अब अंतरिक्ष में लगेंगे 3 चांद ...

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/10/19 06:22

नई दिल्ली । आधुनिकता के दौर में इंसान इतना आगे बढ़ गया है कि अब वह मौत को भी वश में कर लेता है। ऐसा संभव हो पाया है विज्ञान से । विज्ञान ने हमें इतने अविष्कार दिए हैं कि अब इंसान ही भगवान हो गया है।  China अब विज्ञान के क्षेत्र में कुछ ऐसा करने जा रहा है जिसको जानकर आपको भी हैरानी होगी । चीन 2022 तक अपने तीन आर्टिफीशियल चांद लॉन्च करेगा।

आपको बतादे चीन का ये प्रोजेक्ट 2020 तक खत्म हो जाएगा । ये आर्टिफिशियल चांद शीशे के होंगे । इनमें सूर्य से रिफ्लेक्ट होकर रोशनी आएगी । हालांकि, इस कृत्रिम रोशनी से जानवरों पर नुकसान होने की आशंका है। इससे लोगों में चिंता है।  दरअसल, इन तीनों ऑर्बिट को चीन 360 डिग्री की कक्षा में स्थापित करेगा । जिससे 24 घंटे रोशनी मिलती रहे ।हालांकि, इस तरह का प्रयोग रूस भी कर चुका है लेकिन वह इसमें सफल नहीं रहा ।

तियांफू सिस्टम साइंस रिसर्च इंस्टिट्यूट के हेड वू चुनफेंग ने कहा- इनकी रोशनी इतनी होगी कि स्ट्रीट लाइट्स की जरूरत नहीं होगी ।उसके बिना ही काफी रोशनी पड़ेगी। वू के मुताबिक - 'सूर्य की किरणें 3600 वर्ग किलोमीटर से 6400 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर कर सकती है और इसकी रोशनी चंद्रमा की रोशनी से 8 गुना अधिक होने की संभावना है।' वू ने बताया कि इससे काफी फायदा होने वाला है। इस आर्टिफीशियल चांद से करीब 1.2 बिलियन यूआन की बिजली बचेगी। 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

मासूम बच्चो की प्रस्तुतियों ने मोहा मन

प्रेरक वक्ता राम चंदानी ने दिए सफलता के मूल मंत्र, जिंदगी वैसी बनाएं जैसी जीना चाहते है
मासूम बच्चो की प्रस्तुतियों ने मोहा मन
थम गई सरिस्का के बाघ ST-4 की साँसे
रूस के पायलेट उड़ाएँगे भारत के विमान, जोधपुर मेँ अवींद्र ड्रिल आज से
श्री गंगानगर के करणपुर के बूथ नंबर 163 पर आज पुनर्मतदान
थम गई सरिस्का के बाघ ST-4 की साँसे
रूस के पायलेट उड़ाएँगे भारत के विमान, जोधपुर मेँ अवींद्र ड्रिल आज से
loading...
">
loading...