अमन और शांति का पैगाम लेकर 11 सिख श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान के लिए रवाना

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/11 02:30

कोटा। उरी,पुलवामा जैसे आतंकी हमलों के बाद भारत और पाकिस्तान के रिश्तों में लगातार तनाव बना हुआ है लेकिन इस गर्म माहौल के बीच धार्मिक सौहार्द का वातावरण एक सेतु का काम कर रहा है। आज कोटा से अमन और शांति का पैगाम लेकर बैसाखी पर्व मनाने के लिए 11 सिख श्रद्धालुओं का जत्था पाकिस्तान के लिए रवाना हुआ। 

कोटा के रहने वाले बुजुर्ग सुखदेव सिंह और उनकी पत्नी रुपिन्दर सिंह के लिए आज का दिन बडा शुभ है क्योंकि काफी प्रयासों के बाद वह पहली बार बैसाखी पर्व को मनाने के लिए पाकिस्तान के गुरुद्वारों में जा रहे है। इस साल सिख वेलफेयर सोसायटी की मदद से उन्हे वीजा मिला है। अमन चैन का पैगाम लेकर 11 सिख श्रद्धालुओं के जत्थे के साथ वह इस 10 दिनों की यात्रा पर गोल्डन टेम्पल मेल से रवाना हुए तो परिवार जनो के साथ सिख समाज द्वारा इस जत्थे का जोरदार स्वागत किया गया। सोसायटी के अध्यक्ष जगजीत सिंह जग्गी के अनुसार कोटा बूंदी से इस साल 14 श्रद्धालुओं ने वीजा के लिए आवेदन किया था जिसमें से 11 श्रद्धालुओं को ही वीजा मिल सका। 10 दिन की इस धार्मिक यात्रा में यह जत्था पंजा साहिब,ननकाना साहिब ,डेरा साहिब में मत्था टेकेंगे और 21 अप्रैल को वापस अमृतसर आऐंगे। इस यात्रा को लेकर सभी काफी उत्साहित है। 

इस जत्थे के श्रद्धालुओं को यात्रा की शुभकामनाएं देने के लिए पीसीसी महासचिव पंकज मेहता,महापौर महेश विजय भी पहुंचे औऱ सभी श्रद्धालुओं का माला पहनाकर मुंह मीठा करवाया। जनप्रतिनिधियों का मानना है कि इस तरह की धार्मिक यात्राओं दोनो देशो के बीच जो नफरत की गहरी खाई बन गई है उसे पाटने में काफी मदद मिलेगी। उन्होने वीजा सहित अन्य सुविधाओ को लेकर नियमो में शिथिलता लाने की भी मांग की है। 

आंतकवाद के मुद्दे को लेकर राजनैतिक हलचल में दोनो देशो की गरमाहट सरहदों से लेकर विश्व के पटल पर भी बहस का बिन्दु रही है  लेकिन धार्मिक यात्राओं ने आस्था के नींव के पत्थर को नही हिलने दिया। दोनो देशो के श्रद्धालु भी यही दुआ करते है कि यह सिलसिला यूं ही बरकरार रहे ताकि अमन शांति की राह से नई पहल हो सके। 

...सचिन ओझा,फर्स्ट इंडिया,न्यूज ,कोटा 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in