Live News »

भूमि पुत्रों के लिए अच्छी खबर, 6000 करोड़ रुपये के फसली ऋण वितरण की प्रक्रिया हुई प्रारम्भ

भूमि पुत्रों के लिए अच्छी खबर, 6000 करोड़ रुपये के फसली ऋण वितरण की प्रक्रिया हुई प्रारम्भ

जयपुर: राज्य के भूमि पुत्रों के लिए अच्छी खबर है. प्रदेश के किसानों को रबी के लिए ब्याज मुक्त फसली ऋण वितरण की प्रक्रिया 1 सितम्बर से प्रारम्भ कर दी गई है. 31 मार्च 2021 तक रबी सीजन में 6000 करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त फसली ऋण का लक्ष्य रखा गया है. सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने बताया कि वर्ष 2020-21 में राज्य के किसानों को 16 हजार करोड़ रुपये के अल्पकालीन फसली ऋण का लक्ष्य रखा गया है और 25 लाख से अधिक किसानों को इससे लाभान्वित किया जा रहा है. रबी सीजन के लिए जिलेवार ऋण राशि वितरण के लक्ष्य तय कर दिये है.

केन्द्रीय सहकारी बैंक जयपुर सर्वाधिक फसली ऋण का वितरण करेगा: 
उन्होने बताया की रबी सीजन में केन्द्रीय सहकारी बैंक जयपुर सर्वाधिक 430 करोड़ रुपये फसली ऋण का वितरण करेगा. भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, सीकर एवं श्रीगंगानगर के केन्द्रीय सहकारी बैंक 300-300 करोड़ रुपये के ऋण वितरित करेंगे. इसी प्रकार जोधपुर में 290 करोड़ रुपये, हनुमानगढ़़ जिले में 260 करोड़ रुपये, झुंझुनू, जालौर एवं बाड़मेर जिलों में 250-250 करोड़ रुपये, झालावाड़ एवं नागौर के सीसीबी द्वारा 240-240 करोड़ रुपये के ऋण वितरण का लक्ष्य रखा गया है. 

केन्द्रीय सहकारी बैंक कोटा एवं अलवर द्वारा 220-220 करोड़ रुपये वितरण करेगा:
इसी प्रकार केन्द्रीय सहकारी बैंक कोटा एवं अलवर द्वारा 220 -220 करोड़ रुपये, पाली एवं बीकानेर जिलों में 200-200 करोड़ रुपये, उदयपुर, सवाईमाधोपुर, एवं अजमेर जिलों में 190-190 करोड़ रुपये, भरतपुर में 170 करोड़ रुपये, बूंदी एवं चूरू के द्वारा 150-150 करोड़ रुपये, दौसा में 140 करोड़ रुपये, बारां में 120 करोड़ रुपये, टोंक में 110 करोड़ रुपये, बांसवाड़ा एवं जैसलमेर के केन्द्रीय सहकारी बैंकों द्वारा 100-100 करोड़ रुपये, सिरोही में 90 करोड़ रुपये तथा डूंगरपुर में 50 करोड़ रुपये के फसली ऋण वितरण के लक्ष्य निर्धारित किये गये हैं. 

और पढ़ें

Most Related Stories

21 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

21 अक्टूबर 2020: जानिए आज का पंचांग, ये रहेगा शुभ-अशुभ मुहूर्त और राहुकाल का समय

जयपुर: पंचांग का हिंदू धर्म में शुभ व अशुभ देखने के लिए विशेष महत्व होता है. पंचाम के माध्यम से समय एवं काल की सटीक गणना की जाती है. यहां हम दैनिक पंचांग में आपको शुभ मुहूर्त, शुभ तिथि, नक्षत्र, व्रतोत्सव, राहुकाल, दिशाशूल और आज शुभ चौघड़िये आदि की जानकारी देते हैं. तो ऐसे में आइए पंचांग से जानें आज का शुभ और अशुभ मुहूर्त और जानें कैसी रहेगी आज ग्रहों की चाल... 

{related}

शुभ मास-  द्वितीय आश्विन (शुद्ध ) मास  शुक्ल पक्ष
शुभ तिथि पंचमी पूर्णा संज्ञक तिथि रात्रि  9 बजकर 8 मिनट तक तत्पश्चात षष्ठी तिथि रहेगी. पंचमी तिथि मे  सभी शुभ और मांगलिक कार्य विवाह, उपनयन, वास्तु, प्रतिष्ठा इत्यादि कार्य शुभ होते है किन्तु ऋण देना शुभ नहीं माना जाता है. पंचमी तिथि मे जन्मे जातक धनि, शौकीन, साहसी, बुद्धिवान, भाग्यवान, पराक्रमी होते हैं.

शुभ नक्षत्र  मूल "तीक्ष्ण व अधोमुख "नक्षत्र  रात्रि 1 बजकर 13  मिनट तक रहेगा. मूल नक्षत्र मे विद्या आरम्भ, बोरिंग, विवाह कर्म, वास्तु शांति, कृषि कार्य इत्यादि कार्य विशेष रूप से सिद्ध होते है. मूल नक्षत्र मे जन्म लेने वाला जातक स्वतन्त्र विचारों वाला, कठोर मेहनत करने वाला, क्रोधी स्वाभाव वाला, दानी, धनवान, बुद्धिमान होता है. गंड मूल नक्षत्र होने के कारण मूल नक्षत्र मे जन्मे जातकों को जन्म के 27 दिन बाद मूल अरिष्ट शांति हवन करवा लेना चाहिए.

चन्द्रमा - सम्पूर्ण दिन  धनु  राशि में संचार करेगा  

व्रतोत्सव - सरस्वति पूजा

राहुकाल - दोपहर 12 बजे से 1.30 बजे तक

दिशाशूल - बुधवार को उत्त्तर दिशा मे दिशाशूल रहता है. यात्रा को सफल बनाने लिए घर से गुड़, धनिया खा कर निकले.

आज के शुभ चौघड़िये - सूर्योदय से प्रातः 9.23 तक लाभ अमृत का, प्रातः 10.47 मिनट से दोपहर 12.19 मिनट तक शुभ और दोपहर 3.00 मिनट से सूर्यास्त तक चर, लाभ का चौघड़िया. 

सौजन्य - राज ज्योतिषी पंडित मुकेश शास्त्री
 

लालू यादव ने चारा घोटाले के दुमका मामले में दायर की जमानत याचिका

लालू यादव ने चारा घोटाले के दुमका मामले में दायर की जमानत याचिका

रांची:  चारा घोटाले मामले में लालू यादव ने जमानत की मांग की है. करीब साढ़े नौ सौ करोड़ रुपये के चारा घोटाले के चार मामलों में सजायाफ्ता राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने मंगलवार को दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ रुपये गबन के मामले में भी झारखंड उच्च न्यायालय में जमानत याचिका दाखिल कर दी है.  चारा घोटाले के दुमका मामले में चौदह वर्ष की सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव की ओर से झारखंड उच्च न्यायालय में आज जमानत याचिका दाखिल की गई है. 

इस मामले में लालू को विशेष सीबीआई अदालत ने 14 वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनायी है और उक्त मामले में ही वह इस समय न्यायिक हिरासत में बंद हैं. दुमका मामले में उच्च न्यायालय से उनकी जमानत याचिका पहले खारिज भी हो चुकी है. दूसरी ओर लालू को हाल में ही नौ अक्तूबर को चारा घोटाले के चाईबासा कोषागार से गबन के एक मामले में उच्च न्यायालय ने आधी सजा पूरी कर लेने के आधार पर जमानत दी थी. लालू के अधिवक्ता देवर्षि मंडल ने बताया कि उन्होंने उच्च न्यायालय में जमानत याचिका आज दाखिल की है.

मंडल ने दावा किया कि लालू यादव ने दुमका मामले में 42 माह जेल में पूरे कर लिये हैं जिसे देखते हुए आधी सजा पूरी कर लेने और लालू की बीमारियों के आधार पर न्यायालय से जमानत मांगी गयी है. चाईबासा के अलावा लालू को पूर्व में देवघर कोषागार से गबन और चाईबासा के एक अन्य मामले में पहले ही जमानत मिल चुकी है लेकिन दुमका कोषागार से गबन के मामले में उन्हें अब तक जमानत नहीं मिली थी जिसके चलते अभी वह न्यायिक हिरासत में ही हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या, एक गिरफ्तार

नाबालिग के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या, एक गिरफ्तार

दुमका: झारखण्ड के दुमका जिले से बच्ची से रेप के बाद हत्या का मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि रामगढ़ थाना क्षेत्र में 12 वर्षीय आदिवासी बच्ची के कथित सामूहिक बलात्कार एवं हत्या के मामले में पुलिस ने एक युवक को मंगलवार को गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी की उम्र 21 वर्ष है और उसकी शिनाख्त पौलुस मरांडी के रुप में की गई है. 

झारखंड पुलिस ने 21 वर्षीय आरोपी पौलुस मरांडी को रामगढ़ थाना क्षेत्र के भालसुमर गांव से गिरफ्तार किया. दुमका के अनुमंडल पुलिस अधिकारी अनिमेष नैथानी ने मंगलवार को  बताया कि इस युवक के अलावा इस नृशंस घटना के संबंध में संदेह के आधार पर पूछताछ के लिये कैलाश मांझी नामक एक अन्य युवक को भी हिरासत में लिया गया था, लेकिन उसे फिलहाल पूछताछ कर छोड़ दिया गया. 

उल्लेखनीय है कि रामगढ़ थाना क्षेत्र में ठाढ़ी गांव के पास पांचवीं कक्षा की छात्रा के कथित सामूहिक बलात्कार एवं हत्या की घटना तब हुई थी, जब वह ट्यूशन पढ़कर साइकिल से घर लौट रही थी. जिसके बाद आरोपी ने पहले तो बच्ची के साथ ज्यादती की और फिर उसकी हत्या कर दी. फिलहाल फरार की खोज की जा रही है.  (सोर्स-भाषा)

{related}

नगर निगम चुनाव: भाजपा प्रत्याशियों को दो टूक मैसेज, मौका मिला है, तो जीतकर ही आना होगा

नगर निगम चुनाव: भाजपा प्रत्याशियों को दो टूक मैसेज, मौका मिला है, तो जीतकर ही आना होगा

जयपुर: भारतीय जनता पार्टी ने जयपुर ग्रेटर और हेरिटेज नगर निगम के भाजपा प्रत्याशियों को आज बैठक में बुलाकर दो टूक मैसेज दिया है कि अब पार्टी ने जब मौका दिया है तो आपको जीत कर भी आना होगा. तमाम प्रत्याशियों को कहा है कि आप सभी भाग्यशाली हैं कि संगठन स्तर पर राय मशवरा और आपसी चर्चाओं के बाद आप सभी का चयन हुआ है पार्टी में और भी योग्य कार्य करता है ऐसा नही है कि आप ही योग्य हो. लेकिन संगठन जिसे जो जिम्मेदारी देता है आपसी राय मशवरा और चर्चा के बाद दी जाती है. तो दूसरी तरफ प्रत्याशियों को अपने स्तर पर बागियों को मनाने काफी टास्क दे दिया है. भाजपा ने कहा है कि यदि पार्टी के कोई कार्यकर्ता निर्दलीय खड़े हुए हैं तो आप उनके घर पर जाएं और सौहार्द पूर्ण वातावरण में पार्टी की एकजुटता के लिए उनसे बात करें.

संगठन में सभी कार्यकर्ता है कोई खुद को बड़ा ना समझें:
दूसरी तरफ हिदायत भी दी है कि संगठन में सभी कार्यकर्ता है कोई खुद को बड़ा ना समझें. टिकट मिल गया है तो तमाम नाराजगी और आपसी प्रतिद्वंद्विताओं को छोड़कर भाजपा कार्यकर्ता एकजुटता के साथ जीत दर्ज करें. जयपुर नगर निगम चुनाव-2020 को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने सुबह से लेकर देर रात तक मैराथन बैठकें की. भाजपा प्रदेश कार्यालय में डाॅ. सतीश पूनियां  प्रदेश संगठन महामंत्री चन्द्रशेखर ने जयपुर हैरिटेज एवं जयपुर ग्रेटर के भाजपा प्रत्याशियों के साथ बैठकें कर चुनाव प्रबन्धन, चुनाव प्रचार, पार्टी की रीति नीति, स्थानीय मुद्दों इत्यादि विषयों पर संवाद किया. इस दौरान प्रदेश महामंत्री मदन दिलावर, विधायक एवं पूर्व मंत्री वासुदेव देवनानी, प्रदेश उपाध्यक्ष मुकेश दाधीच, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा, प्रदेश मंत्री जितेन्द्र गोठवाल, श्रवण सिंह बगडी, जयपुर शहर जिलाध्यक्ष राघव शर्मा उपस्थित रहे.

{related}

सभी बूथों पर पार्टी को मजबूत करने पर देना है विशेष ध्यान:
डाॅ. पूनियां ने जयपुर हैरिटेज एवं जयपुर ग्रेटर के भाजपा पार्षद प्रत्याशियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 2014 से और अब 2019 तक देश के बुनियादी विकास से लेकर वैचारिक मुद्दों का समाधान किया है और सभी वर्गाें के  विकास के लिए योजनाएं संचालित कर रहे है. उन्होंने कहा कि हमें केन्द्र सरकार की योजनाएं, हमारी पार्टी की पिछली सरकारों द्वारा किये गये कार्यों और पार्टी के विकास के एजेण्डे, रीति नीति को जन-जन तक पहुंचाना है. डाॅ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने 20 महीनों में जयपुर की खूबसूरती को बिगाड़ने का काम किया है, पिछले डेढ़ साल में एक भी वर्कआर्डर नहीं हुआ है. इसलिए हमें कांग्रेस सरकार की विफलताओं को पुरजोर तरीके से उठाने के साथ-साथ स्थानीय मुद्दों को भी गंभीरता के साथ आमजन के बीच रखना है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी की हकीकत यह है कि ना तो यह किसी कौम का भला कर सकती और ना देश का भला कर सकती है. इसलिए दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा से हर वर्ग जुड़ रहा है और अल्पसंख्यक भी कांग्रेस की झूठ एवं लूट की राजनीति को समझकर भाजपा से जुड़ रहा है. चन्द्रशेखर ने सम्बोधित करते हुए कहा कि समाज के प्रबुद्धजनों से संवाद कर सभी बूथों पर पार्टी को मजबूत करने पर विशेष ध्यान देना है. उन्होंने कहा कि पार्टी की रीति नीति, स्थानीय मुद्दे सहित विभिन्न विषयों पर गंभीरता से काम करते हुए भाजपा को निगम चुनावों में बहुत अच्छी जीत दिलाने की पुरजोर कोशिश के लिए कार्य करें. पार्टी के पार्षद प्रत्याशियों को चुनाव प्रचार, प्रबन्धन से सम्बन्धित नियमों की जानकारी दी गई.

...फर्स्ट इंडिया के लिए ऐश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

VIDEO: आमेर महल पर कोरोना का ग्रहण, आइकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन योजना पर लगा ब्रेक 

जयपुर: आमेर को आईकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाने की योजना भी कोरोना की चपेट में आ गई है. राजस्थान के सबसे बड़े पर्यटक स्थल आमेर महल अब आइकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर विकसित करना था. आमेर के विकास पर करीब 315 करोड़ रुपए खर्च करने की योजना को अंतिम रूप दे दिया गया था और इसे ताजमहल की तर्ज पर आइकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन बनाने का खाका तैयार किया था लेकिम कोरोना ने योजना पर पानी फेर दिया. आइकॉनिक आमेर प्रोजेक्ट को लेकर पर्यटन एवं कला संस्कृति विभाग की तत्कालीन प्रमुख सचिव श्रेया गुहा ने पिछ्ले वर्ष 4 अप्रैल को परियोजना से जुड़े विभागों की बैठक ली थी, जिसमें प्रोजेक्ट का काम आगे बढ़ाने की योजना बनाने पर चर्चा हुई थी.

{related}

गुलाबी नगर जयपुर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केन्द्र सरकार ने आइकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन प्रोजेक्ट के तहत आमेर महल क्षेत्र का चयन किया था. इस प्रोजेक्ट पर 315 करोड़ रुपए की लागत अनुमानित है. प्रोजेक्ट के लिए पैसा केन्द्र सरकार देगी. आइकॉनिक आमेर प्रोजेक्ट को लेकर 22—23 अप्रैल 2018 को केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय के उच्चाधिकारी आमेर का दौरा कर चुके हैं. इसके बाद आइकॉनिक आमेर प्रोजेक्ट की रिपोर्ट बनना शुरू हुई. इस वर्ष अप्रैल से इस योजना पर कार्य शुरू होना था लेकिन इससे पहले ही पूरा देश और विश्व कोरोना की चपेट में आ गया. पुराना संकट में आर्थिक संसाधन भी प्रभावित हुए इस कारण इस योजना को फिलहाल दाखिल दफ्तर कर दिया गया है. आपको ग्राफिक्स के जरिए दिखाते हैं आईकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन योजना पर क्या-क्या कार्य होने थे.

1-मावठा झील का पुनरूद्धार कर उसे पानी से भरा जाएगा. मावठा में म्यूजिकल फाउंटेन लगाया जाएगा. मौजूदा समय में मावठा सूखा पड़ा है, इसलिए झील में पानी भरने की व्यवस्था की जाएगी. साथ ही मावठा की पाल पर फोटोग्राफी प्वाइंट, डेक और बैठने के लिए जगह विकसित की जाएगी. मावठा वन विभाग में अधीन आता है, इसलिए यहां विकास कार्य करवाने के लिए वन विभाग से अनुमति लेनी होगी.

2- आमेर महल की दीवार को रात के समय आकर्षक लुक देने के लिए 7,500 मीटर दूरी में लाइट इल्यूमिनेशन किया जाएगा. 10 मीटर दूरी पर थेफ्ट सिक्योरिटी सिस्टम लगेगा.

3-आमेर महल और आसपास के वन क्षेत्र में केबल पोड कार चलाने की योजना है. साथ ही पाथ-वे भी विकसित किया जाएगा। इस योजना के लिए भी वन विभाग से अनुमति लेनी होगी.

4-पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए आमेर में रोप-वे बनाने की योजना है. रोप-वे प्रोजेक्ट का कुछ हिस्सा वन क्षेत्र में आएगा, इसके लिए भी वन विभाग से परमिशन लेनी होगी.

5-आमेर क्षेत्र में प्रदूषण कम करने और यातायात को सुगम बनाने के लिए 20 सीटर इलेक्ट्रिक बसें और 8 से 10 सीटर इलेक्ट्रिक बग्घी चलाई जाएंगी. इलेक्ट्रिक बस और इ-बग्घी पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मोड पर चलेंगी.

6 -आमेर के मानसिंह महल और गार्डन पोल में लेजर शो लगाने की योजना है. लेजर शो से नाइट टूरिज्म को बढ़ावा मिलेगा.

7-आमेर महल में सीलन की समस्या को दूर करने के लिए काम करवाया जाएगा. जिससे आमेर महल की दीवारों का जीर्णोद्धार और संरक्षण कार्य करवाए जाएंगे.
8 - आमेर महल के आसपास के इलाके को टाउनशिप के रूप में विकसित किया जाएगा. जिसमें पर्यटकों के लिए सुविधा हो.

यूं तो कोरोना ने सारे विश्व को प्रभावित किया लेकिन पर्यटन ऐसा सेक्टर है जो इससे सर्वाधिक प्रभावित है. राजस्थान के पर्यटनस्थल महीनों कोरोना के चलते लॉक डाउन रहे. कैसे तैसे खोले भी गए तो विदेशी और  इंटर स्टेट ट्यूरिस्ट नाम मात्र के आ रहे हैं. इस सेक्टर से जुड़े तमाम स्टेक होल्डर जिनमें होटल, टेक्सी संचालक, लोक कलाकार, गाइड, हस्तशिल्प सहित छोटे छोटे हॉकर, वेंडर तक बेरोजगार हो गए हैं. केंद्र और राज्य सरकारों को भी भारी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है. भारत में पर्यटन से जुड़ी तमाम योजनाओं को लाल तहसील दफ्तर कर दिया गया है. आमेर से जुड़े आईकॉनिक टूरिस्ट डेस्टिनेशन प्रोजेक्ट पर भी इसका असर पड़ा है. योजना टाल दी गई है जिससे पर्यटक और पर्यटन दोनों का नुकसान हुआ है.

VIDEO: चुनाव प्रचार और मास्क हथियार, निगम चुनाव के बीच कोरोना का असर, प्रचार सामग्री में मास्क की लोकप्रियता

जयपुर: नगर निगम चुनावों में प्रचार की धूम शुरु हो गई है. प्रचार पर कोरोना का असर साफ दिख रहा है. सियासी दलों ने मास्क को प्रचार का सबसे बड़ा साधन बना लिया है. कांग्रेस पहली बार प्रदेश मुख्यालय से प्रचार सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी.

प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने किया मास्क तैयार:
"द मास्क " Hollywood की यह चर्चित फिल्म थी जिम केरी की यह फिल्म हिट रही. आज मास्क फिर चर्चा में लेकिन महामारी कोविड के कारण, चर्चा इतनी है कि मास्क राज्य के निगम चुनावों में सियासी दलों के लिए प्रचार का हथियार बन गया है. प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने खुद मास्क तैयार किया जिन पर हाथ का सिंबल है यह प्रचार के लिए बांटे जा रहे.

{related}

चुनावों को लेकर सजी प्रचार सामग्री की दुकान: 
चुनावों को लेकर प्रचार सामग्री की दुकान सज चुकी है. कोविड़ थीम पर प्रचार सामग्री को लेकर नेताओ के बीच क्रेज है. मास्क को प्रचारित करने में गहलोत सरकार अग्रणी रही है. अब यह मास्क ना केवल जीवन को बचाने से जुड़ा काम कर रहा है बल्कि चुनावी प्रचार का हथियार भी बन गया है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर के फलौदी में एसीबी की कार्रवाई, पटवारी पवन को 3500 रुपए की घूस लेते किया ट्रैप 

जोधपुर: एसीबी जोधपुर की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक पटवारी को 3500 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है. फलौदी में हुई इस कार्रवाई में म्यूटेशन करने की एवज में यह रिश्वत मांगी गई थी. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्ग सिंह राजपुरोहित ने बताया कि परिवादी पप्पू राम विश्नोई ने एसीबी चौकी में आकर शिकायत दर्ज कराई कि पटवारी पवन कुमार जोशी म्यूटेशन करने की एवज में 3500 रुपए की रिश्वत की मांग कर रहा है.

{related}

शिकायत का सत्यापन करने के बाद एसीबी टीम में पटवारी को ट्रैप करने के लिए जाल बिछाया और 3500 रुपए देकर परिवादी को पटवारी के घर भेजा. पटवारी पवन कुमार जोशी ने रिश्वत की यह राशि लेकर अपने टेबल की दराज में रख ली. इशारा पाते ही एसीबी की टीम ने दबिश दी और दराज से 3500 रुपए बरामद कर लिए. एसीबी टीम को इसी दराज में करीब 35000 रुपए अतिरिक्त मिले हैं.

VIDEO: नगर निगम चुनाव की बज गई रणभेरी, किसे मिलेगी जीत, किसकी किस्मत में मात?

जयपुर: जयपुर में नगर निगम चुनाव की रणभेरी बज चुकी हैं.इस बार 21 लाख से ज्यादा मतदाता जयपुर नगर निगम हैरिटेज और ग्रेटर के लिए शहरी सरकार चुनेंगे.लेकिन दिलचस्प बात ये है की दोनों ही निगमों में 36 से 59 साल वाले यानि की तजुर्बेकार मतदाता शहरी सरकार चुनने के लिए अहम निर्णायक की भूमिका में रहेंगे. शहरी सरकार बनाने में इस बार युवा मतदाताओं से ज्यादा तजुर्बेकार 36 से 59 साल मतदाता इस बार अहम रोल अदा करेंगे.36 से 59 आयु वर्ग के नगर निगम ग्रेटर में 5 लाख 60 हजार 625 मतदाता हैं.वहीं नगर निगम हैरिटेज में इस आयु वर्ग के मतदाताओं की संख्या 4 लाख 20 हजार 642 हैं.

हार-जीत का समीकरण बनाने-बिगाड़ने में तजुर्बेकार मतदाता की भूमिका:
दोनों ही नगर निगमों में इनका मत प्रतिशत 45-45 प्रतिशत है.सबसे ज्यादा हार-जीत का समीकरण बनाने और बिगाड़ने में 45 प्रतिशत तजुर्बेकार मतदाताओं की भूमिका रहेगी.जिला निर्वाचन के आंकडों के अनुसार दोनों नगर निगमों में कुल 21 लाख 61 हजार 901 मतदाता हैं.नगर निगम ग्रेटर में कुल 12 लाख 29 हजार 60 मतदाता हैं.जिसमें पुरूष मतदाता 6 लाख 45 हजार 307 हैं. महिला मतदाताओं की संख्या 5 लाख 83 हजार 740 हैं.वहीं थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 13 हैं.इसी तरह नगर निगम हैरिटेज में कुल मतदाताओं की संख्या 9 लाख 32 हजार 901 हैं.जिसमें पुरूष मतदाता 4 लाख 91 हजार 629 हैं.महिला मतदाताओं की संख्या 4 लाख 41 हजार 257 हैं.वहीं थर्ड जेंडर मतदाताओं की संख्या 15 हैं.

नगर निगम ग्रेटर में मतदाताओं की संख्या:
आयु वर्ग -मतदाता -प्रतिशत मतदाता
18 से 25 साल-1,68,479-13.70फीसदी
26 से 35 साल-3,11,892-25.37फीसदी
36 से 59 साल-2,89,962-45.61 फीसदी
60  और इससे ज्यादा-98,983-15.30 फीसदी
थर्ड जेंडर-13
कुल मतदाता-12,29,060

{related}

नगर निगम हैरिटेज में मतदाताओं की संख्या:
आयु वर्ग-मतदाता-प्रतिशत मतदाता
18 से 25 साल-1,25,558-13.45 फीसदी
26 से 35 साल-2,37,478-25.45फीसदी
36 से 59 साल-4,20,642-45.08 फीसदी
60  और इससे ज्यादा-1,49,208-15.99 फीसदी
थर्ड जेंडर-15
कुल मतदाता-9,32,901

युवा से लेकर बुजुर्ग मतदाता काफी उत्साहित:
शहरी सरकार चुनने के लिए युवा से लेकर बुजुर्ग मतदाता इस चुनाव को ले काफी उत्साहित हैं.ऐसे मतदाता मतदान का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं.इस बार पार्टियों से लेकर प्रत्याशियों को बहुत कम समय मिला हैं.कांग्रेस और भाजपा सहित प्रमुख राजनीतिक दलों को आनन-फानन में अपने प्रत्याशी तय कर मैदान में उतारने में लगी हुई.वहीं इस बार जयपुर में वार्डों की संख्या भी बढ़कर 250 हो गई है.ऐसे में मशक्कत भी पहले की अपेक्षा दो गुना हो जाएगी.ऐसे में दोनों पार्टियों में जोरदार घमासान देखने को मिलेगा.वहीं प्रत्याशी तय हो जाने के बाद दावेदारों के पास अपने मतदाताओं तक पहुंचने का समय भी बहुत कम मिलेगा.ऐसे में इस माह के शेष बचे 18 दिन में जोरदार आपाधापी देखने को मिलेगी.हाल ही पंचायत चुनाव में ग्रामीण क्षेत्र के मतदाताओं ने सरपंच चुनने के लिए कोरोना के खौफ के दरकिनार कर रिकॉर्ड मतदान किया था. जयपुर के लोग इस बार निगम के बदले स्वरूप के साथ पहली बार मतदान करेंगे.राज्य सरकार ने शहर की बढ़ती आबादी को ध्यान में रख नगर निगम को दो हिस्सों में बांट दिया.साथ ही वार्डों की संख्या भी 91 से बढ़ाकर 250 कर दी.पहले इन वार्डों में 21 लाख से ज्यादा मतदाता पार्षद चुनेंगे और उसके बाद  नगर निगम हैरिटेज में 100 वार्ड और नगर निगम ग्रेटर में 150 वार्ड के पार्षद मिलकर मेयर का चुनाव करेंगे.

...फर्स्ट इंडिया के लिए शिवेंद्र परमार की रिपोर्ट