थार के रेगिस्तान में मिसाइल नाग के एडवांस वर्जन का सफल परीक्षण

Suryaveer Singh Tanwar Published Date 2019/07/09 09:23

जैसलमेर: राजस्थान में थार के रेगिस्तान में एंटी टैंक मिसाइल नाग के उन्नत वर्जन का परीक्षण किया गया. रविवार रात और सोमवार सुबह और रात तक कुल चार मिसाइल के सभी परीक्षण एकदम सटीक रहे. डीआरडीओ की ओर से विकसित और भारत डॉयनामिक्स लिमिटेड की तरफ से निर्मित नाग मिसाइल का परीक्षण सेना के अधिकारियों ने किया. यह मिसाइल सेना की ओर से तय मापदंडों पर एकदम खरी उतरी. 

230 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से लक्ष्य पर प्रहार:
सैन्य सूत्रों का कहना है कि वैज्ञानिकों की उपस्थिति में सेना ने एंटी टैंक मिसाइल नाग की मारक क्षमता जांची. इस क्षेत्र में अलग-अलग मौसम में नाग मिसाइल के पूर्व में भी परीक्षण किए जा चुके हैं. रक्षा मंत्रालय नाग मिसाइल को सेना के लिए खरीदने का ऑर्डर पहले ही दे चुका है. नाग मिसाइल के उन्नत वर्जन में इंफ्रारेड सिस्टम लगाया गया है. इसकी मदद से यह मिसाइल अब अपने लक्ष्य को आसानी से पहचान कर सकती है. इस कारण अब इस मिसाइल की इतनी सटीकता है कि इसे फायर एंड फोरगेट कहा जाने लगा है. पांच सौ मीटर से लेकर पांच किलोमीटर की दूरी तक मार करने वाली यह मिसाइल एक बार में आठ किलोग्राम वारहैड लेकर जाती है. 42 किलोग्राम वजन वाली नाग मिसाइल 1.90 मीटर लम्बी होती है. यह 230 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से अपने लक्ष्य पर प्रहार करती है. नाग मिसाइल दागने वाले कैरियर को नेमिका कहा जाता है. ऊंचाई पर जाकर यह टैंक के ऊपर से हमला करती है. 

मिसाइल फायर एंड फोरगेट सिस्टम पर काम करती है: 
रणक्षेत्र में सैनिक शत्रु के टैंक को देखने के बाद उन्हें तबाह करने के लिए नाग मिसाइल दागते है. ऐसे में इसकी रेंज कम रखी गई है. यह मिसाइल फायर एंड फोरगेट सिस्टम पर काम करती है. टैंक की ऊपरी सतह उसके अन्य हिस्सों की अपेक्षा कमजोर होती है. ऐसे में यह ऊपर से हमला बोल टैंक की ऊपरी सतह में होल कर उसके अंदर जाकर विस्फोट करती है. नाग मिसाइल किसी भी टैंक को ध्वस्त करने में सक्षम मानी जाती है. नाग मिसाइल की खासियत यह है कि यह उड़ान भरने के बाद अपने ऑपरेटर के पास पूरे क्षेत्र के फोटो भी भेजती रहती है. इससे ऑपरेटर को क्षेत्र में मौजूद दुश्मन के टैंकों की सटीक संख्या पता चल जाती है. इसके आधार पर वह अन्य मिसाइल दाग उन्हें नष्ट कर सकता है. सतह से सतह पर मार करने वाली नाग मिसाइल का एक हवा से जमीन पर मार करने वाला हेलिना वर्जन भी है. इसे हेलिकॉप्टर से दागा जाता है.  हेलिना की रेंज दस किलोमीटर है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in