UP: आर्थिक संकट के चलते कालग्रास बन रही हैं मासूम जिंदगियां, 4 लोगों ने फांसी लगाकर समाप्त की जीवन-लीला

UP: आर्थिक संकट के चलते कालग्रास बन रही हैं मासूम जिंदगियां, 4 लोगों ने फांसी लगाकर समाप्त की जीवन-लीला

UP:  आर्थिक संकट के चलते कालग्रास बन रही हैं मासूम जिंदगियां, 4 लोगों ने फांसी लगाकर समाप्त की जीवन-लीला

बांदाः उत्तरप्रदेश के बांदा जिले से सनसनीखेज खबर आई है, जहां आर्थिक संकट के चलते अलग-अलग जगहों पर चार लोगों ने फंदे से लटककर खुदकुशी कर ली है. जसपुरा थाना के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अर्जुन सिंह ने बताया है कि क्षेत्र के बरेहटा गांव में रविवार की रात किसान मूलचन्द्र (50) फसल की रखवाली करने खेत गया था. सोमवार सुबह खेत में लगे पेड़ से उसका शव फंदे पर लटका पाया गया था. जिसके बाद शव का पोस्टमॉर्टम करा कर शव परिजनों को सौंप दिया गया है.

पुलिस अधिकारी ने अर्जुन के बेटे बुद्धराज के हवाले से बताया है कि अगले साल जून माह में बहन की शादी होने वाली थी. पैसे का इंतजाम नहीं होने पर उसके पिता परेशान थे. संभवतः इसी वजह से उन्होंने आत्महत्या की है. दूसरी घटना बबेरू कोतवाली क्षेत्र से है, जहां बबेरू कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) भास्कर मिश्रा ने बताया है कि कस्बे के कृष्णा नगर का रहने वाला सोनू उर्फ महेंद्र प्रताप (34) पंजाब में मजदूरी करता था.

वह हाल ही में पत्नी और बच्चों के साथ एक रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के लिए घर आया था. उसने सोमवार को अपने घर में फंदे से लटककर जान दे दी है. मिश्रा ने सोनू के पिता शिवदत्त के बयानाधार पर बताया है कि सोनू अपने बच्चों के साथ दोबारा पंजाब लौटना चाह रहा था, लेकिन किराए के लिए पैसा नहीं होने पर उसका अपनी पत्नी से विवाद हुआ, जिसके बाद उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. हादसे के बाद से ही परिजनों को रो-रोकर बुरा हाल हो गया है.

तीसरी घटना नरैनी कोतवाली क्षेत्र की है. नरैनी कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक इंद्रदेव ने बताया है कि पनगरा गांव के एक युवक रोहित प्रजापति (25) ने सोमवार को फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली है. जिसके बाद उसका शव पोस्टमॉर्टम के लिए सरकारी अस्पताल भेजा गया है. उन्होंने बताया कि वह दिल्ली जाना चाहता था और इसके लिए पिछले दो दिनों से वह परिजन से पैसों की मांग कर रहा था, मगर पैसा नहीं मिलने और परिजन से विवाद के कारण उसने आत्महत्या कर ली है.

चौथी घटना कमासिन थाना के नन्दन डेरा गांव की है, जहां कमासिन थाना प्रभारी रामाश्रय सिंह ने बताया है कि राकेश यादव की 22 वर्षीय पत्नी ज्योति ने सोमवार को फांसी लगाकर कथित रूप से आत्महत्या कर ली है. परिजनों के अनुसार खर्च के लिए पैसा नहीं मिलने पर पति-पत्नी के बीच रविवार की रात विवाद हुआ था. जिसके बाद सोमवार को दिन में जब सभी परिजन खेत में काम करने चले गए, तब उसने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है. 

सिंह ने कहा है कि प्रथम दृष्टया ये गृह कलह की वजह से आत्महत्या का मामला प्रतीत होता है. फिलहाल पुलिस को पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने का इंतजार है. आपको बता दे कि महिला की शादी इसी साल 26 फरवरी को हुई थी. इन सभी मामलों में एक चीज क़ॉमन है औऱ वो है आर्थिक संकट, देश में कोरोना के चलते आत्महत्या के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है. मगर प्रशासन ने इस विषय पर कोई खासी रुचि नहीं दिखाई है, ऐसे में भविष्य की स्थितीयां और भी संजीदा होती जा रही है. (सोर्स-भाषा)

और पढ़ें