अहमदाबाद Rajasthan Royals की शानदार जीत के बाद कुमार संगकारा ने की संजू सैमसन की तारीफ, कहा-बतौर खिलाड़ी और कप्तान असाधारण रहा है संजू

Rajasthan Royals की शानदार जीत के बाद कुमार संगकारा ने की संजू सैमसन की तारीफ, कहा-बतौर खिलाड़ी और कप्तान असाधारण रहा है संजू

Rajasthan Royals की शानदार जीत के बाद कुमार संगकारा ने की संजू सैमसन की तारीफ, कहा-बतौर खिलाड़ी और कप्तान असाधारण रहा है संजू

अहमदाबाद: Rajasthan Royals के क्रिकेट निदेशक कुमार संगकारा का कहना है कि संजू सैमसन ने विकेटकीपर , कप्तान और बल्लेबाज की तिहरी भूमिका को IPLमें बखूबी अंजाम दिया है .


Rajasthan Royals ने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर को सात विकेट से हराकर 2008 के बाद पहली बार IPLफाइनल में जगह बनाई. संगकारा ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि संजू का प्रदर्शन बेहतरीन रहा है . पिछले सत्र में काफी कड़े इम्तिहान से उसने शुरूआत की जब युवा टीम , कोरोना संक्रमण के मामले और दो चरण में टूर्नामेंट हुआ लेकिन वह अपनी भूमिका में परिपक्व हुआ है.

कप्तानी की कठिन भूमिका में खरे उतरने के लिये काफी जुनून और जीत की भूख दिखाई:

उन्होंने कहा कि वह काफी मृदुभाषी और शर्मीला है लेकिन बल्ले से उसके हुनर का जवाब नहीं . उसने कप्तानी की कठिन भूमिका में खरे उतरने के लिये काफी जुनून और जीत की भूख दिखाई है. विकेटकीपिंग, कप्तानी और जोस बटलर के साथ टीम का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज होना आसान नहीं है लेकिन इस सत्र में उसने सब कुछ बखूबी किया. श्रीलंका के इस महान क्रिकेटर ने कहा कि उसे अपनी भूमिका का अहसास है . रणनीति को लेकर उसकी समझ बेहतर हुई है . उसे अपनी टीम पर भरोसा है और टीम उसे एक अगुआ के रूप में देखती है.

नौ खिलाड़ियों के कोर ग्रुप ने उनका काम आसान कर दिया: 

बटलर के प्रदर्शन के बारे में संगकारा ने कहा कि टी20 बल्लेबाजी में इस सत्र में उसने जो किया, उसका बखान करना मुश्किल है . उसने अच्छी शुरूआत की , बीच में कुछ डगमगाया लेकिन शांतचित्त होकर फिर लय पकड़ी. उन्होंने कहा कि उसने स्वीकार कर लिया कि वह भी इंसान है और हर मैच में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर सकता . उसके पास सारे स्ट्रोक्स हैं और वह खेल को बखूबी समझता है . मुझे याद नहीं पड़ता कि IPLके इतिहास में किसी ने इतनी शानदार बल्लेबाजी की हो. संगकारा ने कहा कि नौ खिलाड़ियों के कोर ग्रुप ने उनका काम आसान कर दिया.

हमने दोनों विकेट गंवा दिये और आखिरी ओवरों में 20 रन पीछे रह गए: 

उन्होंने कहा कि अनुभवी टीम के होने का यही फायदा है .हमारे पास नौ अनुभवी और हुनरमंद खिलाड़ी हैं . मुझे कोच के रूप में ज्यादा कुछ करना नहीं होता. RCB के क्रिकेट निदेशक माइक हेसन ने कहा कि आखिरी पांच ओवरों में तेजी से रन नहीं बना पाने का खामियाजा टीम को भुगतना पड़ा. उन्होंने कहा कि पांच ओवर बाकी रहते हमारा स्कोर तीन विकेट पर 123 रन था . हम 175. 180 रन बना सकते थे जब मैक्सवेल और पाटीदार खेल रहे थे . हमने दोनों विकेट गंवा दिये और आखिरी ओवरों में 20 रन पीछे रह गए. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें