Live News »

Hanta Virus: चीन में हंता वायरस ने दी दस्तक, एक शख्स की मौत, 32 लोग संदिग्ध! 

Hanta Virus: चीन में हंता वायरस ने दी दस्तक, एक शख्स की मौत, 32 लोग संदिग्ध! 

नई दिल्ली: पहले ही चीन समेत दुनिया के कई देश कोरोना वायरस की मार झेल रहे है. इसकी वैक्सीन के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे है. दुनिया के कई देशों में इस वायरस को लेकर लॉकडाउन है. इस बीच चीन में एक ओर वायरस के उत्पन्न होने से हड़कंप मच गया है. अगर मीडिया रिपोर्टस की माने तो अब चीन में हंता वायरस ने दस्तक दी है. इस वायरस से यूनान प्रांत में एक व्‍यक्ति की सोमवार को मौत हो गई. पीड़‍ित व्‍यक्ति काम करने के लिए बस से शाडोंग प्रांत लौट रहा था. उसे हंता वायरस से पॉजिटिव पाया गया था. बस में सवार 32 अन्‍य लोगों की भी जांच की गई है. चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्‍लोबल टाइम्‍स के इस घटना की जानकारी देने के बाद सोशल मीडिया पर बवाल मच गया है. 

Corona Virus Updates: अब खैर नहीं कालाबाजारी करने वालों की...3 मेडिकल स्टोर सील, एफआईआर दर्ज

हंता वायरस घातक नहीं:
विशेषज्ञों के मुताबिक हंता वायरस घातक नहीं है, जैसे कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा दिया. ये वायरस हवा के रास्‍ते नहीं फैलता है.  यह वायरस चूहे या फिर गिलहरी के संपर्क में आने से इंसानों में फैलता है. सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार चूहों के घर के अंदर और बाहर करने से हंता वायरस का  संक्रमण का खतरा रहता है. यहां तक कि अगर कोई स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति भी है और वह हंता वायरस के संपर्क में आता है तो उसके संक्रमित होने का खतरा रहता है.

ऐसे फैलता है ये वायरस:
मीडिया रिपोर्टस की माने तो हंता वायरस एक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति में नहीं फैलता है. अगर कोई इंसान चूहों के मल, पेशाब आदि को छूने के बाद अपनी आंख, नाक और मुंह को छूता है तो उसके हंता वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा रहता है.

ये हैं इसके लक्षण
चलिए आपको बताते है हंता वायरस के लक्षण के बारे में. तो जो इंसान हंता से संक्रमित हेागा. उस व्यक्ति को सिर दर्द, बुखार, पेट में दर्द, शरीर में दर्द, उल्‍टी, डायरिया जैसे लक्षण दिखाई देते है. अगर इलाज में थोडी से भी लापरवाही बरती तो संक्रमित व्यक्ति  के फेफड़ों में पानी भी भर जाता है, उसे सांस लेने में परेशानी होती है. 

हजारों लोगों की मौत:
गौरतलब है कि पहले ही चीन के वुहान शहर से निकले कोरोना वायरस से पूरी दुनिया त्रस्त है, ​वहीं दूसरी ओर चीन में हंता वायरस ने दस्तक दे दी. वुहान से शुरू हुए कोरोना वायरस ने अब पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. प्राप्त जानकारी के अनुसार दुनिया भर में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या 14,611 तक पहुंच गई है. अब इस वायरस का सबसे ज्यादा संक्रमण इटली और स्पेन में देखने को मिल रहा है. पूरे यूरोप में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है. वहीं भारत देश के कई राज्यों में लॉकडाउन है.

CORONA: कर्तव्य को सबसे ऊपर रखने वाले ये है हमारे नर्सेज हीरो, जो दिन-रात ड्यूटी करके निभा रहे है अपना फर्ज

और पढ़ें

Most Related Stories

COVID-19 वायरस शरीर में फैलने के लिए कोशिशाओं की कोलेस्ट्रॉल प्रणाली पर कब्जा कर सकता है : अध्ययन

COVID-19 वायरस शरीर में फैलने के लिए कोशिशाओं की कोलेस्ट्रॉल प्रणाली पर कब्जा कर सकता है : अध्ययन

बीजिंग:कोविड-19 रोग फैलाने वाला सार्स सीओवी-2 वायरस, शरीर में फैलने के लिये हमारी कोशिकाओं की आंतरिक कोलेस्ट्रॉल प्रक्रिया प्रणाली पर कब्जा कर सकता है. एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ जिसमें इस बीमारी के संभावित इलाज की दिशा को लेकर नए संकेत मिले हैं. नेचर मेटाबॉलिज्म नामक जर्नल में प्रकाशित कोशिका संस्कृति अध्ययन में कोलेस्ट्रॉल उपापचय और कोविड-19 के बीच संभावित आणविक संपर्क की पहचान की गई है.

चीन में अकादमी ऑफ मिलिट्री मेडिकल साइंसेज (एएमएमएस) के अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि सार्स सीओवी-2 वायरस मानव कोशिका के एक अनुग्राहक (रिसेप्टर) से चिपक जाता है. यह कोशिका आम तौर पर एचडीएल कोलेस्ट्रॉल को बांधती है जिसे अच्छे कोलेस्ट्रॉल के तौर पर भी जाना जाता है.वैज्ञानिकों ने जब कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल अनुग्राहकों को बंद कर दिया तो वायरस फिर उन पर नहीं चिपक पाया. उन्होंने कहा कि यह इलाज के नए लक्ष्य को लेकर एक संकेत है, यद्यपि यह शुरुआती चरण का शोध है.

{related}

अध्ययन में सुझाव दिया गया कि सार्स-सीओवी-2 संक्रमण बढ़ाने के लिये कोशिकाओं के आंतरिक कोलेस्ट्रॉल तंत्र का इस्तेमाल कर सकता है. सार्स-सीओवी-2 संक्रमण के दौरान वायरस पर कंटीले प्रोटीन मेजबान कोशिका अनुग्राहक, जिसे एंजियोटेनसिन-कन्वर्टिंग एंजाइन2 (एसीई2) कहते हैं, को बांधते हैं. शोधकर्ताओं ने एक अन्य अनुग्राहक की भूमिका पर प्रकाश डाला है जिसे एचडीएल स्कावेंजर अनुग्राहक बी टाइप 1 (एसआर-बी1) कहते हैं, जो इंसानों के फेफड़ों की कोशिकाओं समेत कई उत्तकों में प्रकट होता है. यह अनुग्राहक आम तौर पर उच्च-घनत्व लीपोप्रोटीन (एचडीएल) को बांधता है.  (भाषा) 

भारत की मदद से नेपाल ने खोले 3 नए स्कूल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने किया उद्घाटन

भारत की मदद से नेपाल ने खोले 3 नए स्कूल, विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने किया उद्घाटन

काठमांडूः हाल ही में नेपाल ने भारत की मदद से तीन नए स्कूल खोले है, जिनका उद्घाटन आज किया गया है. खबर है कि देश के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने नेपाल के गोरखा जिले में भारत की सहायता से निर्मित तीन स्कूलों का आज उद्घाटन किया है. ये जिला 2015 में आए भूकंप का केंद्र था. नेपाल में अप्रैल 2015 में आए 7.8 तीव्रता के भूकंप ने काफी तबाही मचाई थी जिसमें करीब 9000 लोगों की मौत हो गई थी जबकि करीब 22,000 अन्य घायल हो गए थे. जिसके बाद भारत ने दोस्ती निभाते हुए नेपाल की मदद की है और पुनरुद्धार कराया है. 

भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया है कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने आज गोरखा में भारत की पुनर्निर्माण सहायता- लोगों में निवेश- शिक्षा में निवेश के तहत निर्मित तीन स्कूलों का उद्घाटन किया गया है. विदेश मंत्रालय ने स्कूल के उद्घाटन कार्यक्रम का एक वीडियो भी ट्वीट किया है. विदेश सचिव ने मनंग जिले में भारत की सहायता से पुनरुद्धार किए गए एक बौद्ध मठ का भी उद्घाटन किया है. मंत्रालय ने ट्वीट किया कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने मनंग जिले में भारत की मदद से पुनरुद्धार के बाद तैयार ताशोप (तारे) गोम्पा मठ का भी उद्घाटन किया है.

मंत्रालय ने श्रृंगला को उद्धृत करते हुए कहा कि बौद्ध धर्म भारत और नेपाल के बीच एक महत्वपूर्ण संपर्क-सूत्र है.इससे पहले  विदेश नीति थिंक-टैंक एशियन इंस्टीयूट ऑफ डिप्लोमैसी एंड इंटरनेशनल अफेयर्स द्वारा आयोजित एक परिचर्चा में श्रृंगला ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच का रिश्ता जटिल है और उनकी सभ्यतागत धरोहर, संस्कृति एवं रीति-रिवाज आपस में मिलते हैं. उन्होंने 2015 में नेपाल में आये विनाशकारी भूकंप के बाद भारत द्वारा त्वरित रूप से उठाये गये कदमों का दृष्टांत देते हुए कहा कि भारत अपने आप को नेपाल का स्वाभाविक और स्वत: प्रवृत सहयोगकर्ता के रूप में देखता है. (सोर्स-भाषा)

{related}

समुद्री सुरक्षा को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता में शिरकत करने श्रीलंका पहुंचे National Security Advisor अजित डोभाल

समुद्री सुरक्षा को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता में शिरकत करने श्रीलंका पहुंचे National Security Advisor अजित डोभाल

कोलंबो: देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल भारत, श्रीलंका और मालदीव के बीच समुद्री सुरक्षा को लेकर त्रिपक्षीय वार्ता के लिए आज कोलंबो पहुंचे है. आपको बता दे कि श्रीलंका, भारत और मालदीव के साथ शुक्रवार और शनिवार को समुद्री सुरक्षा सहयोग पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों की चौथी त्रिपक्षीय बैठक का आयोजन कर रहा है. इस बैठक का आयोजन लगभग छह साल बाद किया जा रहा है. इससे पहले ये बैठक 2014 में नई दिल्ली में हुई थी.

कोलंबो में भारतीय दूतावास ने ट्वीट किया है कि भारत-श्रीलंका-मालदीव के बीच समुद्री और सुरक्षा सहयोग पर वार्ता के लिए एनएसए अजित डोभाल कोलंबो पहुंच गए हैं. सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल सिल्वा शवेंद्र ने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया है. श्रीलंका की सेना ने बताया कि डोभाल और मालदीव की रक्षा मंत्री मारिया दीदी वार्ता में अपने अपने देशों का नेतृत्व करेंगे. बांग्लादेश, मॉरीशस और सेशेल्स के पर्यवेक्षक भी रहेंगे. 

हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा पर समन्वित कार्रवाई, राहत और बचाव अभियान का प्रशिक्षण, समुद्र में बढ़ते प्रदूषण को लेकर कदम उठाने, सूचनाएं साझा करने, अवैध हथियारों, मादक पदार्थों की तस्करी पर लगाम लगाने जैसे विषयों पर चर्चा होगी. नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को कहा था कि एनएसए स्तर की त्रिपक्षीय बैठक हिंद महासागर के देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए एक प्रभावी मंच हैं.

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा था कि हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री सुरक्षा को लेकर सहयोग से जुड़े मुद्दों पर चर्चा होगी. इस साल डोभाल का श्रीलंका का यह दूसरा दौरा है. इससे पहले वह जनवरी में श्रीलंका आए थे और दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की थी. कयास लगाए जा रहे है कि इससे दोनों देशों के संबध और भी अच्छे होगें.  (सोर्स-भाषा)

{related}

गैरकानूनी तरीके से देश की सीमा दाखिल होते 14 बांग्लादेशी घुसपैठिए गिरफ्तार

गैरकानूनी तरीके से देश की सीमा दाखिल होते 14 बांग्लादेशी घुसपैठिए गिरफ्तार

गुवाहाटी: हाल ही में देश में गैरकानूनी ढ़ंग से दाखिल होने वाले 14 विदेशियों को गिरफ्तार किया गया है. खबर है कि अगरतला-नई दिल्ली स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस में चौदह घुसपैठियों को गिरफ्तार किया गया है. ये विदेशी संभवत: रोहिंग्या समुदाय के हैं जो बांग्लादेश से आए हैं. इस घटना की जानकारी नॉर्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे के एक प्रवक्ता ने दी है. फिलहाल सभी न्यायिक हिरासत में है. 

उन्होंने बताया कि रेलवे की सुरक्षा हैल्पलाइन 182 प्रभावी साबित हुई और उसी के चलते इन लोगों की गिरफ्तारी हो सकी है. प्रवक्ता ने बताया कि 24 नवंबर को रेलवे सुरक्षा बल के अलिपुरदुआर सुरक्षा नियंत्रण कक्ष में हैल्पलाइन पर एक यात्री ने फोन कर कुछ अन्य यात्रियों द्वारा दुर्व्यवहार की शिकायत की थी, जिसके बाद आरपीएफ अधिकारियों ने घटना की जानकारी रेलगाड़ी के अगले स्टॉप न्यू जलपाईगुड़ी के अधिकारियों को दी थी. 

ट्रेन के स्टेशन पहुंचने पर यात्रियों से पूछताछ की गई तो पता चला कि वे सभी फर्जी नामों पर यात्रा कर रहे थे. प्रवक्ता ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि ये सभी लोग बांग्लादेश के कॉक्स बाजार स्थित शरणार्थी शिविर से भागकर आए और भारत में प्रवेश कर गए थे. उन्होंने बताया कि गिरफ्तार व्यक्तियों को मजिस्ट्रेट ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. (सोर्स-भाषा)

{related}

नहीं रहा Golden Boy डिएगो माराडोना, 60 की उम्र में ली आखिरी सांस

नहीं रहा Golden Boy डिएगो माराडोना, 60 की उम्र में ली आखिरी सांस

अर्जेंटिनाः फुटबॉल प्रशंसको के लिए एक बेहद ही दुखद सूचना है. हाल ही में अर्जेंटिना के फेमस फुटबॉल प्लेयर डिएगो माराडोना ने दुनिया को अलविदा कह दिया है. आपको बता दे की हाल ही में उनकी ब्रेन सर्जरी की गई थी. असल में उनके दिमाग में खून के थक्के जम गए थे. जिसके चलते उन्होनें अपनी आखिरी सांस ली है. 

हाल ही में माराडोना ने अपना साठवां जन्मदिन मनाया था. माराडोना को पहचान उनके 1986 के फुटबॉल वर्ल्ड कप से मिली थी जिसमें उन्होनें कप्तान की भूमिका निभाई थी. जिसके बाद उन्हें गोल्डन बॉल ट्राफी से नवाजा गया था. इस मैच ने माराडोना ने जर्मनी की टीम को धूल चटाई थी.  

आपको बता दे कि उनकी याद में अर्जेंटिना की फुटबॉल एसोसिएशन ने उनकी जर्सी नं. 10 को रिटायर करने का आग्रह किया था, मगर फीफा ने इस बात पर ऐतराज जताया था. इतना ही नहीं साल 2003 में अर्जेंटिनोस जूनियर ने उनके नाम पर अपने स्टेडियम का नाम माराडोना रखा था. 

{related}

 

COVID-19: सिंगापुर के मंत्री चान चुन सिंग ने कहा, दुनिया से खुद को काटे रखना कोई विकल्प नहीं

COVID-19: सिंगापुर के मंत्री चान चुन सिंग ने कहा, दुनिया से खुद को काटे रखना कोई विकल्प नहीं

सिंगापुर: सिंगापुर के व्यापार और उद्योग मंत्री चान चुन सिंग ने बुधवार को कहा कि देश को दुनिया से अलग-थलग रखना कोई विकल्प नहीं है और इसलिये जोखिम का प्रबंधन कैसे करना है यह सीखना ज्यादा उत्पादक रुख हो सकता है.ट्रैवल रीवाइव व्यापार शो के दौरान अपने संबोधन में चान ने कहा कि देश को फिर से खोलने के सभी जोखिमों को खत्म करने की उम्मीद व्यावहारिक नहीं है. मंत्री ने कहा कि दुनिया से खुद को अलग-थलग कर लेना विकल्प नहीं है. सिंगापुर हमारे पर्यटन क्षेत्र को बड़ी स्थानीय आबादी या घरेलू यात्रा से बरकरार रखने में सक्षम नहीं है.

अगला संकट कौन सा आ सकता है या अगला कौन सा विषाणु है:
चैनल न्यूज एशिया ने मंत्री को उद्धृत करते हुए कहा कि ऐसे में जोखिम का प्रबंधन कैसे करना है यह सीखना ज्यादा व्यवहारिक तरीका है और यह हमें अच्छी स्थिति में रखेगा क्योंकि हम नहीं जानते कि हमारे सामने अगला संकट कौन सा आ सकता है या अगला कौन सा विषाणु है जो हवाई यात्रा को बाधित कर सकता है.

{related}

हम वैक्सीन के पहुंचने का नहीं कर रहे हैं इंतजार:
चान ने कहा कि सिंगापुर जैसे देश जिनका बड़ा घरेलू बाजार नहीं है उन देशों को कोविड-19 ने खासतौर पर बुरी तरह प्रभावित किया. लेकिन इस आपदा ने सिंगापुर जैसे देशों को खुद को उभारने के काम को गति देने का भी काम किया. उन्होंने कहा कि हम वैक्सीन के पहुंचने का इंतजार नहीं कर रहे हैं. न ही हम कोविड-19 महामारी के खत्म होने का इंतजार कर रहे हैं. इसके बजाए, हम अब नींव स्थापित कर रहे हैं और पुनर्निर्माण और उद्योग को सुदृढ़ करने के लिये कदम उठा रहे हैं.(भाषा)
 

पाकिस्तान सरकार की अनूठी पहल, ट्रांसजेंडर्स के लिए खोला पहला गिरजाघर 'Church of Yunak'

पाकिस्तान सरकार की अनूठी पहल, ट्रांसजेंडर्स के लिए खोला पहला गिरजाघर  'Church of Yunak'

कराचीः पाकिस्तान ने हाल ही में वहां के ट्रांसजेंडर्स के लिए पहला गिरजाघर बनवाने की घोषणा की है. आपको बता दे कि पाक में ईसाई ट्रांसजेंडर लोगों को अक्सर सामाजिक बहिष्कार, उपहास और अपमान का सामना करना पड़ता है लेकिन समुदाय के लोगों का मानना है कि उनके लिये बनाए गए गिरिजाघर में अब उन्हें शांति और सांत्वना मिलेगी. आपको बता दे कि पाक मेंं थर्डजेंडर को काफी नफरत भरी नजरों से देखा जाता रहा है. 

उनका कहना है कि दूसरे गिरजाघरों में सुनवाई नहीं होने पर वे अपनी समस्याएं यहां साझा कर सकते हैं. पाकिस्तान में फर्स्ट चर्च ऑफ यूनक नाम का यह गिरजाघर केवल ट्रांसजेडर ईसाइयों के लिए है. किन्नर शब्द दक्षिणी एशिया में अक्सर महिला ट्रांसजेंडरों के लिए उपयोग किया जाता है और कुछ लोग इसे अपमानजनक मानते हैं. गिरजाघर की पादरी और सह संस्थापक गजाला शफीक ने कहा कि उन्होंने अपनी बात रखने के लिये यह नाम चुना है.

बाइबल के अंशों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि किन्नरों पर ईश्वर की कृपा होती है. सभी धर्मों की ट्रांसजेंडर महिलाओं और पुरुषों को रुढ़िवादी पाकिस्तान में अक्सर सार्वजनिक रूप अपमान, यहां तक की हिंसा का सामना करना पड़ता है. सरकार ने हालांकि उन्हें आधिकारिक तौर पर थर्ड जेंडर के रूप में मान्यता दे दी है लेकिन अक्सर उनके परिवावाले उन्हें त्याग देते हैं जिसके बाद उन्हें भीख मांगकर, शादियों में नाच कर अपना गुजारा करना पड़ता है.  उनको अक्सर यौन शोषण का सामना करना पड़ा है और अंतत: वे यौनकर्मी बन जाते हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

नये साल पर Twitter का तोहफा 2021 से Blue Tick सिस्टम वापिस लाने की तैयारी

नये साल पर Twitter का तोहफा 2021 से  Blue Tick सिस्टम  वापिस लाने की तैयारी

नई दिल्लीः हाल ही में ट्वीटर ने एक बड़ी घोषणा की है. असल में सोशल मीडिया प्लेटफार्म ट्विटर अपने खातों के सत्यापन की प्रक्रिया अगले साल की शुरुआत में फिर शुरू करेगा, जिसके तहत सक्रिय और प्रामाणिक उपयोगकर्ताओं के खातों को ब्लू टिक दिया जाता है. ट्वीटर ने अपने सार्वजनिक सत्यापन कार्यक्रम को तीन साल पहले रोक दिया था, क्योंकि उसे प्रतिक्रिया मिली थी कि कई लोगों को यह मनमाना और भ्रमित करने वाला लगा था. हालांकि, ट्विटर ने विशेष मामलों में खातों को ब्लू टिक देने जारी रखे थे. 

ट्विटर ने एक ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि एक साल बाद हमने 2020 के अमेरिकी चुनाव के मौके पर सार्वजनिक बातचीत में ईमानदारी बनाए रखने के लिए इस काम को आगे बढ़ाया है. माइक्रोब्लॉगिंग मंच अब प्रक्रिया को फिर से शुरू कर रहा है और जनता से 24 नवंबर से आठ दिसंबर 2020 तक अपनी नई सत्यापन नीति के मसौदे पर प्रतिक्रिया देने के लिए कहा है. ब्लॉग में कहा गया है कि इस नीति के आधार पर भविष्य में सुधार किए जाएंगे कि सत्यापन का मतलब क्या है, सत्यापन के लिए कौन योग्य है और अधिक न्यायसंगत प्रक्रिया सुनिश्चित करने के लिए क्यों कुछ खाते सत्यापन खो सकते हैं.

ट्विटर ने कहा कि हम 2021 की शुरुआत में एक नई सार्वजनिक आवेदन प्रक्रिया के साथ सत्यापन को फिर से शुरू करने की योजना बना रहे हैं. प्रस्तावित नीति के अनुसार ट्विटर पर ब्लू वेरिफाइड बैज लोगों को बताता है कि यह सार्वजनिक हित का एक प्रामाणिक खाता है. ट्विटर ने कहा कि ब्लू टिक पाने के लिए खाता उल्लेखनीय और सक्रिय होना जरूरी है. इसके तहत ट्विटर ने छह तरह के खातों की पहचान की है, जिसमें 1) सरकार, 2) कंपनियां, ब्रांड और गैर-लाभकारी संगठन, 3) समाचार, 4) मनोरंजन, 5) खेल, 6) सामाजिक कार्यकर्ता, आयोजक और अन्य प्रभावशाली व्यक्ति शामिल हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}