Jaipur: 2 दिन में 2 बिग कैट्स की मौत से मचा हड़कंप, बायोलॉजिकल पार्क में आज हुई एशियाटिक लॉयन सिद्धार्थ की मौत

Jaipur: 2 दिन में 2 बिग कैट्स की मौत से मचा हड़कंप, बायोलॉजिकल पार्क में आज हुई एशियाटिक लॉयन सिद्धार्थ की मौत

जयपुर: राजधानी जयपुर के नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क से एक बार फिर बुरी खबर सामने आ रही है. बायोलॉजिकल पार्क में आज एशियाटिक लॉयन सिद्धार्थ की मौत हुई है. सिद्धार्थ को 2 वर्ष पूर्व गुजरात से लाया गया था. ऐसे में 2 दिन में 2 बिग कैट्स की मौत से हड़कंप मच गया है. इससे पहले कल पार्क में बाघ शावक रुद्र की मौत हुई थी. रुद्र की बॉडी में लेप्टोस्पायरोसिस के लक्षण मिले थे. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 123 नए केस आए सामने, जयपुर में मिले सर्वाधिक 40 कोरोना पॉजिटिव मरीज 

सिद्धार्थ में अभी प्रारंभिक लक्षण लेप्टोस्पायरोसिस के मिले:
एशियाटिक लॉयन सिद्धार्थ की मौत के बाद अब बायोलॉजिकल पार्क में उसका पोस्टमार्ट शुरू हो गया है. सिद्धार्थ में भी अभी प्रारंभिक लक्षण लेप्टोस्पायरोसिस के मिले हैं. ऐसे में शेष बिग कैट को भी round-the-clock मॉनिटर करने के निर्देश दिए गए हैं. 

18 साल की मन्नतों के बाद पैदा हुआ था रूद्र: 
इससे पहले मंगलवार को करीब 18 साल की मन्नतों के बाद पैदा हुए जयपुर के लाडले युवा बाघ शावक रूद्र की मंगलवार को अचानक मौत हो गई है. इससे बायोलॉजिकल पार्क प्रशासन तमाम वन्यजीव प्रेमी और बाघ प्रेमी स्तब्ध हैं. नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क प्रशासन ने मेडिकल बोर्ड गठित कर रुद्र का पोस्टमार्टम करवाया और उसके बाद उसका अंतिम संस्कार कर दिया.

कुछ दिन पहले ही शावक की बहन रिद्धि की हो गई थी मौत:
युवा बाघ रुद्रा जोकि बाघिन रंभा का शावक था. उसकी उम्र करीब डेढ़ साल थी. कुछ दिन पहले ही शावक की बहन रिद्धि की मौत हो गई थी, उसकी मौत का कारण किडनी का फेल होना बताया गया था. इन हालात में फिलहाल यह कहना मुश्किल है कि कहना मुश्किल है कि रुद्रा की मौत की असली वजह क्या है, नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क प्रशासन का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आने के बाद ही मौत का असली कारण बताया जा सकेगा. 

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान ने एक बार फिर सील की अपनी सीमाएं, शर्तों के साथ मिलेगी एंट्री 

बाघ शावक ने कह दिया दुनिया को अलविदा:
लेकिन मंगलवार सुबह तक बाघ के तमाम लक्षण सामान्य थे. ऐसे में समझना मुश्किल है कि अचानक युवा बाघ की मौत कैसे हो गई। यहां एक दुखद जानकारी यह भी है 18 साल के लंबे प्रयासों के बाद में नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क में या यूं कहें कि पूरे पूरे कहें कि पूरे पूरे कि पूरे पूरे जयपुर में पहली बार 2 बाघ शावकों का जन्म हुआ था. बदकिस्मती से दोनों ही बाघ शावक अब इस दुनिया को अलविदा कह गए हैं गए हैं. 


 

और पढ़ें