रसोई में मौजूद दवा खाने से कम नहीं है हल्दी

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/07/01 03:10

जयपुर: आमतौर पर भारतीय खाने में हल्दी का उपयोग मसालें के रूप में किया जाता हैं. जहां एक ओर हल्दी का उपयोग खाने का स्वाद और रंग बढ़ाने के लिए किया जाता हैं. वहीं कई बार हाथ-पैरों के दर्द से राहत पाने, खून के रिसाव को रोकने के लिए भी हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है. हल्दी एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक गुणों के कारण इसे रसोई में मौजूद दवाखाना भी कहा जा सकता है. आईए जानते हैं हल्दी के कुछ औषधीय गुणों के बारें में- 

कैंसर के उपचार में असरकारक- हल्दी में करक्यूमिन नामक यौगिक पाया जाता है. करक्यूमिन में कैंसररोधी गुण पाये जाते है.  करक्यूमिन कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने का कार्य करता है. एक शोध के मुताबिक हल्दी कीमोथेरेपी के प्रभाव को बढ़ाने में भी सहायता करती है.  हल्दी के नियमित उपयोग से ट्यूमर का भी आकार छोटा हो सकता है. 

मधुमेह के उपचार में लाभकारी- हल्दी में इंसुलिन के स्तर को संतुलित करने का गुण पाया जाता है. इस प्रकार यह मधुमेह रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होती है. करक्यूमिन ग्लूकोज को नियंत्रित करने का कार्य करता है. जो डायबिटीज नियंत्रण करने में सहायता करता है. 

सर्दी, जुकाम के उपचार में- सर्दी, जुकाम या कफ की समस्या होने पर हल्दी मिले दूध का सेवन फायदेमंद साबित होता है. हल्दी में पाये जाने वाले एंटीइंफ्लेमेटरी, एंटीबैक्टीरियल व एंटीवायरल गुण इसे खास बनाते हैं. इससे सर्दी, जुकाम तो ठीक होता ही है, साथ ही यह फेफड़ों में जमा हुए कफ को भी निकालने में मदद करती है. सर्दी के मौसम में इसका सेवन आपको स्वस्थ बनाए रखता है.

प्राकृतिक दर्द में असरदार- प्राकृतिक दर्द में हल्दी वाला दूध तो आप सबने पिया ही होगा. हल्दी को दूध में मिलाकर पिने से दर्द तो कम होता ही है साख ही यह एंटीसेप्टिक का काम भी करती है. हल्दी में पाए जाने वाले यौगिक करक्यूमिन हड्डियों व मांसपेशियों में होने वाले दर्द से राहत दिलाने का कार्य करता है. साथ ही हल्दी में एंटीइंफ्लेमेटरी गुण भी पाये जाते है, जो की किसी भी तरह के दर्द व सूजन से राहत दिलाने में कारगार साबित होता  है. 

वजन नियंत्रण करने में करे मदद- सभी जानते हैं कि मोटापा कई बड़ी बिमारियों का जनक है. अधिक मोटापे के कारण डायबिटीज व ह्रदय रोग जैसी कई समस्याएं भी हो सकती है. वहीं हल्दी शरीर के मेटाबोलिक रेट को बढ़ाने में मदद करती है जो शरीर की अतिरिक्त कैलोरी को घटाने लगता है. कैलोरी घटने से वजन भी कम होने लगता  है. 

मासिक धर्म दर्द के निवारण में- मासिक धर्म के समय महिलाओं को अधिक दर्द व पेट में ऐंठन जैसी समस्याएं रहती है. इस स्थिति में हल्दी का सेवन बहुत लाभकारी होता है. इस दौरान हल्दी वाला दूध या फिर हल्दी और अदरक की चाय पीना फायदेमंद साबित हो सकता है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in