Live News »

आज है काल भैरव जयंती, जानें इसका महत्व और विधि

आज है काल भैरव जयंती, जानें इसका महत्व और विधि

कालाष्टमी जिसे काल भैरव जयंती भी कहा जाता है. ये हर माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है. इस विशेष दिन भगवान शिव के रूद्र अवतार कालभैरव की पूजा-अर्चना करने का विधान हैं.काल भैरव को समर्पित इस दिन भक्त साल भर आने वाली हर कालाष्टमी पर उपवास कर भगवान शिव, मां दुर्गा और भैरवनाथ को प्रसन्न करते हैं. ये व्रत हर महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है, इसलिए भी इसे कालाष्टमी कहते है.

काल भैरव अष्टमी और काल भैरव जयंती के बारे में आज जानेंगे  कि इस दिन आप पूजा पाठ कैसे करें और काल भैरव जयंती का क्या महत्व होता है एवं भैरव बाबा का पूजा पाठ कैसे किया जाता है.पहले जान लेते हैं कालाष्टमी के महत्व के बारें में 

कालाष्टमी व्रत का पौराणिक महत्व 
जैसा हमने आपको पहले ही बताया कि कालभैरव को भगवान शिव का रूद्र अवतार माना जाता है, इसलिए शास्त्रों अनुसार जो भी व्यक्ति इस विशेष दिन उपवास कर कालभैरव की सच्ची भाव सहित आराधना करता है उसे भगवान शिव सदैव सभी नकारात्मक शक्तियों से मुक्ति दिलाते हैं

इसके साथ ही काल भैरव की उपासना करने से व्यक्ति को शीघ्र ही शुभ फलों की प्राप्ति तो होती ही है। साथ ही व्यक्ति की कुंडली में मौजूद किसी भी प्रकार का राहु दोष भी दूर हो जाता है। तो आइये अब जानते है काल भैरव को प्रसन्न करके और उनसे मनचाहा फल पाने के लिए कालाष्टमी पर किन विशेष बातों का हर जातक को ज़रूर ध्यान रखना चाहिए.

कालभैरव जयंती व्रत की सही पूजा विधि:- 

  • चूँकि भैरव को तांत्रिकों के देवता माना गया है, इसलिए कालभैरव जयंती की पूजा केवल और केवल रात के समय ही की जानी चाहिए 
  • इस दिन काले कुत्ते को भोजन कराना शुभ होता है। क्योंकि माना गया है कि ऐसा करने से भैरवनाथ प्रसन्न होते हैं 
  • इस दिन भैरवनाथ की पूजा के साथ-साथ माता वैष्णो देवी की भी पूजा करने का विधान है 
  • इस दिन विशेष तौर पर भैरव जयंती से एक दिन पहले रात्रि के समय पूजा करने का अधिक महत्व होता है। इसलिए रात के समय काल भैरव के साथ-साथ मां दुर्गा की भी रात्रि में पूजा-आराधना करें 
  • रात भर पूजा करने से इसके बाद अगली सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि कर साफ़ वस्त्र पहने और उसके बाद ही भैरव देव की पूजा करें
  • मान्यता अनुसार कालभैरव जयंती पर भैरव देव की पूजा के लिए शमशान घाट से लायी गयी राख ही चढ़ाई जाती है
  • इसके पश्चात पूजा कर काल भैरव कथा सुनने से लाभ मिलता है  
  • इस दौरान काल भैरव के मंत्र “ॐ काल भैरवाय नमः” का जाप करना चाहिए
  • इसके साथ ही इस दिन मां बंगलामुखी का अनुष्ठान भी इस दौरान करना बेहद शुभ माना गया है। इससे व्यक्ति को शुभाशुभ लाभ की प्राप्ति होती है
  • इस दिन श्रद्धा अनुसार ग़रीबों को अन्न और वस्त्र का दान करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। 
  • अगर मुमकिन हो तो कालाष्टमी के दिन मंदिर में जाकर कालभैरव के समक्ष तेल का एक दीपक ज़रूर जलाएं।


 

और पढ़ें

Most Related Stories

Horoscope Today, 15 August 2020: शनिवार को इन छह राशि वालों के बदलेंगे भाग्य

Horoscope Today, 15 August 2020: शनिवार को इन छह राशि वालों के बदलेंगे भाग्य

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

15 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय  

मेष ( Aries):-  आज के दिन कुछ खबर या फोनकाल आपक मूड बदल सकती है जब किसी काम के बन जाने का समाचार आपको मिलेगा. यदि आप आजीविका या कार्यक्षेत्र में ज्यादा उलझनें महसूस कर रहे हों तो उसके लिए भी आपका रास्ता साफ होने जा रहा है. 

वृष ( Taurus):- आज अपने कारोबार से प्रॉफिट बटोरने का दिन है सुबह से ही अच्छे मैसेज और फोनकाल आपके लिए और भी फायदेमन्द साबित हो सकती है. यदि समय मिल जाये तो सायंकाल का समय पार्टी-दावत में जाने के लिए भी अनुकूल है. 

मिथुन (Gemini):-  पिछले कई महीनों से आप तनावग्रस्त और परेशानी के माहौल में रहने के कारण आपकी हिम्मत और गतिविधि फ्रीज हो गई थी लेकिन आज का दिन इन सबके दबाव से मुक्त रहेगा और किसी अच्छे प्रोजेक्ट की शुरुआत सायंकाल तक हो सकती है.  

कर्क ( Cancer):- कुछ बढ़ते हुए काम का बोझ आपको आज सारे दिन बिजी रखेगा. अपने आथिर्क नियोजन को पूरी तरह एक्सप्लाइंट करके कोष खजाने को मजबूत बनायें चूंकि अभी आगे भी खर्च बढ़ चढ़ कर होगा. 

सिंह (Leo):- बिजनेस फील्ड में आपको आज अच्छा सहयोग मिलने जा रहा है. किसी प्रकार का कन्ट्रेक्ट या लम्बा चलने वाला काम आपके लिए धन कमाने का स्रोत बन सकता है. 

कन्या ( Virgo):- इधर कई प्रकार की हैक्टिक हालत रही जिसके कारण आप कुछ अस्वस्थ भी अपने को महसूस कर रहे हैं. आज के दिन अचानक ही सभी मसले एक एक करके हल होते नजर आयेंगे और लाभ मार्ग में आने वाली रूकावटें भी सिमटती जायेंगी.  

तुला ( Libra):- इन दिनों कई प्रकार के प्रस्ताव आपके पास विचाराधीन हैं. अगर अपने ही बलबूते पर आगे पैर बढ़ाना चाहते हैं तो फिर फाइनेंस की प्राब्लम आपको मजबूर करती है कि अकेले कुछ नहीं होगा. अत: अपने बदले हुए दौर को संभालने के लिए सोच समझ कर ही कोई कदम रखें. 

वृश्चिक ( Scorpio):- एक आदर्श वाक्य आपका सहारा बनता है कि भाग्य कर्म से जुड़ा है और कर्म कोई भी छोटा नहीं है. आज के दिन आपको अपने ही इस फॉर्म्यूले को साकार करने की नौबत आ सकती है. 

धनु (Sagittarius):- एक्सपेरीमेंट और प्रयोग करते रहना आपकी फितरत में है. बड़ी जल्दी आप मोर्चे से हटकर दूसरे मोर्चे पर डट जाने की उतावली करते हैं.  बेहतर होगा कि आप रोज रोज अपना प्लान न बदलें और एक जगह डटे रहें. 

मकर ( Capricorn):- नये नये बदलाव आपके सामने पेश होंगे. बेहतर यही होगा कि आप अपने स्वार्थ की पूर्ति न करके किसी ऐसे काम को स्वीकार करें जिसके चलते आपका यश भी फैले और समाज में कोई आपको याद करता रहे. 

कुंभ ( Aquarius):- काफी लम्बे अरसे के बाद ऐसा मौका मिलता है जब सब कुछ ठीक-ठाक ढंग से आगे बढ़ने का संतोष बना रहे. धन की वसूली से लेकर कागज पत्र आदि के काम को दिन के समय निपटा सकते हैं. किसी लेन-देन के कारण उत्पन्न हुए डिस्प्यूट को हल कर सकते हैं. 

मीन ( Pisces):- कुछ ऐसे अवसर आपको मिल सकते है जब लोग आपकी महत्वाकांक्षा को साकार करने में अपना सहयोग देना चाहते हैं. यदि आप अपने जॉब या नौकरी का फील्ड बदलना चाहते हैं तो फिर यह सोच लें पुरानी जगह के मुकाबले नई जगह पर कितना अधिकार सुख मिलेगा.  

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री


 

15 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

15 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

शुभ मास- भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष:   
शुभ तिथि एकादशी नन्दा संज्ञक तिथि दोपहर 2 बजकर 21 मिनट तक तत्पश्चात द्वादशी तिथि रहेगी. एकादशी तिथि मे विवाह आदि मांगलिक, यज्ञोपवीत ,गृह आरम्भ, प्रवेश, देव कार्य आदि कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं. 

मृगशिर "मृदु " संज्ञक नक्षत्र प्रातः 6 बजकर 36 मिनट तक तत्पश्चात आर्द्रा "तीक्ष्ण" संज्ञक नक्षत्र रहेगा. मृगशिर नक्षत्र मे यथा आवश्यक मांगलिक कार्य,पौष्टिक, देवकृत्य इत्यादि कार्य सिद्ध होते हैं. मृगशिर नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक उत्साही, चपल, सुमार्ग पर चलने वाला, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है. 

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन रात्रि मिथुन राशि में संचार करेगा |

व्रतोत्सव - अजा एकादशी व्रत सबका, भारतीय स्वंतंत्रता दिवस

राहुकाल - प्रातः 9 बजे से 10.30 बजे तक

दिशाशूल - शनिवार को पूर्व दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से अदरक या उरद दाल खा कर निकले.       

आज के शुभ चौघड़िये - प्रातः 7.39 मिनट से प्रातः 9.17 मिनट तक शुभ, दोपहर 12.31  मिनट से सायं 5.23  तक चर, लाभ, और अमृत  का चौघड़िया  

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

16 अगस्त से शुरू होने वाली माता वैष्णो देवी यात्रा पर संशय, 8 पुजारी मिले कोरोना संक्रमित!

16 अगस्त से शुरू होने वाली माता वैष्णो देवी यात्रा पर संशय, 8 पुजारी मिले कोरोना संक्रमित!

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच जम्मू कश्मीर में माता वैष्णो देवी यात्रा दोबारा शुरू की जाएगी. ये फैसला जम्मू कश्मीर प्रशासन ने लिया. खबरों की माने तो अब ये यात्रा 16 अगस्त से शुरू होनी है. माता वैष्णो देवी की यात्रा शुरू होने से पहले यहां पर कोरोना वायरस ने दस्तक दी है. 

12 पॉजिटिव मिले:
श्री माता वैष्णो देवी भवन के 8 और पुजारी कोरोना पॉजिटिव पाये गए हैं. अब यहां कुल 12 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है. ऐसे हालात में माता वैष्णो देवी यात्रा पर संशय पैदा हो गया है. खबरों के मुताबिक माता वैष्णो देवी के भवन पर मंगलवार को 3 भजन गायक और 1 जवान के पॉजिटिव मिलने की पुष्टि हुई थी. इसके बाद बुधवार को 2 कथा पुजारी और 6 अन्य पुजारी संक्रमित पाये गए. इन्हें सभी को आइसोलेशन वार्ड में रेफर कर दिया गया है.

भूलो और माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में लगना है- सीएम गहलोत

16 अगस्त से शुरू होनी है माता वैष्णो देवी की यात्रा:
आपको बता दें कि माता वैष्णो देवी की यात्रा 16 अगस्त से शुरू होनी है. ऐसे में यहां पर हर रोज 5000 श्रद्धालुओं को दर्शनों की अनुमति होगी, जिसमें 500 यात्री राज्य के बाहर के हो सकते हैं. श्रद्धालुओं की भीड़ एकत्रित ना हो, इसलिए इन यात्रियों का पंजीकरण ऑनलाइन किया जाएगा. राज्य के बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं और जम्मू-कश्मीर में घोषित रेड जोन के यात्रियों के लिए कोरोना टेस्ट अनिवार्य किया गया है और ये टेस्ट निगेटिव आने पर ही यात्रा की अनुमति होगी. साथ ही कोरोना गाइडलाइन का पालन करना होगा.

बसपा विधायकों को बड़ी राहत, सुप्रीम कोर्ट ने स्पीकर के आदेश पर रोक लगाने से किया इनकार

Horoscope Today, 13 August 2020: आज इन राशि वालों का बदलेगा भाग्य, पढ़ें दैनिक राशिफल

Horoscope Today, 13 August 2020: आज इन राशि वालों का बदलेगा भाग्य, पढ़ें दैनिक राशिफल

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

13 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, आज के दिन जन्मे जातक होते हैं गुणवान और पराक्रमी  

मेष( Aries): आज धन कमाने के कई प्रपोसल आपको मिल सकते है लेकिन पार्टनरशिप के काम से बचे लेकिन अगर अपने ही बलबूते पर आगे पैर बढ़ाना चाहते हैं तो कमर कस लीजिये क्यूंकि आगे बहुत मेहनत करनी है. आज के दिन की सफलता के लिए हल्दी की गांठ अपने पास रखें. 

वृष( Taurus): काफी लंबे अर्से के बाद आज का दिन सुख प्रदान करने वाला रहेगा, आगे बढ़ने का मौका मिलेगा. उलझे हुए मैटर्स आज सुलझ सकते हैं. भविष्य की प्लानिंग कर के रखें. आज के दिन के सफलता के लिए माता पिता की परिक्रमा करके घर से निकले. 

मिथुन( Gemini): आज अपने आप  को समय के हवाले कर दे, जो होता है, जैसा होता है उसे स्वीकार करते जाये उसी में आज आपकी भलाई है. कोई ऐसा काम करने को मिल सकता है  जिससे आपको यश, सम्मान प्राप्त हो सकता है. आज के दिन के सफलता के लिए बेसनले लड्डू बच्चों में बाटे.   

कर्क( Cancer): आज किसी भी तरह का एक्स्पेरीमेंट, प्रयोग करते से बचे. ज़्यादा जल्दबाजी, उतावलापन, जोख़िम उठाने की प्रवत्ति, ओवर कॉन्फिडेंस से अपने आप को दूर रखने का प्रयास करें. आज के दिन के सफलता के लिए विष्णु मंदिर में इत्र का दान करें. 

सिंह( Leo): आज के दिन आप अपने आपको सर्वगुण संपन्न स्वतंत्र और खुशहाल महसूस करेंगे. आज के दिन जिस काम में आप को हाथ डालेंगे उसी कार्य में  प्राप्त होगी. सर्दी जुखाम से बचे. आज के दिन के सफलता के लिए अपने पितरों के तस्वीर के समक्ष देशी घी का दीपक जलाये. 

कन्या( Virgo): आज का दिन आज कल करने में नहीं बिताये. कुछ अच्छा करने की प्लानिंग करें. आज के दिन आप दबाव रहित होकर अपने रचनात्मक और मौलिक काम को अमल में लाने के लिए भरसक प्रयास करें. आज के दिन की सफलता के लिए हल्दी मिश्रित दूध का सेवन अवश्य करें. 

तुला( Libra): आज पिछले दिनों किये गए प्रयासों के कारण पेंडिंग पड़े सभी मसले एक-एक करके हल होते नजर आएंगे. किसी भी तरह के विवाद में पड़ने से बचे क्यूंकि आज कोई बात आपके लिए एक नया सिरदर्द बन सकती है. आज के दिन की सफलता के लिए गौ माता की सेवा करें. 

वृश्चिक( Scorpio): बिजनस फील्ड में अच्छा रहेगा, कोई बड़ा  कॉन्ट्रैक्ट धन कमाने का स्रोत बन सकता है. यदि आप  कार्यक्षेत्र में ज्यादा उलझनें महसूस कर रहे हों तो उसके लिए भी आपका रास्ता साफ होने जा रहा है. आज के दिन की सफलता के लिए ॐ हरये नमः मन्त्र का जाप करें. 

धनु( Sagittarius): कुछ बढ़ते हुए काम का बोझ आपको आज सारे दिन बिजी रखेगा लेकिन धैर्य और सुकून बनाए रखें और अपने आर्थिक नियोजन को पूरी तरह इस्तेमाल करके खजाने को मजबूत बनाएं. आज के दिन की सफलता के लिए केले के पौधे की पूजा परिक्रमा करें. 
मकर( Capricorn): आज के दिन किसी मांगलिक कार्य की शुरूआत आप कर सकते हैं. पिछले कई महीनों से आप तनावग्रस्त और परेशानी के माहौल में रहने के कारण आपकी हिम्मत फ्रीज हो गई थी, लेकिन आज का दिन इन सबके दबाव से मुक्त रहेगा. आज के दिन की सफलता के लिए चनेकी दाल का सेवन करें. 

कुंभ( Aquarius ): आज अपने कारोबार से प्रॉफिट बटोरने का दिन है. सुबह से ही अच्छे मेसेज और फोनकाल आपके लिए और भी फायदेमंद साबित हो सकते हैं. शाम का समय पार्टी दावत में गुजर सकता है. आज के दिन की सफलता के लिए विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें. 

मीन( Pisces): कुछ जद्दोजहद और परेशानी से भरा दिन रह सकता है लेकिन आपकी सकरात्मक सोच आज आपकी मदद करती रहेगी. कुछ ऐसे अवसर आपको मिल सकते है जो आपकी महत्वाकांक्षा को साकार कर सकते है. आज के दिन की सफ़लता के लिए विष्णु मंदिर में कमल का पुष्प अर्पण करें. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

13 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, आज दक्षिण दिशा में यात्रा को सफल बनाने के लिए घर से दही खा कर निकले

13 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त, आज दक्षिण दिशा में यात्रा को सफल बनाने के लिए घर से दही खा कर निकले

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

शुभ मास - भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष:   
शुभ तिथि नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि  दोपहर 3 बजकर 59 मिनट तक रहेगी. नवमी तिथि को विवाह आदि मांगलिक विवाह कार्य इत्यादि कार्य शुभ माने जाते हैं. नवमी तिथि मे जन्मे जातक धनवान भाग्यवान ,गुणवान,पराक्रमी होते हैं. 

रोहिणी "ध्रुव-उर्ध्वमुख" संज्ञक नक्षत्र रात्रि 4 बजकर 22 मिनट तक तत्पश्चात मृगशिर "मृदु " संज्ञक नक्षत्र रहेगा. रोहिणी नक्षत्र मे यथा आवश्यक विवाह, धन संचय, देव ग्रह, देव कृत्य इत्यादि कार्य सिद्ध होते हैं. रोहिणी नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक जनप्रिय, सुमार्ग पर चलने वाला, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है. 

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन वृषभ राशि में संचार करेगा. 

व्रतोत्सव -  गोगा नवमी, नंदोत्सव  

राहुकाल - दोपहर 1.30 बजे से 3 बजे तक                              

दिशाशूल - गुरुवार को दक्षिण दिशा में दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से दही खा कर निकले. 

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 7.39 मिनट तक शुभ का, प्रातः 10.54 से दोपहर 3.47 मिनट तक चर, लाभ , अमृत का और सायं 5.24 से सूर्यास्त तक शुभ का चौघड़िया. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री  

खाटू नगरी में आज कृष्ण जन्माष्टमी पर सुनाई नहीं देगा नंद के आनंद भयो..का जयकारा

खाटू नगरी में आज कृष्ण जन्माष्टमी पर सुनाई नहीं देगा नंद के आनंद भयो..का जयकारा

सीकर: खाटूश्यामजी मे जहां हर वर्ष देशभर से हजारों श्रद्धालु खाटूधाम पहुंचकर बाबा श्याम के दर पर कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाते है और पूरी नगरी नंद के आनंद भयो.., हाथी घोड़ा पालकी..जैसे अनेक जयकारों से सरोबार होती थी. संध्या होते ही मंदिर परिसर में देवी देवताओं की आलौकिक झांकियों के बीच कृष्ण और श्याम भजनों का दौर रात्रि 12 बजे तक चलता था. मगर इस बार कोरोना संक्रमणकाल के चलते आज बिना भक्तों के जन्माष्टमी का पर्व सादगीपूर्ण तरीके से मनाया जाएगा. श्री श्याम मंदिर कमेटी द्वारा रात्रि 12 बजे बाबा श्याम की विशेष आरती के बाद  पंजीरी, माखन मिश्री, पंचामृत और 56 भोग बाबा श्याम को लगाया जाएगा. कमेटी की ओर से भक्तों के लिए सोशल मीडिया पर लाइव दर्शन और आरती की व्यवस्था कर रखी है. 

Horoscope Today, 12 August 2020: जन्माष्टमी पर आज राशि अनुसार करें भगवान श्रीकृष्ण पूजा, भाग्य देगा भरपूर साथ 

19 मार्च से ही बाबा श्याम के कपाट दर्शनार्थ बंद कर दिए गए थे:
गौरतलब है कि कोरोनाकाल के चलते हुए लॉकडाउन के कारण 19 मार्च से ही बाबा श्याम के कपाट दर्शनार्थ बंद कर दिए गए थे. कोरोनाकाल में भी श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला बदस्तूर जारी है. मगर राज्य सरकार की गाइडलाइन के कारण मंदिर कमेटी ने मुख्य प्रवेश द्वार पर बेरिकेट्स लगाकर दर्शन मार्ग को बंद होने के कारण श्रद्धालु यहां से ही धोक लगाकर और प्रसाद चढाकर मनौतियां मांग कर अपने गंतव्या की ओर लौट रहे हैं. 

बिना भक्तों के बाजार भी वीरान:
विशेषतौर पर कृष्ण जन्माष्टमी के दिन बाजार भक्तों से गुलजार रहते हैं. इस दिन पोशाक की दुकानों पर श्रद्धालु कृष्ण भगवान की पीत्तल की मूर्ति, पोशाक, पालना और उनके सजावट के सामान सहित भगवान को गर्मी से निजात दिलाने के लिए मिनी कूलर व पंखे की जमकर बिक्री होती है. मगर इस बार बिना भक्तों के बाजार वीरान होने से दुकानदार भी मायूस बैठे हैं. 

हर धर्मशाला व वार्डो में होते है महोत्सव:
कृष्ण जन्मोत्सव के अवसर पर खाटू की अधिकांश धर्मशालाओं में भजन संध्याएं आयोजित होती है. जिसमें देशभर के नामी गिरामी गायक कलाकार श्याम भजनों की प्रस्तुतियां देते है. वहीं अनेक वार्डो में महोत्सव और प्रतियोगिताएं होती है. जिसमें बच्चों से लेकर बड़े चाव से भाग लेते है. मगर इस बार पुलिस और प्रशासन के आदेश के चलते कार्यक्रम नहीं होंगे. 

VIDEO: प्रदेशवासियों को विश्वास दिलाता हूं कि आने वाले दिनों में दुगुने जोश से काम करेंगे - सीएम गहलोत 

पुलिस ने की घर में जन्माष्टमी मनाने की अपील: 
कोरोना के बढते संक्रमण को देखते हुए पुलिस ने कुछ दिन पहले शांति समिति की बैठक आयोजित की थी. जिसमें स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कृष्ण जन्माष्टमी पर कार्यक्रम नहीं होने सहित सभी भक्तों को घर में ही पर्व मनाने की हिदायत दी थी. थाना प्रभारी पूजा पूनियां ने बताया कि इस दिन भक्त मंदिर तक नहीं पहुंचे. इसके लिए अतिरिक्त पुलिस जाप्ता मंगवाया गया है. वहीं मुख्य रास्तों पर बेरिकेड्स लगाकर श्रद्धालुओं को रोका जाएगा. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए सीकर से रमेश शर्मा की रिपोर्ट

Horoscope Today, 12 August 2020: जन्माष्टमी पर आज राशि अनुसार करें भगवान श्रीकृष्ण पूजा, भाग्य देगा भरपूर साथ

Horoscope Today, 12 August 2020: जन्माष्टमी पर आज राशि अनुसार करें  भगवान श्रीकृष्ण पूजा, भाग्य देगा भरपूर साथ

जयपुर: दैनिक राशिफल चंद्र ग्रह की गणना पर आधारित होता है. राशिफल की जानकारी करते समय पंचांग की गणना और सटीक खगोलीय विश्लेषण किया जाता है. दैनिक राशिफल में सभी 12 राशियों के भविष्य के बारे में बताया जाता है. ऐसे में आप इस राशिफल को पढ़कर अपनी दैनिक योजनाओं को सफल बना सकते हैं. 

12 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय  

वृष : भगवान श्रीकृष्ण का पंचामृत से अभिषेक करें. दूध से निर्मित मिठाई, रसगुल्ले  का भोग लगाये. कमलगट्टे की माला से ' हरे कृष्णा ' मंत्र  का  जाप करें. 

मिथुन : भगवान श्रीकृष्ण का दुग्ध से अभिषेक करें. पंचमेवा से निर्मित मिठाई और केले का भोग लगाना चाहिए. साथ ही 'श्रीराधायै स्वाहा' मंत्र की तुलसी या स्फटिक की माला से जाप  करें. 

कर्क :  भगवान राधेकृष्ण का अभिषेक केसर मिश्रित दूध से करें. काजू की बर्फी का भोग लगाना चाहिए.  'श्रीराधा वल्लभाय नमः' मंत्र की पांच माला का जाप करें. फलों में पानीवाला नारियल चढ़ाएं.

सिंह : भगवान श्रीकृष्ण का गंगाजल में शहद मिलाकर अभिषेक करें. गुड़ का भोग लगाये.  'ॐ विष्णवे नमः' मंत्र का जाप करें.  बादाम, मिश्री और फल शिव को अर्पित करें.  

कन्या : भगवान श्रीकृष्ण का दूध में घी मिलाकर अभिषेक करें. दूध से बनी हुई मिठाई का भोग लगाये. ॐ श्री गोविन्दाये नमः  मंत्र का  का जप करें. भगवान कृष्ण को लौंग, इलायची, तुलसी का पत्ता, हरा पान और कोई हरा फल भोग में लगाएं.

तुला :  भगवान कृष्ण का  दूध में शक्कर मिलाकर अभिषेक करें. दूध से निर्मित प्रसाद चढ़ाना चाहिए और श्री कृष्णाय नमः मंत्र की माला का जाप करें और महाप्रसाद में बादाम, माखन, मिश्री और केला भोग में लगाएं.

वृश्चिक : भगवान श्रीकृष्ण का पंचामृत से अभिषेक करें. गुड़ से बने हुए मिष्ठान का भोग लगाये. 'श्री राधा कृष्णाय नमः' मंत्र के कम-से-कम पांच माला का जाप करें. साथ ही पंचमेवा फलों में पानी वाला नारियल भोग में लगाएं.

धनु : भगवान श्रीकृष्ण का शहद और दूध से अभिषेक करें. बेसन की मिठाई का भोग लगायें. ॐ नमो नारायणाय नमः' मंत्र की पांच माला का जाप करें. पीला वस्त्र और पीला फल चढ़ाएं. अमरूद चढ़ाएं. सफ़लता कदम चूमेंगी. 

मकर : भगवान श्रीकृष्ण को गंगाजल से अभिषेक करें.  'ॐ देवकीसुत गोविंदाय नमः' मंत्र का जाप करें. अंगूर, मीठा पान और केसरवाली मिठाई भोग लगाएं. व्यापार में लाभ की प्राप्ति होगी.

कुंभ : भगवान श्रीकृष्ण का पंचामृत से अभिषेक करें. लालिमायुक्त दूध से निर्मित मिठाई का भोग लगाये. 'ॐ  नमो भगवते वासुदेवाय' मंत्र का 11 माला  जाप करें.  मेवे, बादाम, काजू, किशमिश, पिस्ता, अखरोट का प्रसाद चढ़ायें. 

मीन : भगवान श्रीकृष्ण का पंचामृत से अभिषेक करें. माखन मिश्री का भोग लगाये, इलयाची, नारियल, फल अर्पण करें. 'ॐ  माधवाय  नमः' मंत्र का जाप करें. भगवान को इलायची, नारियल और फल अर्पित करें. सब दुखो से मुक्ति मिलेगी. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री

12 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

12 अगस्त 2020: पंचांग से जानें आज का शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

शुभ मास- भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष:  
शुभ तिथि अष्टमी जया संज्ञक तिथि दोपहर 11 बज कर 17 मिनट तक तत्पश्चात नवमी तिथि आरम्भ. अष्टमी तिथि मे यथा आवश्यक विवाह आदी , मनोरंजन ,लेखन ,प्रवेश इत्यादि कार्य शुभ रहते हैं. अष्टमी तिथि मे जन्मे पुत्र या पुत्री धनवान, गुणवान, पराक्रमी होते हैं. अष्टमी तिथि को मास मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए. 

कृतिका "मिश्र -अधोमुख" संज्ञक नक्षत्र रात्रि 3 बजकर 26 मिनट तक तत्पश्चात रोहिणी "ध्रुव-उर्ध्वमुख" संज्ञक नक्षत्र रहेगा. कृतिका नक्षत्र मे यथा आवश्यक अग्नि से सबंधित, कृषि इत्यादि कार्य सिद्ध होते हैं. कृतिका नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक सत्यवादी, सुमार्ग पर चलने वाला, सुन्दर, धनवान, बुद्धिमान होता है. इनका भाग्योदय 29 वर्ष के बाद होता है.  

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन वृषभ राशि में संचार करेगा. 

व्रतोत्सव -  श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रत वैष्णव जनो का, कृष्ण जन्म पूजा मुहूर्त - रात्रि 12 -05 से रात्रि 12-30 बजे  

राहुकाल - दोपहर 12 बजे से 1.30 बजे तक

दिशाशूल - बुधवार को उत्त्तर दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से गुड़, धनिया खा कर निकले. 

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 9.16 तक लाभ अमृत का, प्रातः 10.54 मिनट से दोपहर 12.32 मिनट तक शुभ और दोपहर 3.47 मिनट से सूर्यास्त तक चर, लाभ का चौघड़िया. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री  

Open Covid-19