कोरोना की वजह से नहीं भरेगा विश्व प्रसिद्ध लोक देवता बाबा रामदेव का वार्षिक मेला

कोरोना की वजह से नहीं भरेगा विश्व प्रसिद्ध लोक देवता बाबा रामदेव का वार्षिक मेला

कोरोना की वजह से नहीं भरेगा विश्व प्रसिद्ध लोक देवता बाबा रामदेव का वार्षिक मेला

रामदेवरा: विश्व प्रसिद्ध बाबा रामदेव का वार्षिक मेला इस बार कोविड 19 के चलते नहीं लगेगा. इस बारे में एसडीएम अजय अमरावत ने जानकारी देकर स्पष्ट किया कि बाबा रामदेव का मेला इस बार नहीं लगेगा. रविवार को एसडीएम अजय अमरावत ने समाधि समिति कार्यालय में पदाधिकारीयो से भेंट कर इस बारे में अवगत करवाया. लोक देवता बाबा रामदेव का प्रतिवर्ष अगस्त-सितंबर में लगने वाला वार्षिक मेला इस बार रामदेवरा में नहीं लगेगा.

धार्मिक स्थलों को खोलने पर लगाई पाबंदी: 
इस बारे में एसडीएम अजय अमरावत ने रविवार को समाधि समिति कार्यालय पहुंच कर समाधि समिति के पदाधिकारियों के साथ चर्चा की और उन्हें इस बारे में अवगत करवाया. समाधि समिति कार्यालय में समाधि समिति के अध्यक्ष और गादीपति राव भोम सिंह तंवर,सरपंच समंदर सिंह तंवर,उपसरपंच खिवसिंह तंवर, आदि शामिल रहे. राज्य सरकार के 31 अगस्त तक सभी धार्मिक स्थलों को खोलने पर पाबंदी लगाई हुई हैं.

टोंक के उनियारा में गलवा बांध की मोरी में मिले 3 शव, एक ही परिवार के सदस्य बताए जा रहे तीनों मृतक 

कोरोना की वजह से लिया निर्णय:
वहीं इस बार बाबा रामदेव का मेला भी 20 अगस्त से 2 सितंबर तक आयोजित होना हैं. प्रतिवर्ष बाबा रामदेव के वार्षिक मेले में देश और प्रदेश से करीब 30 से 50 लाख श्रद्धालु समाधि के दर्शनों को आते हैं. इसी के चलते कोविड 19 की पालना में इस साल का वार्षिक बाबा रामदेव का मेला नहीं लग रहा है. सावन मास से ही श्रद्धालुओं का पैदल आगमन हो जाता है. लेकिन इस बार पैदल यात्री भी सड़कों पर बहुत कम नज़र आ रहे हैं.

बीकानेर में सेल्फी लेते वक्त पुलिया से नीचे गिरने पर युवक की मौत 

मेला नहीं लगने की आधिकारिक घोषणा:
स्थानीय व्यापार की सभी गतिविधियों पर पिछले 5 महीने से अवरोध लगा है. यात्रियों की आवक थमने से सभी रोजगार मन्दे पड़े हैं. वार्षिक मेले में श्रद्धालुओं के भारी आगमन से व्यापारियों को काफी अच्छी आय होती हैं. कई लोग पूरे साल की आय मेले में ही कमा लेते हैं. इस बार सभी मायूस हैं. रविवार को एसडीएम की ओर से मेला नहीं लगने की आधिकारिक घोषणा हो गई हैं.

...फर्स्ट इंडिया के लिए राजेन्द्र सोनी की रिपोर्ट

और पढ़ें