जयपुर CM गहलोत ने दिए घर-घर सर्वेक्षण करके सभी पात्र परिवारों को चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ने के निर्देश

CM गहलोत ने दिए घर-घर सर्वेक्षण करके सभी पात्र परिवारों को चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ने के निर्देश

CM गहलोत ने दिए घर-घर सर्वेक्षण करके सभी पात्र परिवारों को चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ने के निर्देश

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (ashok gehlot) ने राज्य सरकार (state government) द्वारा शुरू की गई मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना (chief minister chiranjeevi health insurance scheme) में सभी पात्र परिवारों को घर-घर सर्वेक्षण करके जोड़ा जाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं.

गहलोत ने कहा कि इस योजना का उद्देश्य राजकीय अस्पतालों के साथ-साथ लोगों को निजी अस्पतालों में भी बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं निशुल्क उपलब्ध कराना है. उन्होंने निर्देश दिए कि घर-घर सर्वेक्षण के माध्यम से सभी पात्र परिवारों को इस योजना से जोड़ा जाना सुनिश्चित करें.

जरूरतमंद पात्र परिवार योजना में पंजीकृत होने से वंचित नहीं रहे:
गहलोत बुधवार को मुख्यमंत्री चिंरजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना की समीक्षा कर रहे थे. उन्होंने कहा कि योजना का व्यापक लाभ पहुंचाने के लिए जरूरी है कि शहरों के साथ-साथ निचले स्तर तक बडे़ और अच्छी स्वास्थ्य सुविधाओं वाले अधिकाधिक निजी अस्पतालों को इस योजना में जोड़ा जाए. उन्होंने कहा कि एक भी जरूरतमंद पात्र परिवार योजना में पंजीकृत होने से वंचित नहीं रहे. उन्होंने कहा कि जिन परिवारों का जनआधार पंजीयन हो चुका है, उन्हें आवश्यक रूप से योजना में शामिल किया जाए. उन्होंने कहा कि इस योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए.

स्वास्थ्य के क्षेत्र में यह एक क्रांतिकारी योजना:
गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री निशुल्क दवा एवं जांच योजना तथा निरोगी राजस्थान जैसी योजनाओं के बाद स्वास्थ्य के क्षेत्र में यह एक क्रांतिकारी योजना है, जो सभी को स्वास्थ्य कवर प्रदान करने की दिशा में बड़ा कदम है. उन्होंने कहा कि प्रदेश के 1 करोड़ 33 लाख परिवार इस योजना से अब तक जुड़ चुके हैं. एनएफएसए तथा सामाजिक-आर्थिक जनगणना, कोविड अनुग्रह राशि प्राप्त करने वाले परिवारों, संविदाकर्मी, लघु एवं सीमांत कृषकों का इस योजना में बिना किसी प्रीमियम के निशुल्क पंजीकरण किया गया है, जबकि अन्य पात्र परिवारों को भी मात्र 850 रुपये में ही 5 लाख रुपये की कैशलेस बीमा की सुविधा प्रदान की है.

योजना के तहत 190 करोड़ रुपये से अधिक का निशुल्क उपचार प्रदान किया गया:
एक सरकारी बयान में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि अब तक 1 लाख 46 हजार से अधिक मरीजों को योजना के तहत 190 करोड़ रुपये से अधिक का निशुल्क उपचार प्रदान किया गया है. योजना में क्लेम की संख्या लगातार बढ़ रही है. राज्य में कुल 479 निजी अस्पताल योजना में जुड़ चुके हैं, इनमें बडे़ अस्पताल भी शामिल हैं.

और पढ़ें