राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने बढ़ाया बाल मेले की परिकल्पना करने वाली जाहनवी शर्मा का उत्साह, बोले बच्चों की राजनीतिक सहभागिता है जरूरी

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने बढ़ाया बाल मेले की परिकल्पना करने वाली जाहनवी शर्मा का उत्साह, बोले बच्चों की राजनीतिक सहभागिता है जरूरी

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने बढ़ाया बाल मेले की परिकल्पना करने वाली जाहनवी शर्मा का उत्साह, बोले बच्चों की राजनीतिक सहभागिता है जरूरी

जयपुर: कोरोना महामारी के दौर में बच्चों की नायाब प्रतिभा को मंच देने के लिए फ्यूचर सोसायटी और एलआईसी की ओर से प्रायोजित डिजिटल बाल मेला के सीजन- 2 का आगाज आज हो चुका है. राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने देश के इस पहले बाल मंच का उद्घाटन किया और डिजिटल बाल मेला सीजन 2 का पोस्टर भी लॉन्च किया. बच्चों को ज्यादा से ज्यादा संख्या में इस अनूठे प्लेटफॉर्म से जुड़ने की अपील करते हुए सीपी जोशी ने इस मंच के जरिए बच्चों को संसदीय लोकतंत्र में प्रवेश के लिए शुभकामनाएं दी. 

इस दौरान 'डिजिटल बाल मेला 2021' की परिकल्पना करने वाली जाहनवी शर्मा ने बच्चों द्वारा बनाया गया वीडियो डॉ सीपी जोशी को दिखाया. जिसे जारी करते हुए विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी ने कहा कि ये बच्चों की रचनात्मकता को बढ़ाने वाला अनुठा प्रयास है. उन्होंने जाहनवी के आत्मविश्वास की भी तारीफें की. बता दें कि बाल मेला में जाहनवी का काफी योगदान रहा है शुरूआत से ही वो आगे से आगे बढ़कर बच्चों को इस मंच के प्रति जागरूक करती रही है. जाहनवी का उत्साह तारीफें लायक है जो और देश के अन्य बच्चों को अपनी सरकार बनाने के लिए प्रेरित करता है.

गौरतलब है डिजिटल बाल मेला सीजन—1 के समापन पर विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने लिटिल कोरोना वॉरियर्स को टास्क देते हुए कहा था कि अगले बाल मेले में बच्चे उन्हें बताएं कि बच्चों की सरकार कैसी होनी चाहिए. अब बच्चे उनके इसी टास्क को पूरा करने जा रहे हैं.

'बच्चों की सरकार कैसी हो'टास्क से जुड़ा है सीपी जोशी के नार्वो का ये किस्सा:
देशभर के बच्चों का सरकार के प्रति रूझान बढ़ाने वाले डॉ सीपी जोशी ने इस दौरान अपने नार्वो का किस्सा शेयर किया. उन्होंने बताया कि जब वे नार्वो गए थे उन्होंने देखा था कि वहां बच्चों को भी राजनीति में प्रतिनिधित्व मिलता है. दुनिया के कई और देश है जो बच्चों की राजनीति सक्रियता को जरूरी समझते है. इसलिए अगर हिंदूस्तान में भी बच्चों का राजनीतिक रूख बढ़ता है तो ये भारत के भविष्य के लिए काफी अच्छा प्रयास है.

बच्चों को राजनीति के में समझ होनी बहुत जरूरी: 
भारत देश में बच्चों को राजनीति में प्रवेश करने की ओर जागरूक कर रहे डॉ सीपी जोशी ने डिजिटल बाल मेला की संयोजक जाहनवी शर्मा सहित देश के सभी बच्चों से इस अभियान को सफल बनाने के लिए और बड़ी संख्या में बच्चों के शामिल होने की उम्मीद जताई. उनका मानना है कि बच्चों को इस बारें में समझ होनी बहुत जरूरी है उनका नेता कैसा हो और वही देश के प्रति उनकी क्या जिम्मे​दारियां होती है. ऐसे में अगर भविष्य में कोई बच्चा राजनीति में अपना करियर बनाना चाहे तो देश के विकास में वो अपना योगदान भलीभांति समझ पाए.

राजनीतिक जिंदगी के बारे में करीब से जानने का मौका मिलेगा:
बता दें बाल मेले का मकसद बच्चों के मस्तिष्क में चल रहे सभी तरह के विचारों को सरकार के सामने लाना है. इस मेले के जरिए अब बच्चे अपनी राजनीतिक सोच को पूरे देश के सामने बता सकते है. इस दौरान बच्चों को राजनेताओं की निजी और उनकी राजनीतिक जिंदगी के बारे में करीब से जानने का मौका मिलेगा.

14 नवंबर को आयोजित होगा बच्चों का विधानसभा बाल सत्र:
डॉ सीपी जोशी ने डिजिटल बाल मेला 2021 को लॉन्च करते हुए नन्हें बच्चों से वादा किया कि बच्चों की सरकार का पहला अधिवेशन आगामी बाल दिवस यानी 14 नवंबर को जयपुर में आयोजित किया जाएगा.जी हां इस दौरान प्यारे बच्चे विधानसभा का दौरा करेंगे. ये वाकई में बच्चो के लिए सपने जैसा है जिसे आजतक वो सुनते आए है अब बच्चो को ना सिर्फ वहां जाने का मौका मिलेगा बल्कि उन्हें विधानसभा की कार्यशैली को करीब से जानने समझने का मौका मिलेगा.

14 नवंबर का दिन बच्चों के लिए हमेशा से ही खास रहा:
गौरतलब है 14 नवंबर का दिन बच्चों के लिए हमेशा से ही खास रहा है. बाल दिवस पर बच्चों के अधिकार, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है. ऐसे में 'बच्चों की सरकार कैसी हो' भी इसका एक भाग बनने जा रहा है. जहां बच्चे एक अलग स्तर पर अपनी सोच का विस्तार करेंगे और अपने भविष्य को एक नया मोड़ देंगे.

इस गू्गल लिंक के जरिए 'डिजिटल बाल मेला सीजन2' से जुड़े बच्चे:
देश के किसी भी हिस्से से बच्चे'डिजिटल बाल मेला सीजन2' से जुड़ सकते है. जिसके लिए बच्चें इस  https://meet.google.com/ysn-pfjh-shh  गूगल लिंक पर क्लिक करें. इस लिंक के जरिए बच्चे हर दिन होने वाले सेशन में शामिल हो सकते है और मंत्रियों से अपने मन की बात कर सकते है.

बच्चें ऐसे करें रजिस्ट्रेशन:—
डिजिटल बाल मेले की किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए ऑनलाइन प्रोसेस रखा गया है. इसके लिए डिजिटल बाल मेला वेबसाइट www.digitalbaalmela.com और सोशल मीडिया पेज पर प्रतियोगिता और ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन से जुड़ी सभी जानकारियां दी गईं हैं. बच्चे यहां से रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर अपना नाम,पता, माता—पिता का नाम, विद्यालय से जुड़ी सभी जानकारियां भर कर अपना रजिस्ट्रेशन सुनिश्चित कर सकते है.

 

और पढ़ें