Live News »

गुर्जर आरक्षण आंदोलन का असर बढ़ा, 2 दर्जन ट्रेनें बाधित

गुर्जर आरक्षण आंदोलन का असर बढ़ा, 2 दर्जन ट्रेनें बाधित

जयपुर। गुर्जर आरक्षण आंदोलन का असर बढ़ता जा रहा है और इससे यात्रियों के लिए परेशानी लगातार बढ़ रही है। आज भी दो दर्जन ट्रेनों का संचालन बाधित रहा। बड़ी संख्या में ट्रेनें रद्द करने से रेल यात्रियों को तो परेशानी हो ही रही है, साथ ही रेलवे प्रशासन को भी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। वहीं रोडवेज के लिए भी परेशानी बढ़ गई है।

गुर्जर आरक्षण आंदोलन के चलते प्रदेश में रेल और रोडवेज की सेवाएं बुरी तरह से प्रभावित हो रही हैं। इससे रेल और रोडवेज बसों के यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। आज भी दो दर्जन ट्रेनों का संचालन बाधित रहा। पूर्व में जब दिल्ली-मुम्बई ट्रैक पर ही ट्रेनें बाधित हो रही थीं, लेकिन 2 दिन पहले जब आंदोलनकारियों ने जयपुर से सवाईमाधोपुर के बीच भी ट्रैक पर कब्जा किया तो इससे जयपुर से मुम्बई रूट की तरफ चलने वाली ट्रेनें भी संचालित नहीं हो पा रही हैं। इसी वजह से आज भी दो दर्जन ट्रेनों का संचालन रद्द या आंशिक रद्द किया गया है, वहीं कुछ ट्रेनों को मार्ग बदलकर चलाने की कोशिश की जा रही है।

ये ट्रेनें रद्द :
- ट्रेन 16854 मन्नारगुडी-भगत की कोठी 18 फरवरी को रद्द
- 12975 मैसूर-जयपुर एक्सप्रेस 16 फरवरी को रद्द
- 18632 अजमेर-रांची एक्सप्रेस 16 फरवरी को रद्द
- 22981 कोटा-श्रीगंगानगर एक्सप्रेस आज रही रद्द
- 22982 श्रीगंगानगर-कोटा एक्सप्रेस आज रद्द
- 12963 हजरत निजामुद्दीन-उदयपुर आज रद्द
- 12964 उदयपुर-हजरत निजामुद्दीन आज रद्द
- 19808 जयपुर-कोटा आज रद्द
- 14813 जोधपुर-भोपाल आज रद्द
- 19807 कोटा-जयपुर आज रद्द
- 12465 इंदौर-जोधपुर आज रद्द
- 12466 जोधपुर-इंदौर आज रद्द
- 59806 बयाना-जयपुर पैसेंजर आज रद्द
- 59805 जयपुर-बयाना पैसेंजर आज रद्द
- 12968 जयपुर-चेन्नई सेंट्रल आज रद्द
- 12967 चेन्नई सेंट्रल-जयपुर 17 फरवरी को रद्द
- 12980 जयपुर-बांद्रा टर्मिनस आज रद्द
- 12979 बांद्रा टर्मिनस-जयपुर कल रहेगी रद्द
- 12974 जयपुर-इंदौर आज रद्द
- 12973 इंदौर-जयपुर कल रहेगी रद्द
- 59802 फुलेरा-जयपुर और 59801 जयपुर-फुलेरा आज रद्द
- 18246 बीकानेर-बिलासपुर 17 फरवरी को रद्द
- 12978 अजमेर-एर्नाकुलम आज रद्द

इन दो दर्जन ट्रेनों के अलावा 5 ट्रेनों को आंशिक रद्द और 5 के मार्ग में बदलाव किया गया है। ट्रेनों का संचालन प्रभावित होने से रेल यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। जयपुर से मुम्बई रूट पर जाने वाले यात्रियों को ट्रेनें नहीं मिल पा रही हैं। एक अनुमान के मुताबिक, रेलवे प्रशासन को रोज 3 करोड़ से ज्यादा नुकसान हो रहा है, वहीं राजस्थान रोडवेज में भी परेशानी बढ़ गई है। दरअसल, आज दोपहर में बूंदी से हिंडौली के बीच जाम लगाने से बसें नहीं चल पा रही हैं। अब कोटा की बसें बंद हो गई हैं, आगरा रूट के लिए बसें पहले से बंद चल रही हैं।

रोडवेज को रोज 30 से 35 लाख रुपए का नुकसान :
- कोटा रूट पर चलती हैं रोज 158 रोडवेज बसें
- इनमें से 8 से 10 बसें ही चल पा रही हैं देवली तक
- आगरा रूट पर चलती हैं रोडवेज की 198 बसें
- इनमें से 5-7 बसें ही जा पा रही हैं दौसा तक
- सिंधीकैम्प रोडवेज प्रशासन को 12 से 15 लाख रुपए का नुकसान
- वहीं रोडवेज को प्रदेशभर में 30 से 35 लाख का रोज नुकसान

ट्रेनों और बसों का संचालन प्रभावित होने से रोजाना जयपुर से आने-जाने वाले 20 से 30 हजार यात्री परेशान हो रहे हैं। इन यात्रियों को कोई विकल्प भी नहीं मिल पा रहे हैं। ऐसे में बड़ी संख्या में यात्री अपने कार्यक्रम स्थगित करने को मजबूर हैं।

और पढ़ें

Most Related Stories

यूथ कांग्रेस चुनाव सियासत, अशोक चांदना ने कहा परिणाम रोके जाये

यूथ कांग्रेस चुनाव सियासत, अशोक चांदना ने कहा परिणाम रोके जाये

जयपुर: प्रदेश यूथ कांग्रेस के चुनाव परिणाम आने के बाद से ही सियासत उफान पर है. खेल मंत्री और पूर्व यूथ कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चांदना ने भी परिणामों पर आपत्ति जताई है. चांदना ने कहा कि यूथ कांग्रेस के निरंतर बदल रहे चुनाव परिणाम से कांग्रेस की तरफ उम्मीद भरी निगाहों से देख रहा प्रदेश का युवा ठगा हुआ महसूस कर रहा है.

Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

निष्पक्ष जांच न हो तब तक इस चुनाव परिणाम पर रोक लगा देनी चाहिए:
उन्होंने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस ने रिपोर्ट दर्ज कराकर चुनाव हैक होने की बात स्वीकार की है ऐसे में मेरा मानना है कि जब तक किसी भी स्वतंत्र एजेंसी से इसकी निष्पक्ष जांच न हो तब तक इस चुनाव परिणाम पर रोक लगा देनी चाहिए. कांग्रेस पार्टी में आम युवा की भागीदारी को लेकर आदरणीय राहुल गांधी का जो सपना था, वो आज हैकर्स के हाथों दम तोड़ता नजर आ रहा है, जो कि दुःखद है.

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार' 

अवैध शराब और हथकढ़ शराब बेचने की शिकायतें मिलने के बाद आबकारी विभाग की टीम जगह-जगह दे रही दबिश

अवैध शराब और हथकढ़ शराब बेचने की शिकायतें मिलने के बाद आबकारी विभाग की टीम जगह-जगह दे रही दबिश

जयपुर: लॉक डाउन के दौरान राजधानी और राजधानी के आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध शराब और हथकढ़ शराब बेचने की आबकारी विभाग को लगातार शिकायतें मिल रही थी. इसके बाद आबकारी आयुक्त बीसी मलिक ने सभी जिला आबकारी अधिकारियों को अवैध शराब व हथकढ़ शराब पर कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए. इसके बाद आबकारी विभाग ने जयपुर ग्रामीण के जिला आबकारी अधिकारी बाबूलाल जाट और सहायक आबकारी अधिकारी निरोधक दल नरेश शर्मा के नेतृत्व में 2 दिन से विशेष अभियान छेड़ दिया है. 

Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

आबकारी विभाग की टीम जगह-जगह दे रही दबिश: 
विशेष अभियान के तहत कल शाहपुरा और चोमू क्षेत्र के गांव अकोडीया, ढूंढ नदी ऐरीया बगरीया, बगरीया गांव, सितारामपुरा, अचलपुरा गांव, अचलपुरा बंधा ऐरीया, सामभरीया क्षेत्र में गांव में दबिश दी गई. इस दौरान निजी खातेदारी और सरकारी भूमि में शराब के काले कारोबार में जुटे लोगों ने खेतों में दबाकर उत्तेजित वाट रख रखी थी और बच्चियों के जरिए हथकढ़ शराब तैयार कर रहे थे. आबकारी विभाग की टीम ने मौके पर ही करीब 3000 लीटर वाश नष्ट किया. आज भी आबकारी टीमों ने शाहपुरा के पास ना गांव में 3000 लीटर से ज्यादा वॉश नष्ट किया और हथकढ़ शराब बनाने के लिए चलाई जा रही 10 से अधिक भट्टी भी नष्ट की. 

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार' 

घरों में हीं रहकर लोगों ने मनाई शब-ए-बारात, देश और दुनिया की हिफाजत के लिए की गई देशभर में दुआ

घरों में हीं रहकर लोगों ने मनाई शब-ए-बारात, देश और दुनिया की हिफाजत के लिए की गई देशभर में दुआ

जयपुर: कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर मुसलमान भाइयों ने प्रदेशभर में घरों में रहकर हीं शब-ए-बारात मनाई. प्रदेश में किसी भी कब्रिस्तान, दरगाह और मस्जिद में सजावट नहीं दिखी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आह्वान के बाद धर्मगुरूओं, उलेमाओं, जनप्रतिनिधियों की अपील का असर चारो तरफ देखा गया.

Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

लोगों ने अपने घरों में ही रहकर घरों में ही रहकर मोमबत्ती जलाकर इबादत की: 
गुरुवार की शाम मगरिब की अजान होने के साथ शब-ए-बारात की शुरुआत हुई. लोगों ने अपने घरों में ही रहकर मोमबत्ती जलाकर इबादत की तो वही पूरी रात जागकर नमाज व कुरान की तिलावत करते रहे. अजमेर दरगाह के पैगाम को लेकर पुरे देशभर के मुसलमानों ने देश और दुनिया के लोगों को कोरोना महामारी से बचने व अपने मूल्क में नहीं फैलने की दुआएं मांगी. 

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार' 

VIDEO: टीम गहलोत के जज्बे की दास्तां, Corona को हराने में जुटे सूबे के 'कर्णधार'

जयपुर: पूरा प्रदेश जब कोरोना संकट से जूझ रहा है, तो कुछ ऐसे योद्धा भी है, जो अग्रिम पंक्ति में खड़े होकर प्रदेश की जनता की रक्षा के लिए इस वायरस से जंग लड़ रहे हैं. इन योद्धा में सबसे आगे सेनापति की तरह डटे हैं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, जिनका न अब सोने का ठिकाना है और न खाने का. बस मन में एक ही संकल्प, प्रदेश को कोराना महामारी से जंग जिताकर ही दम लें. 

 Coronavirus Updates:  राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर 

गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए:
प्रदेश में जब विकास का खाका खिंचा जा रहा था और विधानसभा में बजट पास हुआ था, तब ही एक चिंता भरी खबर आई कि इटली का एक नागरिक कोराना पॉजिटिव पाया गया है. चिंता इसलिए गहरी थी क्योंकि यह नागरिक राजधानी जयपुर सहित प्रदेश के कई इलाकों में रुका था. अब इस घटना के बाद प्रदेश में सबकुछ बदल गया. सीएम गहलोत जहां बजट के अनुसार प्रदेश के विकास का सपना देख रहे थे, अचानक सेनापति की भूमिका में आकर खड़े हो गए, क्योंकि अब जंग ऐसे अद्श्य दुश्मन से होनी थी, जिसने पूरी द़ुनिया में हाहाकर मचा रखा था. गहलोत घबराए नहीं, बल्कि इस वायरस से जंग में सबसे आगे आकर खड़े हो गए. तुरंत फैसले लिए और साथ ही एक ऐसी टीम बनाई, जो दिन रात कोराना से जंग में लड़ाइ लड़ सके. सेनापति की भांति खुद गहलोत मोर्चे पर डटे है. एक तरफ लोगों से बीमारी से बचाने का जिम्मा है, तो दूसरी तरह गरीब, बेसहारा व जरूरतमंदो को भूखा न सोने देने का दृढसंकल्प. कोराना से जंग में प्रदेश के इस योद्धा न अब तक क्या क्या किया इस पर एक नजर डाल लेते हैं. 

- 18 मार्च को पूरे प्रदेश में धारा 144 लगाने की घोषणा की
- 21 मार्च को पूरे प्रदेश में लॉकडाउन करने का फैसला
- लॉकडाउन करने वाला देश का पहला राज्य बना राजस्थान
- राजस्थान का अनुसरण फिर अन्य राज्यों व केंद्र ने किया
- जनता के जीवन का सर्वापरि मानकर कुछ जगह कर्फ्यू लगाया
- लॉकडाउन के कारण प्रदेश की जनता की चिंता भी सताने लगे
- मजदूरों, गरीबों व असहायों के लिए विशेष प्रबंध किए गहलोत ने
- पहले 1000 फिर 1500  रुपए की नकद सहायता राशि देने का फैसला
- 'प्रदेश में कोई भूखा न सोए' अभियान का आगाज किया गहलोत ने
- सभी राजनीतिक दलों से बैठक करके कोरोना से लड़ाई में मदद मांगी
- धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं के प्रमुख से मीटिंग की मुख्यमंत्री ने
- विधायक व मंत्रियों के साथ अपना वेतन स्थगित किया गहलोत ने
- बिजली व पानी के बिल स्थगित करके जनता को बड़ी राहत दी
- चिकित्सा कर्मियों के लिए विशेष प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा की

प्रदेश में धारा 144 लगाने के बाद से लेकर अब तक कोई ऐसा दिन नहीं गया हो, जब मुख्यमंत्री ने दिन में दो से तीन मीटिंग न ली हो. वरिष्ठ अधिकारियों का कोर ग्रुप बनाया, जो तुरंत फैसले ले. अब तो सीएम ने दो टास्क फोर्स का भी गठन कर दिया है. भीलवाड़ा में तो कोराना को नाकों चने चबाकर ऐसा मॉडल स्थापित किया कि आज पूरे देश में सीएम के इस भीलवाड़ा मॉडल की तारीफ हो रही है. प्रदेश की जनता भूखी न सोए इसके लिए ऐसा अभियान छेड़ा कि आज हर कोई मदद के लिए आगे बढ़कर आ रहा है. मुख्यमंत्री ने कोविड 19 विशेष कोष भी स्थापित किया है, जिसमें लोगों ने खुले हाथों से मदद की. अब तक इस कोष में 170 करोड़ रुपए से अधिक आ गए हैं.

फोर्ब्स सूची: दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति पर कोरोना का कहर, आधे से ज्यादा की संपत्ति में गिरावट!

रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य:
कोराना से इस जंग में मुख्यमंत्री का कंधे से कंधे मिलाकर साथ दिया एक और योद्धा ने. यह योद्धा है मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव कुलदीप रांका. प्रशासन में 100 फीसदी डिलीवरी के लिए पहचान रखने वाले रांका मुख्यमंत्री की कोर टीम के प्रमुख सदस्य है. मुख्यमंत्री द्वारा लिए गए फैसलों को तुरंत पूरे प्रदेश में लागू कराना और उनकी मॉनिटरिंग करके मुखिया को रिपोर्ट देने का काम रांका ने बखूबी किया है. न दिन का चैन न रात का सुकुन. ब्यूरोक्रेसी के माध्यम से इस जंग को जीतने में अहम भूमिका निभाई है कुलदीप रांका ने. मुख्यमंत्री व रांका की प्रेरणा से ही अधिकारियों व कर्मचारियों ने आगे बढ़कर अपने वेतन में से सहयोग दिया. जब सरकार ने वेतन स्थगित करने का फैसला किया, तो कर्मचारियों ने इसका भी समर्थन किया. यह संभव हो पाया कुलदीप रांका के कारण. 

Coronavirus Updates: राजस्थान में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ पहुंचा 489, देश में चौथे पायदान पर

जयपुर: कोरोना के बढ़ते आंकड़े को लेकर राजस्थान के हालात लगातार चिंताजनक होते जा रहे हैं. पिछले 12 घंटे में 26 नए पॉजिटिव केस सामने आए है. अकेले बांसवाड़ा जिले में 12 नए केस चिन्हित किए गए हैं. इसके अलावा अलवर, भरतपुर, कोटा में एक-एक, जैसलमेर में 8 और झालावाड़ जिले में 3 नए पॉजिटिव केस सामने आए हैं. ऐसे में अब प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ 489 पहुंच गया है. 

फोर्ब्स सूची: दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति पर कोरोना का कहर, आधे से ज्यादा की संपत्ति में गिरावट!

कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मामले में चौथे पायदान पर पहुंचा राजस्थान:
वहीं दूसरी ओर लगातार बढ़ते मामलों के चलते कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मामले में राजस्थान चौथे पायदान पर पहुंच गया है. देशभर में अब तक सर्वाधिक पॉजिटिव मरीज महाराष्ट्र में चिन्हित किए गए है. उसके बाद दूसरे नंबर पर तमिलनाडु और तीसरे नंबर पर देश की राजधानी दिल्ली का नाम है. आज सुबह तक राजस्थान में 489 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. ऐसे में इस आंकड़े के साथ राजस्थान का चौथा जबकि तेलंगाना का 5वां नंबर है. 

अब 10वीं और 12वीं को छोड़कर शेष स्कूली छात्र हो सकेंगे क्रमोन्नत, लॉक डाउन जारी रहने तक नहीं ले सकेंगे निजी स्कूल अग्रिम फीस 

देश में कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 6400 से ज्यादा: 
देश में इस समय कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 6400 से ज्यादा हो गई है. इनमें से एक्टिव पेशेंट की संख्या 5709 है और कुल 199 लोगों की मौत इस वायरस के संक्रमण से हो चुकी है. हालांकि 503 मरीज इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट के मुताबिक मिले आंकड़ों के आधार पर ये जानकारी दी गई है. वहीं दुनियाभर में 16 लाख से ज्यादा लोग कोरोना संक्रमित हैं. इस वायरस से अब तक 95 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है.


 

सचिवालय में ही लॉकडाउन का उल्लंघन, अधिकारी रामगंज,सुभाष चौक क्षेत्र में रह रहे का​र्मिकों बुला रहे हैं प्रतिदिन ड्यूटी पर 

सचिवालय में ही लॉकडाउन का उल्लंघन, अधिकारी रामगंज,सुभाष चौक क्षेत्र में रह रहे का​र्मिकों बुला रहे हैं प्रतिदिन ड्यूटी पर 

जयपुर: जिस पावर सेंटर सचिवालय में लॉक डाउन के तमाम दिशानिर्देश ड्राफ्ट किये जाते हैं उसी में इसकी पालना नहीं की जा रही है. सचिवालय में कई दिनों से वरिष्ठ आईएएस अधिकारी इस लॉकडाउन की धज्जियां उडा रहे हैं. वे जयपुर की ऐसी जगहों से  कर्मचारियों और अधिकारियों को बुला रहे हैं जो अभी कोरोना की दृष्टि से हॉटस्पॉट बने हुए हैं.

ऐसी जगहों से कर्मियों को काम पर न बुलाया जाए:
मामला कार्मिक ​विभाग की प्रमुख सचिव रोली सिंह के सामने आया तो उन्होंने इसे गंभीर माना और गुरुवार को लॉकडाउन की पालना करने संबधी मोबाइल मैसेज अधिकारियों और सुरक्षा अधिकारियों को भेजकर यह सुनिश्चित करने को कहा कि ऐसी जगहों से कर्मियों को काम पर न बुलाया जाए क्योंकि इससे संक्रमण फैलने की आशंका है.कार्मिक विभाग की प्रमुख सचिव रोली सिंह की ओर से भेजे गए मोबाइल संदेश में कहा गया है कि सचिवालय में लॉकडाउन के दौरान अतिआवश्यक सेवाओं से जुडे 700 से 800 कर्मचारी और अधिकारी आ रहे हैं. 

फोर्ब्स सूची: दुनिया के अरबपतियों की संपत्ति पर कोरोना का कहर, आधे से ज्यादा की संपत्ति में गिरावट!

बहुत ही जरूरी होने पर सचिवालय बुलाया जाए:
लेकिन गंभीर बात है कि सचिवालय में तैनात वरिष्ठ अधिकारी लॉकडाउन का उललंघन करते हुए कोरोना वायरस के फैलाव के बाद हाई रिस्क जोन माने गए रामगंज और सुभाष चौक में रहने वाले कार्मिकों को सचिवालय में बुला रहे हैं. वहीं सचिवालय के अन्य विभागों में ऐसा ही हो रहा है. कार्मिक विभाग की प्रमुख सचिव रोली सिंह ने अधिकारियों को मैसेज भेज कर कहा है कि रामगंज और सुभाष चौक में रह रहे कार्मिकों को घर पर ही रहने के लिए कहा जाए और बहुत ही जरूरी होने पर सचिवालय बुलाया जाए.

अब 10वीं और 12वीं को छोड़कर शेष स्कूली छात्र हो सकेंगे क्रमोन्नत, लॉक डाउन जारी रहने तक नहीं ले सकेंगे निजी स्कूल अग्रिम फीस

अब 10वीं और 12वीं को छोड़कर शेष स्कूली छात्र हो सकेंगे क्रमोन्नत, लॉक डाउन जारी रहने तक नहीं ले सकेंगे निजी स्कूल अग्रिम फीस 

अब 10वीं और 12वीं को छोड़कर शेष स्कूली छात्र हो सकेंगे क्रमोन्नत, लॉक डाउन जारी रहने तक नहीं ले सकेंगे निजी स्कूल अग्रिम फीस 

जयपुर: अब 10वीं और 12वीं को छोड़कर शेष स्कूली छात्र क्रमोन्नत हो सकेंगे तो दूसरी तरफ लॉक डाउन जारी रहने तक निजी स्कूल अग्रिम फीस नहीं ले सकेंगे. जी हां यही फैसला लिया गुरुवार को मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता के हित में और इस तरह से संवेदनशील मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश भर में संबेदनशीलता का एक और मैसेज दिया है. CM गहलोत ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के जारी रहने तक प्रदेश के सभी स्कूल संचालकों को विद्यार्थियों से तीन माह की अग्रिम फीस नहीं लेने के निर्देश दिए हैं.

अगली कक्षा में क्रमोन्नत किया जाएं:
सीएम ने साफ कहा है कि फीस के अभाव में किसी भी छात्र का नाम नहीं काटा जाए.  10वीं एवं 12वीं बोर्ड परीक्षाओं वाले विद्यार्थियों को छोड़कर अन्य सभी स्कूली विद्यार्थियों को अगली कक्षा में क्रमोन्नत किया जाए. गहलोत ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से लॉकडाउन के दौरान स्कूलों, कॉलेजों सहित सभी शिक्षण संस्थानों में शैक्षणिक सत्र की स्थिति और आगामी सत्र की तैयारियों की समीक्षा की. सीएम गहलोत ने निर्देश दिए कि स्कूलों और कॉलेजों में यथासम्भव ऑनलाइन लेक्चर व ई-लर्निंग की व्यवस्था की जाए. ताकि विद्यार्थियों की पढ़ाई में निरन्तरता बनी रहे और वे घर पर रहकर भी समय का सदुपयोग कर सकें.

रामगंज से बाहर निकला कोरोना वायरस! एक ही दिन में एक मौत, 39 नए केस पॉजिटिव, जयपुर में मरीजों का ग्राफ पहुंचा 168

स्कूलों में नहीं होगा 15 अप्रैल से ग्रीष्म अवकाश:
प्रदेश के सभी उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा से जुडे़ संस्थानों में 15 अप्रैल से ग्रीष्म अवकाश घोषित किया जा सकता है. लेकिन स्कूलों में 15 अप्रैल से ग्रीष्म अवकाश नहीं होगा. साथ ही, राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय से सम्बद्ध संस्थानों मेें लॉकडाउन हटने के बाद आठवें सेमेस्टर की परीक्षाएं प्राथमिकता से करवाने का भी निर्णय लिया गया. उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी ने बताया कि उच्च शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालय परीक्षाओं के शेड्यूल के निर्धारण के लिए एक 5 सदस्यीय समिति बनाई है. जो लॉकडाउन हटने के बाद परीक्षाओं और आगामी शैक्षणिक सत्र के संचालन के बारे में सुझाव देगी. समिति में राजस्थान विश्वविद्यालय, जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय और मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के कुलपति तथा आयुक्त कॉलेज शिक्षा और संयुक्त शासन सचिव उच्च शिक्षा शामिल हैं.

सभी कक्षाओं की किताबें ऑनलाइन उपलब्ध:
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि सभी कक्षाओं की किताबें ऑनलाइन उपलब्ध करवा दी गई हैं. अब विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन कन्टेन्ट तैयार करने का कार्य किया जा रहा है ताकि घर पर रहकर भी बच्चे अपनी पढ़ाई जारी रख सकें. दूसरी तरफ तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने बताया कि तकनीकी शिक्षण संस्थानों में मिड सेमेस्टर परीक्षाएं ऑनलाइन पूरी कराई जा चुकी हैं. विद्यार्थियों को ई-कन्टेन्ट उपलब्ध करवाने के लिए एक यू-ट्यूब चैनल तैयार किया गया है, जिस पर 600 से अधिक लेक्चर अपलोड किए गए हैं. अध्यापकों को अधिक से अधिक ई-कन्टेन्ट तैयार करने के लिए निर्देश दिए गए हैं. Vc में मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, शासन सचिव उच्च शिक्षा शुचि शर्मा, शासन सचिव स्कूल शिक्षा मंजू राजपाल और आयुक्त कॉलेज शिक्षा प्रदीप बोरड़ सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे. आगामी दिनों में ऐसे माहौल में सरकार की कोशिश रहेगी कि e लर्निंग जैसे प्रयोगों में और आये. उम्मीद है कि महामारी संकट के दौर मे cm गहलोत कुछ अन्य नवाचारों से शिक्षा को संकट में नही आने देंगे साथ ही सबसे बड़े इस महकमे का भी संकट में पूरा सहयोग लेंगे.

सीएम गहलोत की प्रदेशवासियों से अपील, कहा-लोगों की जीवन की रक्षा के लिए जुटे स्वास्थ्यकर्मियों का करें पूरा सहयोग

...फर्स्ट इंडिया के लिए नरेश शर्मा के साथ ऐश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

सीएम गहलोत की प्रदेशवासियों से अपील, कहा-लोगों की जीवन की रक्षा के लिए जुटे स्वास्थ्यकर्मियों का करें पूरा सहयोग

सीएम गहलोत की प्रदेशवासियों से अपील, कहा-लोगों की जीवन की रक्षा के लिए जुटे स्वास्थ्यकर्मियों का करें पूरा सहयोग

जयपुर: प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेशवासियों से अपील है कि वे लोगों की जीवन की रक्षा के लिए जुटे स्वास्थ्यकर्मियों का पूरा सहयोग करें. ये स्वास्थ्यकर्मी अपनी जान जोखिम में डालकर आपकी सुरक्षा के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. ऐसे में प्रदेश को कोरोना से बचाने के लिए सबकी जिम्मेदारी है कि हम बिना किसी डर और संकोच के स्क्रीनिंग एवं जांच सहित अन्य कार्यों में स्वास्थ्यकर्मियों का आगे बढ़कर सहयोग करें. यह आपके अपने हित में है.

कोरोना महामारी: दुनियाभर में ज्यादातर स्पोर्ट्स इवेंट्स पर लगा ब्रेक, अब ये क्रिकेट टेस्ट सीरीज हुई स्थगित

सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई:
सीएम गहलोत ने निर्देश दिए है कि ड्रोन कैमरों का उपयोग कर मॉनिटरिंग को अधिक प्रभावी बनाएं, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जा सके. कोरोना संक्रमण के हॉट स्पॉट्स में प्रभावी ऑनलाइन मॉनिटरिंग के लिए कैमरे लगाकर निगरानी की जाए. इससे लोगों की आवाजाही पर पूरी नजर रखी जा सकेगी. चारदीवारी में यह प्रयोग सफल होने पर प्रदेश के अन्य जिलों में भी इस तरह की व्यवस्था की जा सकती है.

Coronavirus Updates: राजस्थान में एक ही दिन में 80 कोरोना पॉजिटिव मिले, मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 463, अकेले जयपुर में मिले 39 केस 

3 माह की अग्रिम फीस नहीं लेने के निर्देश:
कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लागू लॉकडाउन के जारी रहने तक प्रदेश के सभी स्कूल संचालकों को विद्यार्थियों से 3 माह की अग्रिम फीस नहीं लेने के निर्देश दिए हैं. फीस के अभाव में किसी भी छात्र का नाम नहीं काटा जाए. कॉन्फ्रेंस में निर्णय लिया गया कि प्रदेश के सभी उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा से जुडे़ संस्थानों में 15 अप्रैल से ग्रीष्म अवकाश घोषित किया जा सकता है, लेकिन स्कूलों में 15 अप्रैल से ग्रीष्म अवकाश नहीं होगा. साथ ही, राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय से सम्बद्ध संस्थानों में लॉकडाउन हटने के बाद आठवें सेमेस्टर की परीक्षाएं प्राथमिकता से करवाने का भी निर्णय लिया गया.

Open Covid-19