Live News »

जया प्रदा पर दिए आपत्तिजनक बयान से घिरे आजम खान, कहा- साबित कर दे तो नहीं लडूंगा चुनाव

जया प्रदा पर दिए आपत्तिजनक बयान से घिरे आजम खान, कहा- साबित कर दे तो नहीं लडूंगा  चुनाव

रामपुर। उत्तरप्रदेश के रामपुर से सपा के लोकसभा उम्मीदवार आजम खान ने बीजेपी प्रत्याशी जया प्रदा पर की विवादित टिप्पणी के बाद विवादों के घेरे में और महिला आयोग के निशाने पर आ गए हैं। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए आजम खान ने कहा कि मेरे बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश किया गया है। चुनाव आयोग जांच करा लें, अगर कुछ भी आपत्तिजनक आता है तो मैं चुनाव से हाथ पीछे कर लूंगा। बतादें, आजम ने कहा कि उन्होंने किसी का नाम नहीं लिया और अगर वह दोषी साबित होते हैं तो चुनाव से हाथ पीछे कर लेंगे। 

दरअसल, रविवार को रामपुर की शाहबाद तहसील में आयोजित एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए आजम खान बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने जया का नाम लिए बगैर वहां मौजूद लोगों से पूछा, 'क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए।

क्या आप उसे वोट देंगे?' आजम ने आगे कहा कि आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवेअर खाकी रंग का है। 

रविवार को आजम ने कहा कि मैंने अपने बयान में किसी का नाम नहीं लिया है। मुझे पता है कि मुझे क्या कहना चाहिए। अगर कोई साबित कर सकता है कि मैंने किसी का नाम कहीं भी लिया है और किसी का अपमान किया है, तो मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा।

बहरहाल, इस बयान को गंभीरता से लेते हुए राष्ट्रीय महिला आयोग ने आजम खां को नोटिसा भेजने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि यह नोटिस आज यानी सोमवार को भेजा सकता है। नोटिस से पहले ही आजम ने अपने बयान पर सफाई दे दी है।

और पढ़ें

Most Related Stories

योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब संस्कृत में भी जारी होगी सरकार की विज्ञप्ति

योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला, अब संस्कृत में भी जारी होगी सरकार की विज्ञप्ति

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने बड़ा फैसला किया है. योगी सरकार ने हिंदी के साथ ही सभी सरकारी सूचनाएं संस्कृत भाषा में जारी करने का फैसला किया है. इसी क्रम में रविवार को कोविड-19 की समीक्षा बैठक का प्रेस नोट हिंदी के साथ ही संस्कृत भाषा में जारी किया गया. 

चार भाषाओं में प्रकाशित होगा कामकाज: 
ऐसे में अब योगी सरकार का सूचना विभाग अब चार भाषाओं में अपने कामकाज को प्रकाशित करेगा. उत्तर प्रदेश में सरकार सूचना विभाग के कामकाज को हिंदी, उर्दू और अंग्रेजी भाषा के अलावा संस्कृत में भी प्रकाशित करेगी.

{related} 

संस्कृत की एक टीम ने काम करना शुरू भी कर दिया:
इसकी शुरुआत करते हुए संस्कृत की एक टीम ने काम करना शुरू भी कर दिया है. सरकार के मुताबिक यह फैसला संस्कृत को बढ़ावा देने के लिए लिया गया है. साथ ही संस्कृत प्रेमियों की मांग को देखते हुए ये कदम उठाया गया है.

संस्कृत भाषा के उत्थान लिए कई बार सार्वजनिक रूप से बोल चुके: 
इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ संस्कृत भाषा के लिए उत्थान और विकास के लिए कई बार सार्वजनिक रूप से बोल चुके हैं. अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस बारे में फैसला लिया है. सीएम योगी आदित्यनाथ का संस्कृत प्रेम किसी से छिपा नहीं है. 


 

अब उत्तर प्रदेश में संस्कृत में भी जारी ​होने लगा सरकारी प्रेस नोट, मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर दी जानकारी

अब उत्तर प्रदेश में संस्कृत में भी जारी ​होने लगा सरकारी प्रेस नोट, मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर दी जानकारी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार (Government of Uttar Pradesh) ने अपने तमाम निर्णय व कार्यक्रम की जानकारी संस्कृत भाषा में जारी करना शुरू कर दिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने इस संबंध में कहा है कि शासकीय प्रेस विज्ञप्तियां अब संस्कृत भाषा में जारी की जाएंगी.  मुख्यमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर यह जानकारी दी.

प्रेस नोट संस्कृत भाषा में जारी:
इस फैसले के बाद सूचना विभाग ने कोविड 19 के मुद्दे पर मुख्यमंत्री योगी (Yogi Adityanath) की ओर से की गई बैठक का प्रेस नोट शनिवार को संस्कृत भाषा में जारी किया गया. इसके लिए विभाग ने संस्कृत के दो जानकार अधिकारियों को भी रखा है. सरकार की ओर से हिंदी और अंग्रेजी में पहले से ही नियमित प्रेस नोट जारी होते हैं. हालांकि प्रयोग के तौर पर पहले भी संस्कृत के प्रेस नोट जारी हुए थे, लेकिन अब यह काम नियमित तौर पर किया जाएगा.

महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ योगी सरकार सख्त, अब UP में चौराहों पर लगेंगे अपराधियों के पोस्टर

महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ योगी सरकार सख्त, अब UP में चौराहों पर लगेंगे अपराधियों के पोस्टर

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार महिलाओं पर अत्याचार के खिलाफ सख्त हो गई है. यूपी में अब महिलाओं के साथ अपराध करने वालों की खैर नहीं है. जी हां योगी सरकार महिलाओं पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने जा रही है. योगी सरकार दुराचारियों और अपराधियों के खिलाफ ऑपरेशन दुराचारी चलाएगी. 

महिला पुलिसकर्मियों को सख्त एक्शन का ऑर्डर:
ऐसे अपराधियों के पोस्टर लगाने के निर्देश दिए गए है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कहीं भी महिलाओं के साथ कोई आपराधिक घटना हुई तो संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ जिम्मेदार होंगे. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि महिलाओं से किसी भी तरह का अपराध करने वाले अपराधियों को महिला पुलिस कर्मियों से ही दंडित कराओ. 

{related}

अपराधियों के मददगारों के नाम भी होंगे उजागर:
ऐसे अपराधियों और दुराचारियों के मददगारों के भी नाम उजागर करने का आदेश दिया. मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि महिलाओं और बच्चियों के साथ किसी भी तरह की घटना को अंजाम देने वालों को समाज जाने,  इसलिए चौराहों पर लगाओ ऐसे अपराधियों के पोस्टर लगवाएं. 

संसद में विपक्षी नेताओं के व्यवहार पर मायावती ने जताई नाराजगी, कहा - यह लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला

संसद में विपक्षी नेताओं के व्यवहार पर मायावती ने जताई नाराजगी, कहा - यह लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने पिछले दिनों किसान बिल पारित होने के दौरान संसद खासकर राज्यसभा में विपक्षी नेताओं के व्यवहार पर कड़ी नाराजगी जताई है. मायावती ने ट्वीट करते हुए लिखा कि वैसे तो संसद लोकतंत्र का मंदिर ही कहलाता है फिर भी इसकी मर्यादा अनेकों बार तार-तार हुई है. वर्तमान संसद सत्र के दौरान भी सदन में सरकार की कार्यशैली व विपक्ष का जो व्यवहार देखने को मिला है वह संसद की मर्यादा, संविधान की गरिमा व लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला है. अति-दुःखद.

विपक्षी सांसदों ने काफी हंगामा खड़ा किया था: 
गौरतलब है कि रविवार को राज्यसभा में किसान बिल पारित कराने के दौरान विपक्षी सांसदों ने काफी हंगामा खड़ा किया था. टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने तो उप सभापति के आसान के पास जाकर रूल बुक तक फाड़ दी थी. 

{related}

मंगलवार को सरकार ने सात विधेयक उच्च सदन से पास करा लिए:
रविवार की घटना के बाद हालांकि मंगलवार को सरकार ने सात विधेयक उच्च सदन से पास करा लिए. इस पर विपक्ष ने अपनी मांगे नहीं मानने पर संयुक्त रूप से सत्र का बहिष्कार किया. राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि जब तक हमारे सांसदों के बहिष्कार को वापस नहीं लिया जाता और किसान के विधेयकों से संबंधित हमारी मांगों को नहीं माना जाता, विपक्ष सत्र का बहिष्कार करेगा. 
 

UP News: खराब मौसम की वजह से आजमगढ़ में चार्टर्ड एयरक्राफ्ट क्रैश, पायलट की मौत

UP News: खराब मौसम की वजह से आजमगढ़ में चार्टर्ड एयरक्राफ्ट क्रैश, पायलट की मौत

आजमगढ़: यूपी के आजमगढ़ जिले में सरायमीर थाना क्षेत्र के सेंटरवा खैरूद्दीन पुर के पास खराब मौसम होने के कारण एक चार्टर्ड एयरक्राफ्ट क्रैश हो गया. हादसे में एयरक्राफ्ट के एक पायलट की मौत हो गई, जबकि दूसरा अभी लापता है. एयरक्राफ्ट के क्रैश होने से छोटे-छोटे टुकड़े हो गए, और मलबा कई खेतों में फैल गया. पायलट का शव एयरक्राफ्ट के मलबे से करीब 300 मीटर की दूरी पर मिला.   

एयरक्राफ्ट के क्रैश होने की आवाज सुन ग्रामीण घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े:
एयरक्राफ्ट के क्रैश होने की आवाज सुन ग्रामीण घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े. देखते ही देखते सैकड़ों की संख्या भीड़ मौके पर जमा हो गई. पुलिस भी सूचना के बाद मौके पर पहुंच गई. विमान रायबरेली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय उड़ान अकादमी से सुबह नौ बजे उड़ा था. 11 बजे तक वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की रडार पर था, इसके बाद संपर्क टूट गया था.  

{related}

ग्रामीण बोले- दो लोग पैराशूट से नीचे कूदे: 
लोगों ने बताया कि हेलिकॉप्टर लड़खड़ाते हुए नीचे गिरा. इस दौरान दो लोग पैराशूट से नीचे भी कूदे. बता दें कि खेत में गिरा हेलिकॉप्टर पूरी तरह से नष्ट हो गया है. रायमीर थाना क्षेत्र के सेंटरवा खैरूद्दीन पुर के पास हेलिकॉप्टर के दुर्घटना होने की सूचना आसपास के लोगों ने पुलिस को दी. सूचना पर आलाधिकारियों समेत पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई. 


 

सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिए निर्देश,कहा-अस्पतालों में नहीं होनी चाहिए ऑक्सीजन की कमी

सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिए निर्देश,कहा-अस्पतालों में नहीं होनी चाहिए ऑक्सीजन की कमी

नई दिल्ली: यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोविड-19 के संक्रमण के नियंत्रण एवं उपचार की व्यवस्था को और अधिक प्रभावी बनाए रखने के निर्देश दिए है. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सरकारी एवं निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता रहनी चाहिए. साथ ही ऑक्सीजन बैकअप की व्यवस्था भी रहनी चाहिए. योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को यहां अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की. 

यूपी में मृत्यु की दर कम और रिकवरी दर अच्छी:
उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 के संक्रमण के नियंत्रण एवं उपचार की व्यवस्था को और अधिक प्रभावी बनाया जाए. चिकित्सालयों में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता के साथ-साथ बैकअप की व्यवस्था भी रहनी चाहिए. यह भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि ऑक्सीजन निर्धारित मूल्य पर ही उपलब्ध हो. उन्होंने कहा कि प्रदेश में मृत्यु की दर कम और रिकवरी दर अच्छी है.  

{related}

ओपीडी सुविधा काफी उपयोगी सिद्ध:
सीएम योगी ने कहा कि ई-संजीवनी एप के माध्यम से उपलब्ध कराई जा रही ओपीडी सुविधा काफी उपयोगी सिद्ध हो रही है. ज्यादा से ज्यादा लोग इस सेवा से लाभान्वित हो सके, इसके मद्देनजर E-संजीवनी एप का व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाये. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के सम्बन्ध में जागरूकता अभियान जारी रखा जाए. इसके लिए प्रचार के कई साधनों के साथ-साथ पब्लिक एड्रेस सिस्टम का भी व्यापक स्तर पर उपयोग किया जाए. योगी ने मेडिकल टेस्टिग, डोर-टू-डोर सर्वे और कॉन्टैक्ट ट्रेंसिग के कार्य को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं. सीएम योगी ने कहा कि कोविड चिकित्सालयों की व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त बनाया रखा जाए. यह सुनिश्चित किया जाए कि चिकित्सक एवं नर्सिंग स्टाफ नियमित राउण्ड लें.

UP: 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पुलिसकर्मियों को रिटायर करेगी योगी सरकार

UP: 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पुलिसकर्मियों को रिटायर करेगी योगी सरकार

लखनऊ: यूपी की योगी सरकार ने भ्रष्ट पुलिसवालों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की कार्रवाई को शुरू कर दिया है. डीजीपी मुख्यालय ने ऐसे नाकारा पुलिसवालों की सूची भेजने के लिए सभी इकाइयों के प्रमुखों, सभी आईजी रेंज और एडीजी जोन को पत्र लिखा है. पत्र में 31 मार्च 2020 को 50 वर्ष की आयु पूरी कर चुके पुलिस कर्मियों की स्क्रीनिंग कराने के निर्देश दिए है. 

पुलिसकर्मियों की अनिवार्य सेवानिवृत्त देने के लिए स्क्रीनिंग होगी: 
ऐसे में सिपाही से लेकर इंस्पेक्टर रैंक के पुलिसकर्मियों की अनिवार्य सेवानिवृत्त देने के लिए स्क्रीनिंग होगी. योगी सरकार की इस बड़ी कार्रवाई के बाद यूपी पुलिस में भ्रष्ट पुलिस कर्मियों पर गाज गिरना तय माना जा रहा है. उन पुलिसकर्मियों की छंटनी की जाएगी जो 31 मार्च 2020 को 50 वर्ष की आयु पार कर चुके हैं. 

{related}

योगी सरकार ने दिया था सूची बनाने का आदेश:
बता दें कि इससे पहले भी खबर आई थी कि यूपी सरकार 50 साल से ज्यादा आयु वाले कर्मचारियों के कामकाज की समीक्षा करने जा रही है. समीक्षा में अपेक्षित प्रदर्शन नहीं करने वाले कर्मचारियों की अनिवार्य सेवानिवृत्ति होगी. मुख्य सचिव की ओर से जारी आदेश के अनुसार सभी विभागों के अपर मुख्य सचिवों और सचिवों से 50 की आयु पार कर चुके स्टाफ के कामकाज की समीक्षा करने को कहा गया है. ऐसे कर्मचारियों की 31 जुलाई तक सूची तैयार करने के लिए कहा गया था. 
 

5 माह बाद फिर शुरू होगी उत्तर प्रदेश में लखनऊ मेट्रो, सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी मेट्रो

5 माह बाद फिर शुरू होगी उत्तर प्रदेश में लखनऊ मेट्रो, सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी मेट्रो

नई दिल्ली: 5 माह बाद फिर से उत्तर प्रदेश में लखनऊ मेट्रो सोमवार से लोगों के लिए शुरू होने जा रही है. इसके लिए तमाम तैयारियां जोरों पर है. मेट्रो में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा है. यूपी मेट्रो के एमडी ने बताया कि मेट्रो सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी. साढ़े 5 मिनट के अंतराल पर मेट्रो चलेगी. आरोग्य सेतु होना अनिवार्य नहीं है.

कम यात्रियों के साथ सफर की करेगी शुरुआत:
सोमवार से शुरू हो रही मेट्रो में आपको कई बदलाव भी नजर आएंगे. पहले के मुकाबले भीड़ आधे से भी कम होगी, क्योंकि लखनऊ मेट्रो अपनी क्षमता से काफी कम यात्रियों के साथ सफर की शुरुआत करेगी.

{related}

5 माह बाद शुरू होगी मेट्रो:
कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने मार्च के आखिर में देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी. इसके बाद से ही मेट्रो सहित सभी पब्लिक ट्रांसपोर्ट को देश भर में बंद कर दिया गया था. अगस्त के आखिर में केन्द्र सरकार की तरफ से जारी अनलॉक-4 की गाइडलाइंस में 7 सितंबर से मेट्रो चलाने की मंजूरी दी गई. इसी के बाद दिल्ली, नोएडा और लखनऊ सहित अन्य शहरों में 5 माह से अधिक समय के बाद मेट्रो का परिचालन एक बार फिर से शुरू हो रहा है.