंटों में लग गई थी. वीके सिंह ने कहा कि हमारे जवान चीनी सेना के पोजिशन देखने गए थे.

1 दिन की शांति के बाद फिर बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमत, जानिए क्या हो गए हैं भाव  

सैनिक तंबू हटा रहे थे, तभी अचानक आग लग गई: 
पूर्व सेनाध्यक्ष और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि 15 जून की शाम कमांडिंग ऑफिसर बॉर्डर पर चेक करने गए तो देखा कि चीन के सभी लोग वापस नहीं गए थे. वहां चीनी सैनिकों का तंबू मौजूद था. कमांडिंग ऑफिसर ने तंबू हटाने के लिए कहा. इस बीच जब चीनी सैनिक तंबू हटा रहे थे, तभी अचानक आग लग गई. आग लगने के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच झड़प हो गई. दोनों देशों ने अपने और लोग बुलाए. हिंसक झड़प के दौरान चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए. ये बात सही है.

जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुई मुठभेड़ में तीन आतंकी ढेर, इस महीने 36 का हुआ सफाया

हमारे लोग चीनी सेना के उपर हावी हो गए:
केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने बताया कि झड़प के दौरान हमारे लोग चीनी सेना के उपर हावी हो गए. चीन ने अपने और लोग बुलाए और हमारे लोगों ने भी अपने और लोग बुलाए. चीन के लोग जल्दी आ गए, फिर हमारे लोग आए. अंधेरे में 500 से 600 लोगों के बीच झड़प हुई. पहले हमारे तीन लोग हताहत हुए थे. फिर हमारे और चीनी सैनिक नदी में गिर गए थे. चोट और नदी में गिर जाने के कारण हमारे और 17 जवान शहीद हो गए. 70 के करीब घायल हो गए थे.
 

Open Covid-19