देवराज गुर्जर की मौत के मामले ने पकड़ी तूल, ग्रामीणों ने प्रशासन को दिया पांच दिन का अल्टीमेटम

देवराज गुर्जर की मौत के मामले ने पकड़ी तूल, ग्रामीणों ने प्रशासन को दिया पांच दिन का अल्टीमेटम

देवराज गुर्जर की मौत के मामले ने पकड़ी तूल, ग्रामीणों ने प्रशासन को दिया पांच दिन का अल्टीमेटम

बौंली(सवाई माधोपुर): उपखंड क्षेत्र बौंली के राठौद गांव निवासी देवराज गुर्जर की मौत का मामला तूल पकड़ता नजर आ रहा है. दरअसल, 8 अक्टूबर को देवराज गुर्जर का शव शिशोलाव गांव में मिला था जिसके बाद ग्रामीणों ने 9 अक्टूबर को बौंली थाना पर प्रदर्शन कर नामजद आरोपियों के विरुद्ध रिपोर्ट सौंपी थी.

एसडीएम कार्यालय पर जमकर नारेबाजी की: 
मामले में कार्रवाई न होने के बाद आज किसान क्रांति सेना के प्रदेशाध्यक्ष मुरलीराम गुर्जर के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामीण बौंली पहुंचे और एसडीएम कार्यालय पर जमकर नारेबाजी की. कोरोना गाइडलाइन के चलते तहसीलदार कमल पचौरी ने प्रदर्शनकारियों के बीच आने से मना कर दिया जिसके बाद एक घंटे तक ग्रामीणों ने नारेबाजी की. एसएचओ बृजेश मीना ने ग्रामीणों से समझाइश की. ग्रामीणों ने तहसीलदार कमल पचौरी को कार्यालय परिसर में ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग की.

धारदार हथियार से हमला कर हत्या का आरोप:
किसान क्रांति सेना के प्रदेशाध्यक्ष मुरलीराम गुर्जर ने आरोप लगाया कि देवराज गुर्जर की वाहन की टक्कर मारकर व धारदार हथियार से हमला कर हत्या की गयी है लेकिन पुलिस द्वारा मामले को दुर्घटना का रूप दिया जा रहा है. गुर्जर ने प्रशासन को पांच दिनों का अल्टीमेटम देते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है साथ ही उग्र आंदोलन की चेतावनी भी दी है. 

और पढ़ें