केंद्रीय मंत्रिपरिषद का संभावित विस्तार: मध्य प्रदेश का दौरा अधूरा छोड़कर सिंधिया दिल्ली रवाना

केंद्रीय मंत्रिपरिषद का संभावित विस्तार: मध्य प्रदेश का दौरा अधूरा छोड़कर सिंधिया दिल्ली रवाना

केंद्रीय मंत्रिपरिषद का संभावित विस्तार: मध्य प्रदेश का दौरा अधूरा छोड़कर सिंधिया दिल्ली रवाना

इंदौर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंत्रिपरिषद के शीघ्र विस्तार की अटकलों के बीच भाजपा के राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ अंचल का तीन दिवसीय दौरा अधूरा छोड़कर मंगलवार दोपहर दिल्ली रवाना हो गए. सिंधिया उन प्रमुख दावेदारों में से माने जा रहे हैं जिन्हें मोदी मंत्रिपरिषद में जगह मिल सकती है.

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने हवाईअड्डे पर की नारेबाजी:
नजदीकी धार्मिक नगरी उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन के बाद इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर हवाई अड्डे पहुंचे सिंधिया से मिलने के लिए स्थानीय भाजपा नेता और कार्यकर्ता पहले से हवाई अड्डे पर जमा थे. सिंधिया के समर्थन में भाजपा कार्यकर्ताओं ने हवाई अड्डे पर नारेबाजी की. इस दौरान राज्यसभा सदस्य अपने हाथ जोड़कर समर्थकों का अभिवादन करते देखे गए. कांग्रेस नीत संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार में मंत्री रह चुके सिंधिया ने कहा कि मेरा उज्जैन का दौरा समाप्त हो गया है और अब मैं दिल्ली जा रहा हूं, मैं अगले हफ्ते लौटूंगा.

बुधवार सुबह 09:15 बजे जाना था दिल्ली:
उन्होंने हालांकि केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल होने की अटकलों पर औपचारिक रूप से चुप्पी बरकरार रखी और कहा कि उन्हें इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं है. सिंधिया ने मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ अंचल का तीन दिवसीय दौरा रविवार से शुरू किया था और मूल कार्यक्रम के मुताबिक उन्हें बुधवार सुबह 09:15 बजे इंदौर से दिल्ली रवाना होना था. सिंधिया के दौरा कार्यक्रम में परिवर्तन को मोदी मंत्रिपरिषद के विस्तार की अटकलों से जोड़कर देखा जा रहा है. इस बीच केंद्रीय मंत्रिपरिषद में सिंधिया के शामिल होने की अटकलों के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस के राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने अपने चिर-परिचित अंदाज में कहा कि अगर उन्हें केंद्र सरकार में मंत्री बनाया जा रहा है तो उन्हें बहुत बधाई. 

गौरतलब है कि सिंधिया की सरपरस्ती में कांग्रेस के 22 बागी विधायकों के विधानसभा से त्यागपत्र देकर भाजपा में शामिल होने के कारण तत्कालीन कमलनाथ सरकार का मार्च 2020 में पतन हो गया था. इसके तत्काल बाद शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में भाजपा सूबे की सत्ता में लौट आई थी. सोर्स भाषा 

और पढ़ें