सचिन तेंदुलकर को मिन्नतों के बाद मिला था ओपनिंग का मौका, 1994 में पारी की शुरुआत करने के लिए की थी विनती

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/09/26 01:01

मुंबई:सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड निचले क्रम के मुकाबले ओपनिंग में बेहद शानदार रहा और कई यादगार पारियां खेलकर टीम को जीत दिलाई .'क्रिकेट के भगवान' माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर को सर्वकालिक महान बल्‍लेबाजों में से एक माना जाता है मगर तेंदुलकर अगर भारतीय टीम प्रबंधन से 1994 में पारी की शुरुआत करने के लिए विनती और गुजारिश नहीं करते, तो उनका करियर अलग आकार ले सकता था

 महान बल्‍लेबाज की प्रतिभा पर कोई सवाल नहीं खड़ा कर सकता, लेकिन उन्‍हें इस तरह की शैली हासिल करने के लिए नेट्स पर घंटों अतिरिक्‍त प्रयास करना पड़ता था तेंदुलकर ने हाल ही में एक मजेदार खुलासा किया, जिसमें उन्‍होंने बताया कि उनके पास एक बेहद अलग आईडिया था जिससे भारतीय बल्‍लेबाज विरोधी गेंदबाजों पर हावी हो सकते थे.तेंदुलकर ने एक वीडियो शेयर करके बताया, '1994 में जब मैंने भारत के लिए ओपनिंग शुरू की, तब सभी टीमों की रणनीति विकेट सुरक्षित रखने की होती थी मैंने कुछ अलग सोचने का प्रयास किया मुझे लगा कि सामने आकर गेंदबाजों पर हावी हो जाऊं  मगर इसके लिए मुझे विनती और गिड़गिड़ाना पड़ा कि मुझे ओपनिंग का एक मौका दे दो. अगर मैं फेल हुआ तो आपके पास दोबारा नहीं आउंगा.सचिन अपने शब्‍दों पर खरे उतरे. उन्‍होंने न्‍यूजीलैंड के खिलाफ ऑकलैंड में पहली बार टीम इंडिया के लिए ओपनिंग की और 49 गेंदों में 82 रन की तूफानी पारी खेली. इसी के साथ तेंदुलकर ने बतौर ओपनर अपनी जगह पक्‍की कर ली

सचिन तेंदुलकर ने बतौर ओपनर अपनी पहली पांच पारियों में क्रमश: 82, 63, 40, 63 और 73 रन की पारियां खेली थी. उन्‍होंने जल्‍द ही अपना पहला शतक ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ कोलंबो में जमाया. इस मैच में तेंदुलकर ने 110 रन बनाए. इसके बाद का इतिहास सबके सामने है. तेंदुलकर ने वनडे क्रिकेट में 49 शतक जमाए और अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में शतकों का सैकड़ा पूरा किया. मास्‍टर ब्‍लास्‍टर ने वनडे में 18,426 रन बनाए, जो वनडे प्रारूप इतिहास में किसी भी बल्‍लेबाज द्वारा बनाए गए सबसे ज्‍यादा रन हैं.

.'भारत रत्‍न' तेंदुलकर ने कहा, 'न्‍यूजीलैंड के खिलाफ पहले मैच में मैंने 49 गेंदों में 82 रन बनाए. इसलिए मुझे दोबारा पूछना नहीं पड़ा कि ओपनिंग पर एक और मौका मिलेगा। वह मुझ से ही ओपनिंग कराना चाहते थे। मगर मैं यहां कहने की कोशिश कर रहा हूं कि कभी फेल होने से डरना नहीं चाहिए.महान बल्‍लेबाज ने दिसंबर 2012 में वनडे क्रिकेट को अलविदा कह दिया था. उन्‍होंने अपना आखिरी मैच पाकिस्‍तान के खिलाफ एशिया कप में खेला था, जहां उन्‍होंने भारतीय टीम की जीत में अर्धशतकीय पारी खेली थी.

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in