Live News »

प. बंगाल में बढ़ती हिंसा की घटनाओं पर गृह मंत्रालय ने ममता सरकार को जारी की एडवाइजरी

प. बंगाल में बढ़ती हिंसा की घटनाओं पर गृह मंत्रालय ने ममता सरकार को जारी की एडवाइजरी

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल में आज पांचवें दिन भी हड़ताल जारी है. गृह मंत्रालय ने ममता सरकार से पूछा है कि उसने बढ़ती हिंसा पर लगाम कसने के लिए क्या कदम उठाए हैं. साथ ही गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार को एडवाइजरी भी जारी की है. केंद्र की एडवाइजरी में कहा है गया है कि डॉक्टरों की हड़ताल का असर पूरे देश में पड़ रहा है और पश्चिम बंगाल के अलावा दूसरे राज्यों के डॉक्टर भी इसमें शामिल हो गए हैं.

इससे पहले भी गृह मंत्रालय ने ममता बनर्जी को भेजा था नोटिस
केंद्र ने ममता बनर्जी से पूछा है कि इस हड़ताल को रोकने के लिए उन्होंने क्या कदम उठाए इसके बारे में विस्तृत रिपोर्ट सौंपे. बता दें कि इससे पहले भी गृह मंत्रालय ने एक बार और ममता बनर्जी को नोटिस भेजा था. इससे पहले 9 जून को राज्य में जारी राजनीतिक हिंसा पर केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल सरकार को पहली एडवाइजरी जारी की थी.

हड़ताल की वजह से राज्य के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमराई
बता दें कि पश्चिम बंगाल में साथी डॉक्टरों पर हमलों के खिलाफ और सुरक्षा की मांग को लेकर जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल लगातार पांचवें दिन शनिवार को भी जारी है. हड़ताल की वजह से राज्य के सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई हैं. अब भी हड़ताली डॉक्टर और ममता अपनी-अपनी जिद पर अड़े हुआ है.  

हड़ताली डॉक्टरों ने बातचीत के प्रस्ताव को ठुकराया
हड़ताली डॉक्टरों ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरफ से शुक्रवार रात आए बातचीत के प्रस्ताव को ठुकरा दिया. ममता बनर्जी ने डॉक्टरों को नबन्ना स्थित राज्य सचिवालय में बातचीत के लिए बुलाया था. डॉक्टरों ने कहा है कि मुख्यमंत्री को पहले माफी मांगनी होगी. यही नहीं अपना विरोध दर्ज कराते हुए अब तक 973 डॉक्टरों ने इस्तीफा दे दिया है.

और पढ़ें

Most Related Stories

Coronavirus Updates: हिमाचल सरकार का फैसला, 30 प्रतिशत होगी विधायकों की सैलरी में कटौती

Coronavirus Updates: हिमाचल सरकार का फैसला, 30 प्रतिशत होगी विधायकों की सैलरी में कटौती

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच हिमाचल सरकार ने बड़ा फ़ैसला लिया है. केंद्र सरकार  की तर्ज़ पर हिमाचल में विधायकों का 30 प्रतिशत वेतन काटने का फैसला किया है. 2 वर्ष तक विधायक निधि फ़ंड भी नहीं मिलेगा. राज्य में 1 करोड़ 75 लाख विधायक निधि सालाना है. बोर्ड निगम के चैयरमेन का भी 30 प्रतिशत वेतन कटेगा.

Coronavirus Updates: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 328, तो जयपुर के परकोटे में कर्फ्यू के साथ सख्ती

देश में कोरोना के मामले 4 हजार पार:
देश देश में कोरोना वायरस से अब तक 4421 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और इसके साथ ही 114 लोगों की मौत हुई है. 326 लोग ठीक हुए हैं और इस वक्त 3981 मरीजों का उपचार देश के अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है. 

Coronavirus Updates: कोरोना वायरस का कहर, हरियाणा में पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 98

दुनिया के कई देशों में फैला वायरस:
वहीं बात करें पूरी दुनिया की, तो दुनिया कई देशों में कोरोना की वजह से हालत खराब हो गई. कोरोना वायरस के अब तक एक लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके है. वहीं 70,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना वायरस की वजह से इटली में सबसे ज्यादा मौतें हुई है. 

Coronavirus Updates: देश में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले, पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 4 हजार पार, अब तक 114 लोगों की मौत

Coronavirus Updates: देश में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले, पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 4 हजार पार, अब तक 114 लोगों की मौत

नई दिल्ली: देशभर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे है. मंगलवार को कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 4421 हो गई है. इस महामारी की चपेट में आने से अब तक देश में 114 लोग जान गंवा चुके है. कोरोना वायरस की चपेट में आने से सबसे ज्यादा मौतें देश के महाराष्ट्र राज्य में हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना वायरस की वजह से अब तक महाराष्ट्र में सबसे अधिक 45 मौत हुई हैं. वहीं देश में 326 लोग इस बीमारी से ठीक हुए हैं. 

Coronavirus Updates: राजस्थान में 24 नए पॉजिटिव केस मिले, कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 325

इन राज्यों में इतनी हुई मौत:
स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना महामारी की वजह से अब तक महाराष्ट्र में 45, इसके बाद गुजरात में 12 , तेलंगाना में सात , मध्य प्रदेश में 9, दिल्ली में 7, पंजाब में 6, कर्नाटक में 4, पश्चिम बंगाल में 3, उत्तर प्रदेश में 3 हुई हैं, जबकि जम्मू कश्मीर और केरल में 2 मौत हुईं. तमिलनाडु में 5, आंध्र प्रदेश, बिहार और हिमाचल प्रदेश में 1-1 मौत हुई है.

सीएम गहलोत के निर्देश, कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए युद्ध स्तर पर करें काम, जयपुर के रामगंज में स्थिति नाजुक

राजस्थान में आंकड़ा पहुंचा 325:
राजस्थान में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. राजस्थान में पॉजिटिव मामले बढकर 325 हो गए है. मंगलवार सुबह 9 बजे तक 24 पॉजिटिव केस सामने आये है. बांसवाड़ा जिले से चार पॉजिटिव केस मिले है. चूरू जिले से एक, जयपुर से तीन पॉजिटिव मिले है. वहीं बात करे जैसलमेर की तो यहां पर 7 मामले सामने आये है. जोधपुर जिले में 9 पॉजिटिव मिले मिले है. प्रदेश में कोरोना की वजह से अब तक 6 लोगों की मौत हो चुकी है.

Coronavirus Updates: ट्रंप का बयान- भारत दवा की सप्लाई नहीं करता तो फिर दिया जाता उसका करारा जवाब

Coronavirus Updates: ट्रंप का बयान- भारत दवा की सप्लाई नहीं करता तो फिर दिया जाता उसका करारा जवाब

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के कहर का शिकार हो रहे अमेरिका ने एक बार फिर भारत से हाइड्रोक्सीक्सीक्लोरोक्वीन दवा की आपूर्ति पर मदद की उम्मीद जताई है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बीते दिनों फोन पर बात कर कोरोना वायरस पर चर्चा की. इस दौरान उन्होंने दवा की सप्लाई करने की मांग की थी. इसके साथ ही ट्रंप ने कहा कि अगर भारत मदद नहीं करता तो फिर उसका करारा जवाब दिया जाता.

Rajasthan Corona Update: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, लैटर में लिखी यह प्रमुख बात 

हमसे भी इसी तरह की प्रतिक्रिया की उम्मीद रखें:
मीडिया को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि मैंने पीएम मोदी से रविवार सुबह इस मुद्दे पर बात की थी. अगर वे दवा की आपूर्ति की अनुमति देंगे तो हम उनके इस कदम की सराहना करेंगे. अगर वे सहयोग नहीं भी करते तो कोई बात नहीं , लेकिन वे हमसे भी इसी तरह की प्रतिक्रिया की उम्मीद रखें.

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई कोरोना वायरस से लड़ने में मददगार:
पीएम मोदी की तरफ से भी डोनाल्ड ट्रंप को इस दवा की सप्लाई का आश्वासन दिया गया था, जिसके बाद सप्लाई शुरू भी हो गई है. इस बातचीत के बाद भारत सरकार ने 12 एक्टिव फार्माटिकल इनग्रीडियंट्स के निर्यात पर लगी रोक को हटा दिया है, जिसके बारे में जानकारी साझा की गई. बता दें कि एक रिसर्च में सामने आया है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई कोरोना वायरस से लड़ने में मददगार है. इसके साथ ही यह दवाई दुनिया में सबसे ज्यादा भारत में ही बनाई जाती है.

कोरोना के कारण सादगी से मना भाजपा का स्थापना दिवस, राजस्थान में सशक्त रहा इतिहास 

संक्रमण से अमेरिका बुरी तरह से प्रभावित:
बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण से अमेरिका बुरी तरह से प्रभावित हो रहा है. यहां अब तीन लाख से ज्यादा संक्रमित मामलों की पुष्टि हो तो वहीं 10,000 से अधिक लोगों की मौत भी हो गई है. इस वायरस का अब तक कोई इलाज नहीं मिल पाया है. 
 

मोदी कैबिनेट का अहम फैसला, सभी सांसदों के वेतन में एक वर्ष तक होगी 30 प्रतिशत कटौती

मोदी कैबिनेट का अहम फैसला, सभी सांसदों के वेतन में एक वर्ष तक होगी 30 प्रतिशत कटौती

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के बीच मोदी कैबिनेट ने सोमवार को अहम फैसले लिए है.  केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में देश के सभी सांसदों के वेतन में एक साल तक 30 प्रतिशत की कटौती का फैसला किया गया. इसके साथ ही सांसद निधि के लिए दी जाने वाली राशि भी 2 वर्ष तक के लिए टाल दी गई है. इसकी जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि इस कटौती से सरकार को एक वर्ष में करीब 8 हजार करोड़ रुपए की बचत होगी. 

Coronavirus Updates: जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का शतक, राजस्थान में 288 पहुंची मरीजों की संख्या

30 प्रतिशत योगदान देने का फैसला:
राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, राज्यों के राज्यपालों ने स्वेच्छा से सामाजिक जिम्मेदारी के रूप में वेतन कटौती का फैसला किया है. यह राशि भारत के समेकित कोष में दर्ज की जाएगी. इसके तहत सांसद निधि को दो साल के लिए टाल दिया गया. वहीं राष्‍ट्रपति, उपराष्‍ट्रपति, राज्‍यपाल सहित तमाम सांसदों ने भी अपने वेतन का 30 प्रतिशत योगदान देने का फैसला किया है. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने संसद अधिनियम, 1954 के सदस्यों के वेतन, भत्ते और पेंशन में संशोधन के अध्यादेश को मंजूरी दे दी. 1 अप्रैल, 2020 से एक साल के लिए भत्ते और पेंशन को 30 फीसद तक कम किया जाएगा.

केंद्रीय मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग:
आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को केंद्रीय मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक की. पीएमओ ने बताया कि इस दौरान पीएम मोदी ने मंत्रियों के नेतृत्व की सराहना की और कहा कि उनकी तरफ से लगातार दी गई फीडबैक कोविड-19 से निपटने के लिए रणनीति बनाने में प्रभावी रही है.

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

जल्द बन सकता है कोरोना वायरस का टीका, डॉक्टरों का रिसर्च जारी !

जल्द बन सकता है कोरोना वायरस का टीका, डॉक्टरों का रिसर्च जारी !

नई दिल्ली: कोरोना वायरस ने पूरी ​दुनिया में हाहाकार मचा दिया है. इसकी चपेट में आने से दुनियाभर में हजारों की लोगों की मौत हो गई. वहीं लाखों इंसान इससे संक्रमित है. पहले ये चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था, जिसके बाद दुनिया के कई देशों में पैर पसार चुका है. कई देशों में लॉकडाउन है. इमरजेंसी सेवाओं को छोडकर सभी बंद है. फिर भी इनके मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. 

CORONA: घबराये नहीं, बस लक्षण दिखने पर तुरंत ले डॉक्टर से परामर्श, ले मेडिकल ट्रीटमेंट

जल्द बन सकता है इसका टीका:
कोरोना के कोहराम के बाद इससे बचाव के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे है. वहीं कई देशों के वैज्ञानिक भी इसकी दवा बनाने की कोशिश कर रहे है. लेकिन अभी तक इस​का कोई टीका नहीं बन पाया है. इस वायरस के बारे में और इसके संक्रमण के तरीक़ों के बारे में जानकारी तो मिल जाती है, लेकिन अब तक इसका कोई उपचार नहीं मिला है. विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित कई देशों में डॉक्टर इससे निपटने के लिए टीका तलाशने के काम में लगे हुए है, लेकिन क्या इसका टीका जल्द बन पाएगा?

कब बनेगी कोरोना वैक्सीन?
कोरोना वायरस पर शोध करने वाले चिकित्सकों का कहना ​है कि उन्होंने इसका टीका बना लिया है और इस टीके का टेस्ट पहले जानवरों पर किया जा रहा है. अगर सब कुछ सही रहा तो इसी वर्ष इंसानों में भी इसका परीक्षण शुरु होगा. अगर वैज्ञानिक इस बात से ख़ुश भी हैं कि कोरोना वायरस के लिए टीका मिल गया है तब भी बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन शुरु होने में अभी समय लग सकता है. इसका मतलब यह हुआ कि असल में अभी भी ये नहीं कहा जा सकता कि अगले वर्ष से पहले ये टीका बाज़ार में उपलब्ध हो जाएगा.

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

कोरोना पर जीत के लिए तेजी से काम:
कोरोना वायरस से जीतने के लिए दुनियाभर के डॉक्टर तेजी से कार्य कर रहे है. इसके टीके बनाने के लिए तमाम प्रयास किए जो रहे है. लेकिन अभी तक कहा नहीं जा सकता कब तक टीका उपलब्ध हो पाएगा?

CORONA: घबराये नहीं, बस लक्षण दिखने पर तुरंत ले डॉक्टर से परामर्श, ले मेडिकल ट्रीटमेंट

CORONA: घबराये नहीं, बस लक्षण  दिखने पर तुरंत ले डॉक्टर से परामर्श,  ले मेडिकल ट्रीटमेंट

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (COVID-19) की बीमारी संक्रमण से फैलती है. यह एक नए वायरस के कारण होता है. इस बीमारी में सांस लेने में तकलीफ की समस्या होती है.  इसके अलावा, खांसी, बुखार, और ज़्यादा गंभीर मामलों में सांस लेने में परेशानी होना कोरोना के मुख्य लक्षण है. खुद को सुरक्षित रखने के लिए, अपने हाथों को बार-बार धोएं. इसके अलावा, अपने चेहरे को छूने से बचना चाहिए. जो इंसान बीमार हैं उनसे (एक मीटर या 3 फीट) की दूरी बनाकर रखनी चाहिए. 

अब कोरोना की चपेट में जानवर, न्यूयॉर्क में बाघिन मिली पॉजिटिव, जू जनता के लिए बंद 

ऐसे फैलती है ये बीमारी: 
चलिए अब बात करते है, ये बीमारी कैसे फैलती है, तो आपको बता दें कि सं​क्रमित इंसान के सम्पर्क में आने से यह बीमारी फैलती है. इसलिए तो घरों में रहने की सलाह दी जा रही है. लोगों से सम्पर्क नहीं करने की चेतावनी भी दी जा रही है. कोरोना संक्रमित इंसान के खांसने या छींकने पर उसके मुंह और नाक से गिरने वाली बूंदों से ये रोग एक से दूसरे इंसानों में फैलता है. जब कोई इंसान उस सतह या चीज़ को छूता है जिस पर वायरस होता है, इसके बाद अपनी आंख, नाक या मुंह को छूता है. तो इससे यह बीमारी फैल रही है.

कोरोना वायरस के लिए दवा:
यहां पर बात हो रही है कोरोना वायरस की दवा की, तो इसके उपचार के लिए अभी तक कोई भी खास दवा नहीं बनी है. बस लक्षण मिलते ही अगर डॉक्टर से सम्पर्क कर लिया जाये तो इसका इलाज हो सकता है. साथ ही कई इंसानों को बचाया जा सकता है. क्योंकि जिस इंसान में इसके लक्षण है, तो तुरंत ही डॉक्टर से फोन पर बात करके लक्षण के बारे में अवगत कराये. तो इसका उपचार हो सकेगा. क्योंकि कई इंसान पहले कोरोना पॉजिटिव आये थे. वहीं दूसरी बार उनकी जांच नेगेटिव आई है. कोरोना वायरस से घबराने की बात नहीं, बस सेफ्टी जरूरी है. अगर वक्त पर बीमारी के लक्षण बताये जाये तो इससे दूसरे इंसान संक्रमित होने से बच सकते है. 

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

इन लक्षण को ना करे नजरअंदाज, ले मेडिकल ट्रीटमेंट:
जिस इंसान को बुखार, खांसी, और सांस लेने में परेशानी हो रही है. तो तुरंत ही डॉक्टर से परामर्श लें, और आप जिस इंसान से सम्पर्क में आये है, उसके बार में भी बताये. आप अपने डॉक्टर को कॉल करके अपने हाल ही में की गई यात्राओं के बारे में बताए या अन्य किसी भी यात्रियों से मिले हों उनके बारे में बताए.

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया के सामने कोरोना वायरस एक चिंता का विषय बनकर सामने आया है. ना ही इसकी अभी तक कोई दवा बन पाई है. बस एक ही बचाव है वो है सोशल डिस्टेंसिंग. इस महामारी से दुनिया के कई देश जुझ रहे है. वहीं एक भविष्यवाणी की बात करे तो, उसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस का खात्मा मध्य अप्रैल से शुरू हो जाएगा. कोरोना के खौफ के बीच यह राहत भरी भविष्यवाणी है. जिसमें बताया ​गया है कि भारतीय पंचांगों ने उन्हीं ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर की है, जिसके आधार पर उन्होंने सालभर पहले ही बता दिया था कि दुनिया का साल 2020 विषाणुजनित महामारी से जूझेगा. खबरों के मुताबिक महामारी का उल्लेख भारतीय पंचांगों ने साल भर पहले ही कर दिया था. भारतीय पंचांग चैत्र माह में हिंदू नववर्ष की शुरुआत पर उपलब्ध हो जाते हैं, जिनकी छपाई इससे भी पहले पूर्ण कर ली जाती है. गत वर्ष प्रकाशित श्री ऋषिकेष हिंदी पंचांग के पृष्ठ 3 पर दुनिया और भारत का फल शीर्षक के अंतर्गत किसी विषाणुजनित महामारी के संकेत बताएं गए थे. 

BJP स्थापना दिवस : PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

चीन में 2019 में शुरू हो गई थी महामारी:
भविष्यवाणी में यह भी बताया गया है कि चीन में कोरोना वायरस का प्रभाव दिसंबर 2019 से दिखना शुरू हो गया था, लेकिन फरवरी-मार्च 2019 में प्रकाशित हो चुके भारतीय पंचांगों को देखें तो इनमें वैश्विक महामारी के संकेत दे दिए गए थे. अब जब यही ज्योतिषशास्त्री कह रहे हैं कि 14 अप्रैल के बाद कोराना का प्रभाव कम होने लग जाएगा, तो इस पर विश्वास न करने का कोई तर्क नहीं है. 

बुरे प्रभाव में आने लगेगी कमी:
ज्योतिषीय गणनाओं के मुताबिक कोरोना की वजह से 14 अप्रैल तक वक्त ज्यादा खराब है. इसके बाद धीरे धीरे कोरोना वायरस का खात्मा होने लग जाएगा. यह बात भारत वर्ष की कुंडली के आधार पर सामने आई है. आपको बता दें कि भारतीय नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा 25 मार्च, 2020 दिन बुधवार से शुरू हुआ. यानी आनेवाले साल के राजा बुध है. उनके साथ मंत्री के रूप में चंद्र रहेंगे. इन दोनों के प्रभाव से इस रोग का खात्मा जून 2020 तक हो जाएगा. 13 अप्रैल को रात्रि 8.23 मिनट से सूर्य का संक्रमण मीन राशि से मेष राशि में होगा. उसके बाद कोरोना महामारी के बुरे प्रभाव में कमियां नजर आने लगेगी. इस वायरस के मरीज कम होने लगेंगे. 27 और 28 अप्रैल के बाद सूर्य का संक्रमण मेष में 15 डिग्री से आगे बढ़ने पृथ्वी स्थित वासी इसके बुरे प्रभाव से बचने लगेंगे. तो यह बात ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर सामने आई है. 

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

BJP स्थापना दिवस : PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

BJP स्थापना दिवस :  PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के स्थापना दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो संदेश के जरिए कार्यकर्ताओं को संबोधित किया. पीएम मोदी ने बीजेपी के सभी संस्थापकों को याद किया और उन्हें श्रद्धांजलि भी दी. इसके साथ ही अपने संबोधन में कार्यकर्ताओं से कोरोना संकट को लेकर भी बात की. पीएम मोदी ने कहा कि हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए. डब्ल्यूएचओ ने भी भारत के प्रयासों को सराहा.

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

पूरी दुनिया एक मुश्किल समय से गुजर रही है:
पीएम मोदी ने कहा कि हमारी पार्टी का स्थापना दिवस, एक ऐसे कालखंड में आया है, जब देश ही नहीं, पूरी दुनिया, एक मुश्किल समय से गुजर रही है. पीएम मोदी ने कहा कि चुनौतियों से भरा यह वातावरण देश की सेवा के लिए, हमारे संस्कार, हमारे समर्पण, हमारी प्रतिबद्धता को और प्रशस्त करता है. श्रद्धेय श्यामा प्रसाद मुखर्जी, पं. दीन दयाल उपाध्याय जी, अटल बिहारी वाजपेजी जी जैसे अनगिनत महानुभावों ने राष्ट्र प्रथम का आदर्श दिया है. आज भी हमारे बीच अनेक वरिष्ठ महानुभाव हैं, जिन्होंने इसी मंत्र को लेकर दशकों तक जिया है और हमें शिक्षा दी है.

भाजपा का 40 वां स्थापना दिवस: सभी कार्यकर्ता अपने अपने घरों में ही मना रहे स्थापना दिवस, सोशल डिस्टेंसिंग की पूरी पालना 

व्यापक जंग की शुरुआत की:
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वैश्विक महामारी से निपटने के लिए भारत के अबतक के प्रयासों ने दुनिया के सामने एक अलग ही उदाहरण प्रस्तुत किया है. भारत दुनिया के उन देशों में है जिसने कोरोना वायरस की गंभीरता को समझा और और समय रहते इसके खिलाफ एक व्यापक जंग की शुरुआत की. भारत ने एक के बाद एक अनेक निर्णय किए, उन फैसलों को जमीन पर उतारने के भरसक प्रयास किया. सभी सरकारों को साथ लेकर आगे बढ़ने में काई कमी न रहे इसकी चिंता की.

Open Covid-19