Live News »

गेस्टहाउस कांड को भुलाकर मुलायम को माया का साथ, कहा- कभी-कभी कठिन फैसले लेने पड़ते हैं

गेस्टहाउस कांड को भुलाकर मुलायम को माया का साथ,  कहा- कभी-कभी कठिन फैसले लेने पड़ते हैं

मैनपुरी। लोकसभा चुनावों के मद्देनजर यूपी के मैनपुरी में आज महागठबंधन के नेता मायवती और मुलायम सिंह यादव 26 साल बाद एक मंच पर नजर आए। इस रैली में मुलायम सिंह यादव के बेटे और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव भी मौजूद रहे। 

मैनपुरी में साझा रैली को संबोधित करते हुए बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि यहां पर उमड़ी भीड़ से साफ है कि आप लोग सपा संरक्षक मुलायम जी को भारी संख्या में जिताकर संसद भेजेंगे।

मायावती ने कहा कि 2 जून, 1995 के गेस्टहाउस कांड को भुलाकर हम एक साथ आए हैं। ''कभी-कभी कठिन फैसले लेने पड़ते हैं। मुलायम सिंह जी ने पिछड़े लोगों को जोड़ा है। वह (मुलायम) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह फर्जी पिछड़ी जाति के नहीं हैं''।  

जनसभा को संबोधित करने के दौरान मायावती ने कहा कि मुलायम ही पिछड़े वर्गों के असली नेता हैं। ''(पीएम नरेंद्र मोदी) नकली व्यक्ति पिछड़े वर्गों का भला नहीं कर सकता है। पिछड़े वर्ग के नेता मुलायम सिंह यादव को जिताकर आप संसद भेजिए। इस चुनाव में असली और नकली के बीच पहचान की जरूरत है। नकली लोगों से धोखा खाने से बचें''।

वहीं, कांग्रेस पर हमला बोलते हुए मायावती ने कहा कि कांग्रेस ने अपने वादे कभी नहीं पूरे किए। कांग्रेस अब देश में घूम-घूमकर गरीबों को वोट हासिल करने में जुट गई है। आप लोगों को बहकावे में आकर वोट देने की जरूरत नहीं है। कांग्रेस कह रही है कि सरकार में आने पर थोड़ी सी आर्थिक मदद दी जाएगी। यह ढकोसला है। अगर हम सत्ता में आए तो आपको पूरी आर्थिक मदद करने के साथ ही आपको रोजगार देंगे।

बतादें,1992 में मुलायम सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी बनाई और 1993 के विधानसभा चुनाव में दोनों पार्टियों ने मिलकर चुनाव लड़ा था। इस गठबंधन को जीत मिली थी और मुलायम सिंह यादव सीएम बने थे। हालांकि, दो ही साल में दोनों पार्टियों के बीच रिश्ते खराब होने लगे। इसी बीच मुलायम सिंह को भनक लग गई कि मायावती बीजेपी के साथ जा सकती हैं।

2 जून 1995 को मायावती लखनऊ स्थित गेस्ट हाउस में विधायकों के साथ बैठक कर रहीं थीं। इतने में एसपी के कार्यकर्ता और विधायक वहां पहुंचे और बीएसपी के कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट करने लगे।

आरोप है कि मायावती पर भी हमला करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने खुद को एक कमरे में बंद करके खुद को बचा लिया। इस घटना के बाद मायावती ने समर्थन वापस लेने के ऐलान कर दिया। इसके बाद मायावती बीजेपी के समर्थन से सीएम बन गईं। 

और पढ़ें

Most Related Stories

UP: प्रतापगढ़ में दर्दनाक सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत, बेटी की सगाई के लिए लौट रहे थे घर

UP: प्रतापगढ़ में दर्दनाक सड़क हादसे में नौ लोगों की मौत, बेटी की सगाई के लिए लौट रहे थे घर

प्रतापगढ़(यूपी): उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में आज सुबह एक भीषण सड़क हादसा हो गया. हादसे में एक ही परिवार के नौ लोगों की दर्दनाक मौत हो गई. मृतकों में चार पुरुष, तीन महिलाएं, एक बच्चा और किशोरी शामिल है. जबकि एक व्यक्ति गंभीर रुप से घायल है, जिसे लखनऊ के लिए रेफर किया गया है. मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है. 

रेप पीड़िता के पिता ने बेटी द्वारा चार लोगों पर दर्ज करवाए मामले को बताया झूठा और षड्यंत्रकारी 

सीधी भिड़ंत में स्कॉर्पियो के परखच्चे उड़ गए:  
घटना आज सुबह करीब साढ़े पांच बजे की है जब नवाबगंज थाना क्षेत्र के वाजिदपुर में ट्रक और स्कॉर्पियो की सीधी भिड़ंत में स्कॉर्पियो के परखच्चे उड़ गए और उसमें सवार नौ लोगों की मौत हो गई. हादसा इतना भीषण था कि कार को गैस कटर से काटकर मृतकों के शव निकाले गए. 

सरकार की उम्मीदों पर खरा उतरा शराब की दुकान खोलने का निर्णय, राजस्थान में करीब 1000 करोड़ रुपए की शराब बिकी 

बेटी की सगाई के लिए लौट रहे थे घर: 
जानकारी के मुताबिक ये सभी स्कॉर्पियो से हरियाणा से बिहार जा रहे थे. मृतकों में अभी तक दो शवों की पहचान हो पाई है. इसमें बिहार के भोजपुर जिले के शाहपुर थाना क्षेत्र के गोसाईगंज के रहने वाले नंदलाल (45) व उनकी पत्नी मीना देवी (38) थे. यह दोनों अपनी बेटी की सगाई के लिए गांव जा रहे थे. कहा जा रहा है कि प्रतापगढ़ के नबाबगंज के वाजिदपुर गांव के पास हाईवे पर बारिश के चलते कंटेनर ट्रक और स्कार्पियो कार में आमने-सामने टक्कर हो गई, जिससे ये हादसा हुआ है.


 

चीनी मोबाइल कंपनी की साजिश या लापरवाही ? भारत में एक ही IMEI नंबर पर एक्टिव मिले 13 हज़ार मोबाइल

चीनी मोबाइल कंपनी की साजिश या लापरवाही ? भारत में एक ही IMEI नंबर पर एक्टिव मिले 13 हज़ार मोबाइल

मेरठ (यूपी) : सभी मोबाइल फ़ोन में एक ही IMEI नंबर अलॉट होता हे, तो आप भी सोच रहे होंगे ये कैसे मुमकिन हो सकता है. अपनी चालबाज़ी और साजिशो के लिए दुनियाभर में आलोचना झेल रहा चीन का एक और बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है. चीन की मोबाइल निर्माता कंपनी VIVO के एक आईएमईआई (International Mobile Equipment Identity) नंबर पर 13 हजार से ज्यादा मोबाइल फोन एक्टिव पाए गए हैं. मेरठ जोन पुलिस की साइबर क्राइम सेल की जांच में यह खुलासा हुआ है ऐसे में यह भारत की आंतरिक सुरक्षा के लिहाज से कंपनी की बड़ी लापरवाही मानी जा रही है.

क्या होता है आईएमईआई नंबर: 
हर व्यक्ति की पहचान के लिए उसके पास आइडेंटिटी प्रूफ होता है, उसी तरह हर मोबाइल की पहचान उसका IMEI नंबर होता है. कॉल हिस्ट्री, मैसेज व लोकेशन ट्रैक इत्यादि की जानकारी भी IMEI के जरिये मिलती है. ऐसे में कोई अपराध हुआ तो  अपराधी को पकड़ा भी नहीं जा सकेगा.

मोबाइल की स्क्रीन टूटने पर हुआ खुलासा: 
इसका मामले का खुलासा तब हुआ जब पुलिस महानिदेशक मेरठ के कार्यालय में तैनात सब इंस्पेक्टर आशाराम के वीवो कंपनी मोबाइल की स्क्रीन टूट गयी, जिसके बाद इंस्पेक्टर ने वीवो सर्विस सेंटर में फोन ​रिपेयर के लिए दिया और सर्विस सेंटर से रिपेयर होने के कुछ दिनों बाद ही मोबाइल यूज़ में दिक्कत आने लगी और फोन स्क्रीन पर बार बार एरर आने लगा. इसके बाद मामले की शिकायत की गयी और  मेरठ जोन पुलिस की साइबर क्राइम सेल को जांच के निर्देश दिए. जांच में खुलासा हुआ की आशाराम के मोबाइल के बॉक्स पर जो आईएमईआई लिखा हुआ है, वह वर्तमान में मोबाइल में मौजूद आईएमईआई से अलग है और साथ ही मोबाइल में मौजूद IMEI नंबर पर देशभर में 13 हज़ार से भी ज्यादा मोबाइल एक्टिव है. यह बात जब वीवो सर्विस सेंटर पहुॅंची तो उन्होंने साफ कर दिया कि फोन की IMEI नहीं बदली गई है,लिहाजा अब कंपनी से फोन का डाटा मांगा गया है. 

नियमों का उल्लंघन : 
कुछ वर्षों पहले जब चाइनीज फोन आए थे तब उनका आईएमईआई नंबर एक ही होता था, तब सरकार द्वारा सभी नंबरों को ब्लैक लिस्ट किया था. इसके बाद ट्राई के नियम लागू हुए जिसके तहत एक आईएमईआई सिर्फ एक मोबाइल को दिया जा सकता है.

धोखाधड़ी का मामला दर्ज: 
मेरठ के एडीजी राजीव सबरवाल ने बताया की पुलिस ने Vivo Mobile और सर्विस सेंटर के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है ओर साइबर सेल ने पूरे मामले में वीवो इंडिया के नोडल अधिकारी हरमनजीत सिंह को 91 सीआरपीसी के तहत नोटिस दिया है साथ ही इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इस मामले की जांच गहनता से की जाएगी.

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक

UP: 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर हाईकोर्ट ने लगाई अंतरिम रोक

लखनऊ: इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने आज उत्तर प्रदेश में 69 हजार सहायक शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया पर अंतरिम रोक लगा दी. हाईकोर्ट ने सरकार को परीक्षा की उत्तर-कुंजी जारी करने की छूट दी है. अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी.

Unlock-1.0: आज से सड़कों पर दिखेंगी राजस्थान रोडवेज की बसें, 200 मार्गों पर संचालन शुरू 

क्वालिफाइंग अंक निर्धारित करने का विशेषाधिकार सरकार का:  
हाईकोर्ट में सरकार की तरफ से कहा गया कि किसी परीक्षा के लिए क्वालिफाइंग अंक निर्धारित करने का विशेषाधिकार सरकार का है. इसे अदालत में चुनौती नहीं दी जा सकती. साथ ही कहा कि छह जनवरी 2019 को हुई सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा के आयोजक परीक्षा नियामक प्राधिकरण ने प्रश्नपत्र की उत्तर कुंजी अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड कर दी थी. यह एक क्वालिफाइंग परीक्षा थी, इसके आधार पर भर्ती प्रक्रिया तैयार की जानी थी. यह भी साफ किया कि अभी तक इस परीक्षा के आधार पर कोई भर्ती नहीं की गई है.

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 102 नये पॉजिटिव केस आए सामने, जयपुर में सर्वाधिक 28 मामले  

यूजीसी करेगी आपत्तियों का निस्तारण: 
याचिकाकर्ताओं की आपत्तियों को यूपी सरकार यूजीसी को भेजेगी और यूजीसी आपत्तियों का निस्तारण करेगी. अगली सुनवाई 12 जुलाई को होगी. गौरतलब है कि सरकार नियुक्तियां पूरी करने में बहुत तत्परता दिखा रही थी. सरकार का मानना था कि इस कोरोना काल मे जल्द नियुक्तियां होने पर अनेकों अभ्यार्थियों को बहुत राहत मिलेगी.


 

UNLOCK-1: यूपी सरकार की गाइडलाइंस जारी, 8 जून से सभी शॉपिंग मॉल और धार्मिक स्थलों को खोलने की मंजूरी

UNLOCK-1: यूपी सरकार की गाइडलाइंस जारी, 8 जून से सभी शॉपिंग मॉल और धार्मिक स्थलों को खोलने की मंजूरी

लखनऊ: अनलॉक-1 को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से नई गाइडलाइंस जारी की गई. 30 जून तक यूपी में अनलॉक-1 रहेगा.यूपी की योगी सरकार प्रदेश में 8 जून से धार्मिक स्थलों को सोशल डिस्टेंसिंग के सख्त पालन के साथ खोलने की अनुमति दी है. वहीं रेस्टोरेंट और शॉपिंग मॉल्स को खोलने को लेकर भी कुछ नियमों के साथ छूट दी गई है. केन्द्र सरकार की गाइडलाइन्स के मुताबिक कंटेनमेंट जोन में अब भी पूरी तरह से पाबंदी रहेगी, हालांकि बाकी जगहों पर धीरे-धीरे छूट दी जाएगी. 

अब जयपुर के प्रतापनगर RUHS और सांगानेरी गेट महिला अस्पताल में मिलेगा कोरोना का उपचार

धार्मिक स्थलों को भी खोलने की मंजूरी:
गाइडलाइंस के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 8 जून से धार्मिक स्थलों को भी खोलने की मंजूरी दी गई है. लेकिन साथ ही यह बताया गया कि कंटेनमेंट जोन में किसी भी प्रकार की छूट नहीं दी जाएगी. सिर्फ जरूरी सेवाएं चालू रहेगी. 1 केस पर 250 मीटर,2 केस पर 500 मीटर कंटेनमेंट जोन घोषित है. 

यूपी में बाजार सुबह 9 से रात 9 बजे तक खुलेंगे:
गाइडलाइन के मुताबिक नोएडा और गाजियाबाद बॉर्डर पर डीएम फैसला लेंगे. जुलाई में स्कूल, कॉलेज खोलना प्रस्तावित बताया गया है. तीन शिफ्टों में सभी सरकारी दफ्तर खुलेंगे. यूपी में बाजार सुबह 9 से रात 9 बजे तक खुलेंगे.

UNLOCK-1: राजस्थान में होगी सार्वजनिक बस सेवा शुरू, कंटेनमेंट जोन को छोड़कर चलाई जाएगी बसें

दिल्ली और यूपी में आज बारिश के आसार, तापमान में गिरावट से भीषण गर्मी से राहत

 दिल्ली और यूपी में आज बारिश के आसार, तापमान में गिरावट से भीषण गर्मी से राहत

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर सहित उत्तर प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में बारिश होने से भीषण गर्मी से राहत मिली है. तापमान में गिरावट दर्ज होने के साथ मौसम सुहावना हो गया है. मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में कई इलाकों में रविवार को भी आंधी-तूफान के साथ हल्की बारिश होने का अनुमान है. 

शव के अंतिम संस्कार को लेकर बवाल, जलती चिता पर पानी डालकर पुलिस ने रोका अंतिम संस्कार

यहां पर हो सकती है बारिश:
मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली-एनसीआर में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद में बारिश के आसार हैं. जबकि यूपी के बुलंदशहर, हाथरस, पलवल समेत कई इलाकों में  तेज हवा के साथ बारिश का अनुमान है.

कुछ जगहों पर आंधी के साथ बारिश के आसार:
इस दौरान हवा की रफ्तार 30-50 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है.मौसम विभाग के मुताबिक राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में रविवार को भी आसमान में बादल छाए रहने और कुछ जगहों पर आंधी के साथ बारिश के आसार हैं. जिसके कारण से तापमान में गिरावट रहेगी. 

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने प्रदेशवासियों से की अपील, तंबाकू,पान मसाला,अन्य व्यसनकारी पदार्थों को छोड़ने की अपील

वाराणसी के रामनगर में TikTok वीडियो बनाते समय गंगा में डूबने से पांच दोस्तों की मौत

वाराणसी के रामनगर में TikTok वीडियो बनाते समय गंगा में डूबने से पांच दोस्तों की मौत

वाराणसी(यूपी): वाराणसी के रामनगर के कोदोपुर क्षेत्र के सिपहिया घाट पर पांच युवकों को टिकटॉक वीडियो बनाना मंहगा पड़ गया. शुक्रवार की सुबह गंगा में टिकटॉक वीडियो बनाने के दौरान पांच किशोर डूब गए. पांचों को 11 एनडीआरएफ और पुलिस टीम गंगा से निकालकर अस्पताल लेकर गई जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. 

121 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का संचालन, 4 सप्ताह में 1 लाख 73 हजार प्रवासियों को पहुंचाया गंतव्य तक 

एक को बचाने के चक्कर में सब डूबे: 
स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक पांचों ने पहले तो रेत पर टिकटॉक वीडियो बनाया और उसके बाद गंगा में उतर गए. इस दौरान एक किशोर का पैर फिसल गया और वह गहराई में डूबने लगा. ऐसे में अन्य चार किशोर उसे बचाने दौड़े और एक-एक कर पांचों गंगा में डूब गए.

रेल मंत्रालय ने की यात्रियों से अपील, पूर्व ग्रसित बीमारी वाले व्यक्ति नहीं करें रेल यात्रा 

घटना के बाद मचा कोहराम:
घटनास्थल पर मौजूद एक अन्य युवक ने भागकर गया तो परिजन मौके पर आए और पुलिस को सूचना दी गई. पांचों को गंगा से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. मृतकों में रामनगर थाना के वारीगढ़ही के तौसीफ (17), फरदीन (14), शैफ (15), रिजवान (15) और सकी (14) शामिल है. घटना से रामनगर कस्बे के वारीगढ़ही, कोदोपुर और सीवान में कोहराम मचा हुआ है. 

यूपी के गाजीपुर में ट्रेन के इंजन के आगे कूदे प्रेमी युगल, दोनों की हुई मौके पर मौत

यूपी के गाजीपुर में ट्रेन के इंजन के आगे कूदे प्रेमी युगल, दोनों की हुई मौके पर मौत

गाजीपुर: एक प्रेमी युगल ने ट्रेन के इंजन के आगे कूदकर जान दे दी. मामला उत्तर प्रदेश में गाजीपुर जिले के नोनहरा थाना क्षेत्र का है. जहां पर गुरुवार को एक प्रेमी युगल ने ट्रेन के इंजन के आगे कूदकर जान दी है. मृतका की अभी शिनाख्त नहीं हो सकी है. प्रेमी के जेब से एक प्रेम पत्र और उसमें लिपटा गुलाब का सूखा फूल मिला है. 

मुंबई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची चूरू, 120 प्रवासियों को चूरू लेकर पहुंची ट्रेन

प्रेमी युगल ने अचानक ट्रेन के आगे कूदकर दी जान: 
खबरों के मुताबिक गुरुवार सुबह लगभग 8 बजे ट्रेन का इंजन वाराणसी की ओर जा रहा था कि एक प्रेमी युगल ने अचानक ट्रेन के आगे कूद गए. ट्रेन की टक्कर लगने से लड़की का सिर फट गया और लड़के को भी गंभीर चोट लगी. जिससे दोनों की दर्दनाक मौत हो गई. यह देखकर रेलवे के लाइन पर काम करने वाले और अटवा गांव के लोग मौके पर पहुंचे. लोगों ने पुलिस को सूचना दी. रेलवे पुलिस मौके पर पहुंची. 

लड़की नहीं हुई शिनाख्त:
तलाशी लेने पर आधार कार्ड से लड़के की शिनाख्त की गई. मृतक का नाम किशन कुमार राजभर बताया जा रहा है. वे वाराणसी जिले के रुपनपुर नटुई आशापुर का रहने वाला था. मृतक लड़की शिनाख्त नहीं हो सकी है, लेकिन आशंका जताई जा रही है कि यह दोनों प्रेमी युगल थे. फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.

कोरोना का खौफ...! वक्त पर मिल जाती बुजुर्ग इंसान को मदद, तो बच सकती थी जान, 3 घंटे तक बाजार में रहा बेहोश 

अब गाजियाबाद ने भी सील की दिल्ली बॉर्डर, सिर्फ इमरजेंसी सेवा और पास वालों को एंट्री

अब गाजियाबाद ने भी सील की दिल्ली बॉर्डर, सिर्फ इमरजेंसी सेवा और पास वालों को एंट्री

नई दिल्ली: यूपी के गाजियाबाद में बढ़ते कोरोना मामलों को लेकर जिला प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है. नोएडा के बाद अब गाजियाबाद ने भी दिल्ली बॉर्डर सील कर दिया है. अब यहां पर केवल पास वालों को प्रवेश दिया जाएगा. जानकारी के मुताबिक सोमवार को गाजियाबाद के जिलाधिकारी ने दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील करने का फरमान जारी किया है. 

फ्लाइट में 5 वर्षीय बच्चा अकेला ही सफर कर पहुंचा बेंगलुरु, 3 माह बाद मां के पास पहुंचा विहान

बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए लिया फैसला:
डीएम के मुताबिक गाजियाबाद में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए यह फैसला किया गया है. हालांकि, इस दौरान उन लोगों को प्रवेश की इजाजत मिलेगी जिनके पास पास होगा. इसके अलावा इमरजेंसी सेवाओं से जुड़े लोगों को भी गाजियाबाद में प्रवेश दिया जाएगा. 

जिले में कुल दौ सौ से ज्यादा मामले:
जानकारी के अनुसार गाजियाबाद में कोरोना के अब तक 230 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से ज्यादातर गत एक सप्ताह में सामने आए हैं. जिले में अब तक कोरोना की चपेट में आने से 2 लोगों की मौत हो चुकी है. आपको बता दें कि गाजियाबाद से पहले नोएडा ने भी दिल्ली से जुड़े बॉर्डर को बंद करने का फैसला लिया था. दिल्ली की ओर से भले ही बॉर्डर खोल दिए गए हैं, लेकिन नोएडा ने अपने बॉर्डर नहीं खोले हैं. हालांकि, गाजियाबाद की तरह ही यहां भी पास वाले लोगों और इमरजेंसी सेवाओं से जुड़े लोगों को प्रवेश दिया जा रहा है. 

महान हॉकी खिलाड़ी बलवरी सिंह सीनियर का निधन, पंजाब के मोहाली में 95 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

Open Covid-19