VIDEO: राजस्थान में बेखौफ बिजली चोर ! जानिए कहां-कहां हुई कितनी चोरी

VIDEO: राजस्थान में बेखौफ बिजली चोर ! जानिए कहां-कहां हुई कितनी चोरी

जयपुर: प्रदेश में कोरोना लॉकडाउन और राजनीतिक सरगर्मियों के बीच बिजली चोर बेखौफ हो गए है. जी हां, ये कोई हमारा आरोप नहीं, बल्कि जयपुर डिस्कॉम प्रशासन के जून माह में चलाए गए विशेष जांच अभियान की बानगी है. इस दौरान डिस्कॉम की टीमों ने जहां भी जांच की, उनमें से 95 फीसदी से अधिक जगहों पर बिजली चोरी होती मिली. अब इस आंकड़े ने डिस्कॉम प्रशासन के फ्यूज उड़ा दिए है. अब आनन-फानन में विजिलेंस के बेडे को मजबूत करने की दिशा में काम शुरू कर दिया गया है. 

हाउसिंग बोर्ड से लंबे समय के बाद अधिकारियों और कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, मिली पदोन्नतियों की सौगात

तीनों ही डिस्कॉम में जून माह में विशेष कैम्पेन चलाया जा रहा:
बिजली कम्पनियों की बढ़ती छीजत को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत काफी गंभीर है. गहलोत ने पिछले दिनों बिजली कम्पनियों के कामकाज की समीक्षा की थी, साथ ही निर्देश दिए थे कि बिजली चोरी रोकने के लिए विजिलेंस चैंकिंग बढ़ाई जाए. इसके बाद तीनों ही डिस्कॉम में जून माह में विशेष कैम्पेन चलाया जा रहा है. जिसकी रिपोर्ट ने अधिकारियों को चिंता में डाल दिया है. अकेले जयपुर डिस्कॉम की बात की जाए तो 22 दिन में 13607 जगहों पर टीमों ने जांच की, जिनमें से 12869 जगहों पर बिजली चोरी होती मिली. यानी जांच के दायरे में आए उपभोक्ताओं में से करीब 95 बिजली चोरी करते मिले. इन उपभोक्ताओं पर 26 करोड़ रुपए की वसूली निकाली गई है. हालांकि, डिस्कॉम एमडी ए के गुप्ता ने खुद विजिलेंस की कमान संभाल रखी है. यहीं वजह है कि बिजली चोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू हो गई है. 

- ईमानदार उपभोक्ता दें बिल, बिजली चोरों की मौज
- प्रदेश में बेखौफ हो रही बिजली की चोरी
- जयपुर डिस्कॉम प्रशासन की टीमों ने शुरू की धरपकड़
- तो जांच के दायरे में आया हर उपभोक्ता करता मिला बिजली चोरी
- 22 दिन से जारी कैम्पेन में 26 करोड़ से अधिक की बिजली चोरी का खुलासा
- इसमें से 2.07 करोड़ रुपए मौके पर ही उपभोक्ताओं ने कराए जमा
- 1227 केस बनाए गए कम्पाउडिंग के, जबकि 637 एफआईआर दर्ज

सर्किलवार डिस्कॉम का एक्शन:
- जयपुर सिटी सर्किल में 1389 जगहों पर जांच, 980 जगहों पर मिली 2.74 करोड़ की बिजली चोरी
- जयपुर ग्रामीण सर्किल में 2584 जगहों पर जांच, 2502 जगहों पर मिली 4.76 करोड़ की बिजली चोरी
- अलवर सर्किल में 1231 जगहों पर जांच, 1216 जगहों पर मिली 2.69 करोड़ की बिजली चोरी
- दौसा सर्किल में 1648 जगहों पर जांच, 1638 जगहों पर मिली 2.17 करोड़ की बिजली चोरी
- टोंक सर्किल में 701 जगहों पर जांच, 646 जगहों पर मिली 1.28 करोड़ की बिजली चोरी
- भरतपुर सर्किल में 1414 जगहों पर जांच, 1349 जगहों पर मिली 3.60 करोड़ की बिजली चोरी
- धौलपुर सर्किल में 607 जगहों पर जांच, 584 जगहों पर मिली 1.39 करोड़ की बिजली चोरी
- सवाई माधोपुर सर्किल में 622 जगहों पर जांच, 608 जगहों पर मिली 1.09 करोड़ की बिजली चोरी
- करौली सर्किल में 476 जगहों पर जांच, 470 जगहों पर मिली 1.22 करोड़ की बिजली चोरी
- कोटा सर्किल में 949 जगहों पर जांच, 945 जगहों पर मिली 1.65 करोड़ की बिजली चोरी
- बूंदी सर्किल में 600 जगहों पर जांच, 571 जगहों पर मिली 86 लाख की बिजली चोरी
- बारां सर्किल में 795 जगहों पर जांच, 794 जगहों पर मिली 1.66 करोड की बिजली चोरी
- झालावाड़ सर्किल में 591 जगहों पर जांच, 566 जगहों पर मिली 97 लाख की बिजली चोरी

बिजली चोरों पर लगाम कसने के लिए जयपुर डिस्कॉम प्रशासन अब अपने विजिलेंस के बेडे को मजबूत करने पर फोकस कर रहा है. डिस्कॉम ने हाल ही में एचटीएम में लगे अभियंताओं को विजिलेंस का जिम्मा सौंपा है. इसके साथ ही जयपुर डिस्कॉम में 20, अजमेर डिस्कॉम में 12 और जोधपुर डिस्कॉम में 31 विजिलेंस एईएन के पद स्वीकृत करने का प्रस्ताव कॉर्डिनेशन कमेटी में फाइनल किया है. अब ये प्रस्ताव फाइनेंस डिपार्टमेंट में भेजे जाएंगे, ताकि हर डिवीजन मुख्यालय पर विजिलेंस की पूरी टीम काम कर सके. 

जयपुर पुलिस की बड़ी कामयाबी, गुमशुदा हुए 1430 मोबाइल किए बरामद

राजनीतिक दबाव से बिजली चोरों के हौसले बुलन्द:
डिस्कॉम प्रशासन भले ही बिजली चोरों के खिलाफ युद्वस्तर पर कार्रवाई में जुटा है, लेकिन अन्दरखाने सच्चाई ये है कि राजनीतिक दबाव और फील्ड अभियंताओं की मिलीभगत से ही बिजली चोरों के हौसले बुलन्द है. ऐसे में जिम्मेदारी ईमानदार उपभोक्ताओं की बढ़ जाती है. यदि लोग जागरूक होकर बिजली चोरी की सूचना देंगे,  तो काफी हद तक इस पर अंकुश लगाया जा सकता है. ऐसे में उम्मीद है कि लोग जारूकत होंगे, बिजली चोरी रोकने में डिस्कॉम की मदद करेंगे. यदि ऐसा हुआ तो बिजली के दाम बढ़ाने की नौबत नहीं आएगी. 

और पढ़ें