राजस्थान में कहर बनकर टूटी आकाशीय बिजली, जयपुर के आमेर में 11 लोगों की मौत, सीएम गहलोत ने जताया दुख

राजस्थान में कहर बनकर टूटी आकाशीय बिजली, जयपुर के आमेर में 11 लोगों की मौत, सीएम गहलोत ने जताया दुख

जयपुर/ कोटा: राजस्थान के जयपुर, झालावाड़ और धौलपुर जिलों में रविवार को आकाशीय बिजली गिरने की अलग-अलग घटनाओं में सात बच्चों सहित 18 लोगों की मौत हो गई. पुलिस ने बताया कि राज्य के अलग-अलग गांवों में हुई घटनाओं में छह बच्चों सहित 21 लोग घायल भी हुए हैं. राजधानी जयपुर में एक बड़ी त्रासदी में आमेर किले के पास आकाशीय बिजली गिरने से 11 लोगों की मौत हो गई जबकि आठ अन्य लोग घायल हो गये. मृतकों में अधिकतर युवक थे जो किले के पास एक पहाड़ी पर खुशनुमा मौसम का आनंद लेने गये थे. उनमें से कुछ लोग वाच टावर पर सेल्फी ले रहे थे. जबकि कई पहाड़ी पर मौजूद थे. देर शाम जब आकाशीय बिजली गिरने से वाच टावर पर मौजूद लोग गिर गये.

जयपुर पुलिस आयुक्त आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि आकाशीय बिजली गिरने की घटना में 11 लोगों की मौत हो गई जबकि आठ लोग घायल हो गये. उन्होंने बताया कि घायलों के लिए राहत एवं बचाव कार्य जारी है. चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघुशर्मा आमेर में बिजली गिरने से हुए हादसे में घायलों के उपचार का जायला लेने सवाई मानसिंह (एसएमएस) अस्पताल पंहुचे. मुख्य सचेतक डॉ महेश जोशी, विधायक अमीन कागजी भी मौजूद रहे. उन्होंने घायलों के उपचार के लिये आवश्यक निर्देश दिये.

झालावाड़ जिले के कंवास थानाधिकारी ने बताया कि गरडा गांव में बिजली गिरने से एक पेड़ के नीचे अपने पशुओं के साथ खड़े राधे बंजारा ऊर्फ बावला (12), पुखराज बंजारा (16), विक्रम (16) और उसके भाई अखराज (13) की मौत मौके पर ही हो गई. घटना में एक गाय और करीब 10 बकरियों की भी मौत हो गई. थानाधिकारी ने बताया कि घायल बच्चों राहुल, विक्रम, राकेश और मानसिंह और फूलीबाई को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है जहां उनकी स्थिति खतरे से बाहर बताया जा रही है.

सुनेल थाना क्षेत्र के लालगांव में इसी तरह की घटना में बिजली की चपेट में आने से 23 वर्षीय चरवाहा तारासिंह भील की मौके पर ही मौत हो गई. घटना में दो भैंसों की भी मौत हो गई. सुनेल थाना क्षेत्र के चाचाना गांव में दो नाबालिग युवतियां बिजली गिरने से घायल हो गईं. धौलपुर जिले के बाड़ी उपखंड क्षेत्र के कुदिन्ना गांव में आकाशीय बिजली गिरने से दो सगे भाईयों सहित तीन बच्चों की मौत हो गई.पुलिस ने बताया कि हादसा उस समय हुआ,जब गांव के कुछ बच्चे जंगल में बकरियां चरा रहे थे. उन्होंने बताया कि बिजली की चपेट में आने से लवकुश (15), विपिन (10), और भोलू (8) की मौत हो गई.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आकाशीय बिजली गिरने से हुई जनहानि पर दुख व्यकत करते हुए कहा कि कोटा, धौलपुर, झालावाड़, जयपुर और बारां में आज बिजली गिरने से हुई जनहानि बेहद दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है. प्रभावितों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं, ईश्वर उन्हें सम्बल प्रदान करें.अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि पीड़ित परिवारों को शीघ्र सहायता उपलब्ध करवाएं.

आर्थिक सहायता की घोषणा
हादसे की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घायलों व पीड़ित परिवारों को शीघ्र हर प्रकार की सहायता मुहैया करवाने के निर्देश अधिकारियों को दिए. साथ ही मृतक आश्रितों को 5-5 लाख रुपये की सहायता देने की भी घोषणा की गई. इसमें आपदा प्रबंधन कोष से 4 लाख और मुख्यमंत्री सहायता कोष से 1 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी. वहीं घायलों को भी 50-50 हजार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की गई.

राज्यपाल कलराज मिश्र ने आकाशीय बिजली गिरने से कोटा के कनवास गांव में चार एवं बाड़ी(धौलपुर) के कूदिन्ना गांव में तीन बच्चों की मृत्यु की हृदयविदारक दुर्घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया है. राज्यपाल ने आमेर के वाच टावर में सेल्फी लेने के दौरान आकाशीय बिजली की चपेट में आने से लोगों की दर्दनाक मौत को भी गंभीरता से लेते हुए शोक संवेदना प्रकट की है. राज्यपाल ने बारिश के मौसम को देखते हुए लोगों से जान-माल की सुरक्षा के लिए सावधानी और सतर्कता बरतने की अपील भी की है.

और पढ़ें