Live News »

17 साल पहले मृत मानकर परिजनों ने कर दिया था क्रियाक्रम, अब सामने पहुंचा तो छलक पड़े आंसू

17 साल पहले मृत मानकर परिजनों ने कर दिया था क्रियाक्रम, अब सामने पहुंचा तो छलक पड़े आंसू

कोटा: लापता होने के बाद जिस व्यक्ति को मृत मानकर परिजनों ने क्रियाक्रम तक कर दिया था आज वही शख्स करीब 17 साल बाद परिजनों के सामने पहुंच गया. इस दौरान परिजनों की आंखों से आंसू छलक पड़े और उसे गले से लगा लिया. जी हां, लावारिस हाल में जो व्यक्ति पिछले 17 साल से भटक रहा था उसे फिर से नई जिंदगी मिल गई है. पंजाब के कपूरथला से साल 2003 में लापता हुआ दलजीत आज फिर अपनों के बीच पहुंच गया है. दलजीत सिंह पंजाब से कोटा पहुंच गया था और डेढ़ साल पहले कोटा के कुन्हाड़ी क्षेत्र में फुटपाथ पर बेसुध लावारिस हाल में अपना घर संस्था को दलजीत मिला था. अपना घर संस्थान ने दलजीत को अपने पास रखा और उसकी देखरेख शुरू की. 

17 साल बाद खत्म हुआ दलजीत का इंताजार: 
काउंसलिंग के दौरान दलजीत ने अपने घर पंजाब के कपूरथला में होना बताया तो अपना घर संस्थान के सदस्यों ने कोटा पुलिस की मदद से कपूरथना पुलिस से संपर्क साधा और दलजीत के फोटो और वीडियो के आधार पर परिजनों की तलाश करवाई. काफी जद्दोजहद के बाद आखिरकार वो घड़ी आ गई जिसका 17 सालों से दलजीत और परिजनों को इंतजार था. जैसे ही परिजनों को दलजीत के कोटा में होने की खबर लगी तो उसके परिजन आज कोटा पहुंचे और दलजीत को अपने सामने पाकर उनके आंख भर आई. दलजीत के भाई साहर सिंह ने अपने बड़े भाई को बाहों में भर लिया और खुशी के आंसू छलक पड़े. अपना घर संस्थान कलेक्टर ओम कसेरा की मौजूदगी में दलजीत को उसके परिजनों के सुपुर्द किया और उसके परिजन दलजीत को लेकर कपूरथला रवाना हुए. दलजीत के परिजन दलजीत के वापस मिलने की उम्मीद खो चुके थे. इसलिये उसको मृत मानकार तमाम क्रियाक्रम भी कई साल पहले कर चुके थे.  

और पढ़ें

Most Related Stories

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के पिता का निधन, पीएम मोदी, अमित शाह और सीएम गहलोत सहित कई नेताओं ने जताया शोक

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला के पिता का निधन, पीएम मोदी, अमित शाह और सीएम गहलोत सहित कई नेताओं ने जताया शोक

कोटा: प्रख्यात समाज सेवी व लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के पिता श्रीकृष्ण बिरला का निधन हो गया. 92 वर्षीय श्रीकृष्ण बिरला ने कल रात अंतीम सांस ली. उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सहित देश-प्रदेश के कई दिग्गज नेताओं ने उनके निधन पर संवेदना जताई. आज किशोरपुरा मुक्तिधाम में उनके पुत्र राजेश बिरला, ओम बिरला ने उन्हें मुखाग्नि दी. 

श्रीकृष्ण बिरला कोटा के वरिष्ठ समाजसेवी थे: 
उनकी तबियत ज्यादा खराब होने के बाद लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने मंगलवार को सभी कार्यक्रम स्थगित कर दिए थे. श्रीकृष्ण बिरला कोटा के वरिष्ठ समाजसेवी थे और कर्मचारियों की सभा 108 में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहे. सहकारिता क्षेत्र के पितामह के रूप में पहचाना जाता था.

श्रीकृष्ण बिरला का जन्म 12 जून 1929 को हुआ:
श्रीकृष्ण बिरला का जन्म 12 जून 1929 को कोटा जिले के कनवास में हुआ था. उनकी शिक्षा पाटनपोल स्कूल में हुई तथा 7 फरवरी 1949 को उनका विवाह इकलेरा निवासी शकुंतला देवी के साथ हुआ.

{related}

उनका सामाजिक क्षेत्र से गहरा जुड़ाव रहा:
राजकीय सेवा में व्यस्त रहने के बाद भी उनका सामाजिक क्षेत्र से गहरा जुड़ाव रहा. वे माहेश्वरी समाज के तीन बार अध्यक्ष रहे तथा कोटा जिला माहेश्वरी सभा के अध्यक्ष के रूप् में लगभग 15 वर्ष तक समाज की सेवा की.

सहकारिता को मजबूती प्रदान की:
श्रीकृष्ण बिरला ने कोटा में सहकार क्षेत्र को अग्रणी तथा सक्षम नेतृत्व प्रदान करते हुए सहकारिता को मजबूती प्रदान की. वे वर्ष 1963 से कोटा कर्मचारी सहकारी समिति लि 108 आर के सचिव रहे फिर लगभग 26 वर्ष तक समिति के अध्यक्ष के रूप में कार्य करते हुए कोटा कर्मचारी सहकारी समिति को राजस्थान में एक नई पहचान दिलाई. इसी कारण राजस्थान भर में वे सहकार पुरूष के नाम से भी जाने गए. 

मुंबई और बेंगलुरु में धमाके करने की धमकी देने वाला युवक कोटा से गिरफ्तार

मुंबई और बेंगलुरु में धमाके करने की धमकी देने वाला युवक कोटा से गिरफ्तार

कोटा: मुंबई और बेंगलुरु में धमाके करने की धमकी देने वाले युवक की कोटा से गिरफ्तारी हुयी हैं. इससे पहले जैसलमेर में कांग्रेस विधायकों की बाड़ाबंदी वाले होटल को उड़ाने की धमकी देने वाला भी कोटा से ही पकड़ा गया था. कोटा शहर पुलिस ने ये गिरफ्तारी शहर के भीमगंजमंडी थाना इलाके के होटल गायत्री से की हैं. मुंबई इंटेलीजेन्स के इनपुट के बाद कोटा शहर पुलिस ने दो घंटों के भीतर ही आरोपी को धर दबोचा. 

{related}

पीयूष पुरोहित ने धूले महाराष्ट्र का निवासी होना बताया: 
सिटी एसपी गौरव यादव के मुताबिक पीयूष पुरोहित ने धूले महाराष्ट्र का निवासी होना बताया जो मुलरूप से राजस्थान के जूलीयासर, थाना नेछवा-जिला सीकर का रहने वाला हैं. बहरहाल पूरे मामले में मुंबई के थाना मरीन ड्राइव और बेंगलुरु के थाना भारतीनगर में पीयूष के खिलाफ मामला दर्ज हो चुका हैं और जेआईसी की जा रही हैं. जल्द ही मुंबई पुलिस इस मामले में पीयूष को गिरफ्तार करके कोटा से मुंबई ले जाने वाली हैं. सूत्रों के मुताबिक पीयूष पिछले करीब साल भर से बेरोजगारी से परेशान था और इससे पहले वो एक कॉल सेन्टर में काम कर चुका था.  

आज विश्व पर्यटन दिवस, स्मारकों में निशुल्क पर्यटकों का प्रवेश, पुरातत्व विभाग ने जारी किए आदेश

आज विश्व पर्यटन दिवस, स्मारकों में निशुल्क पर्यटकों का प्रवेश, पुरातत्व विभाग ने जारी किए आदेश

बूंदी: कोरोना काल का साया आज विश्व पर्यटन दिवस पर देखा गया. बूंदी में विश्व पर्यटन दिवस पर बूंदी शहर के सभी पर्यटन स्थलों पर पर्यटकों के लिए निशुल्क प्रवेश रहा, लेकिन यहां पर भी निशुल्क प्रवेश होने के बाद कोरोना काल का साया देखने में मिला. बूंदी शहर के  सभी पर्यटन स्थल खाली व् सुनसान नजर आए ,कोरोना  में पहली बार ऐसा देखा गया हे की  निशुल्क प्रवेश होने के बाद भी यह सभी पर्यटन स्थल सुने हैं , सभी कार्यक्रम हो या फिर पर्यटक को से जुड़े स्वागत सहित सांस्कृतिक कार्यकम सभी रहे रद्द्द . तो कोविड  की गाइड लाइन की पालना का  संदेश देते नजर आए पर्यटन स्थल.

पर्यटकों के लिए निशुल्क प्रवेश:
विश्व पर्यटन दिवस है और विश्व पर्यटन के नक्शे पर बूंदी जिला भी एक पर्यटन नगरी के नाम से एक अपनी पहचान रखती है. कोरोना काल के चलते पहली बार विश्व पर्यटन दिवस पर होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम और विदेशी पावनों से की पर्यटन स्थल खाली नजर आए. देशी पर्यटक के लिए निशुल्क प्रवेश रहा ,पर्यटन स्थलों पर  तो , पर्यटन  स्थलों पर आने वाले पर्यटकों के लिए  कोविड-19 गाईलाइन की पर्यटन स्थलों को देखने के लिए पालना करना रहा आवश्यक. 

{related}

कोरोना गाइडलाइन का हुआ पालन:
आज विश्व पर्यटन दिवस है. बूंदी भी पर्यटन नगरी के नाम से जाना जाता है. बूंदी में चित्र शैली,कुंड ,बावड़ियाँ , तालाब , झील तारागढ़ आदि अपनी पहचान पर्यटन के क्षेत्र में बनाए हुए हैं. आज सबसे पहले विश्व पर्यटन दिवश के मोके पर  की रानी जी की बावड़ी हो या 84 खंभों की छतरी यहां पर आज पर्यटन विभाग द्वारा मिले निर्देशों के अनुरूप विभाग के अधिकारी और कर्मचारियों ने संयुक्त रूप से सफाई अभियान के कार्यक्रम का आयोजन किया , इस दौरान 84 खम्बो की छतरी और रानी जी की बावड़ी पर सफाई की गई ,तथा झाड़ू निकाल कर पानी से धुलाई भी की गई. वहीं पर्यटकों के लिए पर्यटन स्थलों पर निशुल्क प्रवेश रहा. इस दौरान कोविड-19 गाइड लाइन के अनुरूप मास्क पहनकर ही प्रवेश दिया गया. वहीं हाडोती क्षेत्र में क्षेत्रीय पर्यटन कार्यालय कोटा की ओर से एक वेब सेमीनार का आयोजन किया गया. जिसमें पर्यटन एवं ग्रामीण पर्यटन विकास के संबंध में वेब  सेमीनार आयोजित किया गया.

...फर्स्ट इंडिया के लिए भवानी सिंह हाड़ा की रिपोर्ट

जेईई-एडवांस्ड-2020: आज देशभर में दो पारियों में परीक्षा, कोटा में बनाए गए 9 परीक्षा केन्द्र 

जेईई-एडवांस्ड-2020: आज देशभर में दो पारियों में परीक्षा, कोटा में बनाए गए 9 परीक्षा केन्द्र 

कोटा: आईआईटी दिल्ली द्वारा आयोजित की जा रही जेईई-एडवांस्ड-2020 परीक्षा आज रविवार को दो पारियों में आयोजित हो रही है. जिसमें देशभर के करीब डेढ़ लाख से अधिक विद्यार्थियों के शामिल होने की संभावना है. 

कोटा में 11 वर्ष बाद परीक्षा का आयोजन:
कोटा में 11 वर्ष बाद आयोजित हुई इस परीक्षा में 9 परीक्षा केन्द्र बनाए गए हैं. इसमें  कोटा में 2412 परीक्षार्थी पंजीकृत है.पहली पारी में सुबह से ही परीक्षार्थी प्रवेश पत्र के एक आईडी प्रुफ जैसे आधार कार्ड, स्कूल आईडी, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर आईडी, पासपोर्ट एवं पेनकार्ड अपने साथ लेकर पहुंचे.

ड्रग्स मामले में बॉलीवुड के कई सितारे NCB के निशाने पर, श्रद्धा, दीपिका, और सारा अली के हुए बयान दर्ज

कोरोना गाइडलाइन का पूरा पालन:
परीक्षा केंद्र पर कोविड गाइड लाइन की पालना के साथ सोशल डिस्टेंसिंग भी रखी गई. पुलिस जाप्ता भी मौके पर मौजूद रहा. परीक्षार्थियों के परिजनों ने केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए है इसे बच्चों के भविष्य के लिए बेहतर बताया.

कृषि विधेयकों का विरोध, हरियाणा में कांग्रेस का राज्यव्यापी आंदोलन, कल राजभवन मार्च करेगी कांग्रेस

स्कूली छात्रा के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देने वाला आरोपी गिरफ्तार

स्कूली छात्रा के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देने वाला आरोपी गिरफ्तार

कोटा: जिले में डरा धमका कर स्कूली छात्रा के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी को दादाबाड़ी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी दीपक ने 17 वर्षीय स्कूली छात्रा के अश्लील फोटो खींचे और वायरल करने की धमकी देकर सुनसान इलाके में ले गया और कई बार दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. आरोपी दीपक मालव खेड़ा रसूलपुर गांव का निवासी है.

{related}

आरोपी ने छात्रा को जान से मारने की धमकी दी: 
इसके साथ ही आरोपी ने छात्रा को जान से मारने की धमकी दी और अक्टूम्बर 2019 से कर्णेश्वर महादेव, अभेडा महल व गरडिया महादेव सहित कई सुनसान इलाकों में जाकर कई बार दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. दादाबाड़ी थाना पुलिस ने खेड़ा रसूलपुरा गांव में दबिश देकर आरोपी को उनके घर से गिरफ्तार किया है. 

चंबल नदी नाव दुखान्तिका: पुलिस ने ताबड़तोड़ छापे मारकर की 5 गिरफ्तारियां

कोटा: चंबल नदी नाव दुखान्तिका मामले में पुलिस ने ताबड़तोड़ छापे मारकर 5 गिरफ्तारियां की है. ग्रामीण जिला पुलिस अधीक्षक शरद चौधरी ने बताया कि नाव डूबने के हादसे के बाद खातौली थाने में एफआईआर दर्ज की गई थी. इसके बाद आरोपियों की तलाश शुरू की तो उनके जंगल में छुपे होने की जानकारी मिली. 

इस पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पारस जैन, इटावा वृत्ताधिकारी शुभकरण और थानाधिकारी नारायण सिंह ने टीम के साथ उनकी तलाश की. इसमें आरोपी महेन्द्र मीणा , शेरगढ़ निवासी हेमराज, रामकुवार केवट, अमरलाल और गोठड़ा कला निवासी विनोद कुमार को गिफ्तार किया है. 

{related}

यातायात निरीक्षक राघव शर्मा एपीओ: 
इससे पहले परिवहन विभाग की लापरवाही मानते हुए यातायात निरीक्षक राघव शर्मा को एपीओ किया गया था. वहीं थानाधिकारी रामावतार शर्मा को लाइन हाजिर किया गया है. इसके अलावा अवैध रूप से नाव संचालन की सूचना नहीं देने पर पटवारी बनवारीलाल बैरवा और ग्राम विकास अधिकारी जोधराज गुर्जर को भी एपीओ कर दिया गया है.

राज्य सरकार के 2 मंत्री आज मिलेंगे हादसे के पीड़ितों से:
वहीं राज्य सरकार के 2 मंत्री आज हादसे से पीड़ित व उनके परिजनों से मिलेंगे. जिले के प्रभारी मंत्री लालचंद कटारिया और नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल मौके पर पहुंचकर हालात का जायजा लेंगे. दोपहर 2 बजे के करीब बरनाहाली व तलाव गांवों में मृतकों के परिजनों से मिलेंगे. इसके साथ ही पीड़ितों को प्रधानमंत्री सहायत कोष से भी मदद मिलने की उम्मीद जताई जा रही है. लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने मृतकों के परिजनों से फोन पर बात करते हुए कहा कि संसद सत्र समाप्त होने पर मैं आप लोगों से आकर मिलूंगा. 


 

VIDEO: चम्बल नदी हादसे में सभी 13 डूबे लोगों के शव बरामद, आज भी मिले दो किशोरियों के शव

कोटा: चंबल नदी में बुधवार सुबह हुए दर्दनाक नाव हादसे में सभी 13 डूबे लोगों के शव बरामद हो गए हैं. आज भी 2 किशोरी, ज्योति और गोलमा के शव मिले हैं. इन दोनों के शव गोठड़ा घाट से करीब 7 किमी दूर ठीकरदा में चम्बल के किनारे मिले हैं. अब तक 5 पुरुष, 4 महिलाओं और 3 बालिका, 1 बालक का शव मिल चुके हैं. DSP शुभकरण खींची के अनुसार अब कोई मिसिंग नाम नहीं है. इसलिए रेस्क्यू ऑपरेशन पूर्ण होने की उम्मीद है. हालांकि एहतियातन नदी में तलाश का एक और दौर चलाया जा रहा है. 

10 बाईक के साथ 20 की क्षमता वाली नाव में 32 लोग सवार थे: 
दरअसल बुधवार को चौहदस का मौका होने पर नाव सवार लोग इंदरगढ़ कस्बा स्थित कमलेश्वर मंदिर के दर्शन करने के लिए जा रहे थे. नाव में 10 बाईक के साथ 20 की क्षमता वाली नाव में 32 लोग सवार थे. ऐसे में वजन ज्यादा होने के कारण यह हादसा हुआ. इसमें 19 लोगों को बचा लिया गया है. यह हादसा कई परिवारों को जिंदगी भर के लिए न भरने वाला जख्म दे गया.

{related}

हादसे की सूचना मिलते ही ग्रामीण मौके पर पहुंचने लगे:
हादसे की सूचना मिलते ही ग्रामीण मौके पर पहुंचने लगे. जिन लोगों के परिजन कमलेश्वर धाम जाने के लिए निकले थे, वे भी मौके पर पहुंच गए. जिन ग्रामीणों को अपने परिजन मौके पर नहीं मिले तो चिंता बढ़ गई. नदी किनारे बैठे परिजन इस उम्मीद से रेस्क्यू ऑपरेशन देखते रहे कि काश उनके परिजन जिंदा वापस मिल जाएं. जैसे-जैसे समय बीतता गया, उम्मीद भी टूटती गई. नदी से जैसे-जैसे शव निकलते रहे, परिजनों की चीख-पुकार बढ़ती चली गई. 


 

कोटा: चंबल नदी में पलटी नाव, अब तक 8 लोगों के शव निकाले जा चुके बाहर, 14 लोगों के डूबने की पुष्टि

कोटा: जिले की सीमा के आखिरी क्षेत्र खातौली क्षेत्र के गोठड़ा गांव में आज सुबह एक नाव चम्बल नदी में डूबने से बड़ा हादसा हो गया. इस नाव में 30 से 35 लोग सवार थे. कलेक्टर उज्ज्वल राठौड़ के अनुसार 14 लोगों के डूबने की पुष्टि हुई है. इनमें से अब तक 8 लोगों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं. बाकी लोग अभी लापता बताये जा रहे हैं. हादसे की जानकारी मिलने पर कोटा और सवाई माधोपुर से रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची है. अब तक स्थानीय स्तर पर नाविकों के सहारे शव निकाले गए हैं. 

हादसे की सूचना मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया: 
जानकारी के अनुसार हादसा खातौली इलाके में बुधवार को सुबह-सुबह गोठड़ा कला गांव के पास हुआ. हादसे के शिकार हुये ग्रामीण नाव से कमलेश्वर धाम दर्शन के लिए जा रहे थे. इसी दौरान अचानक नाव पलट गई और सभी लोग नदी के पानी में बह गये. हादसे की सूचना मिलते ही प्रशासन में हड़कंप मच गया. आनन-फानन में प्रशासन पुलिस और राहत बचाव दल के साथ मौके पर पहंचा और पानी में डूबे लोगों की तलाश के लिये रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया.

{related} 

लकड़ी की नाव की हालत पहले से खराब थी:
लोगों ने बताया कि लकड़ी की नाव की हालत पहले से खराब थी. इसके बाद भी क्षमता से ज्यादा यात्रियों को बैठाया गया था. साथ ही नदी पार करवाने के लिए नाव पर बाइकें भी बांध दी गई थीं. इस वजह से नाव वजन नहीं सह सकी और डूब गई. 

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने हादसे पर चिंता जताई: 
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने हादसे पर चिंता जताई है. लोकसभा सचिवालय ने जिला प्रशासन से संपर्क साधकर मामले की पूरी जानकारी ली है. कोटा से एसडीआरएफ टीम मौके पर पहुंच चुकी है. वहीं यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने भी जिला प्रशासन से फीडबैक लिया है. उन्होंने राहत और बचाव कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये हैं. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ट्वीट करते हुए हादसे पर दुख जताया:
वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी ट्वीट करते हुए हादसे पर दुख जताया. उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि कोटा में थाना खातोली क्षेत्र में चम्बल ढिबरी के पास नाव पलट जाने की घटना बेहद दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है. हादसे का शिकार हुए लोगों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं. कोटा प्रशासन से बात कर घटना की जानकारी ली है. तत्परता से राहत एवं बचाव के साथ ही लापता लोगों को शीघ्र ढूंढने के निर्देश दिए हैं. स्थानीय पुलिस एवं प्रशासन घटनास्थल पर मौजूद है. प्रभावित परिवारों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से मदद के लिए निर्देश दिए हैं.

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी ट्वीट किया:
पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी ट्वीट करते हुए लिखा कि चंबल नदी में नाव पलटने की घटना हृदय विदारक है. हादसे में 7 लोगों की मौत व कई लोगों के लापता होने की सूचना है. राज्य सरकार से आग्रह है पीड़ितों को तत्काल आर्थिक एवं सामाजिक मदद पहुंचाए. ईश्वर दिवंगतों की आत्मा को शांति व परिजनों को धैर्य प्रदान करें. हादसे की जानकारी मिलने पर प्रदेशभर के कई नेताओं ने इस हृदय विदारक घटना पर संवेदना व्यक्त की है.